मेरी मम्मी कहती हैं सेहत के लिए ज्यादा फायदेमंद होता है मिट्टी की हांडी में जमा हुआ दही, जानिए क्या कहता है विज्ञान

अगर आपको दही का पारंपिरक गाढ़ा और मीठा स्वाद चाहिए तो कांच या प्लास्टिक के बाउल छोड़कर इसे फिर से मिट्टी की हांडी में जमाना शुरू कीजिए।
dahi ke fayde
दही बनाने के लिए पुराना दूध इस्तेमाल करना उसे बचाने का सही तरीका नहीं है। चित्र: शटरस्टॉक
मोनिका अग्रवाल Published: 28 Aug 2021, 10:00 am IST
  • 94

क्या आपको वह दही याद है जो आपकी दादी या मां अपने जमाने में मटके या मिट्टी की हांडी में जमाती थी? मैं चाहें जितनी भी कोशिश करूं पर मम्मी के जैसा स्वादिष्ट दही नहीं जमा पाती। गाढ़ा, ठंडा और मिठास भरे उसे दही का स्वाद ही अद्भुत है। मैं तो अभी तक सिर्फ इसके स्वाद पर ही फिदा थी, पर मम्मी ने बताया कि मिट्टी की हांडी में जमा दही हमारी सेहत के लिए भी साधारण दही से ज्यादा फायदेमंद होता है। तो क्यों न साइंस के पैमाने से भी मम्मी के इस दावे की जांच कर लें।  

दही हांडी और आपकी सेहत 

मम्मी का कहना है कि मिट्टी की हांडी प्राकृतिक तौर पर तापमान को कंट्रोल करती है। जो दही के लिए बहुत जरूरी है। उनका मानना है कि ज्यादा ठंडा और गर्म दोनों ही तरह का माहौल दही में मौजूद गुड बैक्टीरिया को प्रभावित करता है। जिसका असर आपकी सेहत पर भी पड़ता है। यही वजह है बाजार से खरीदा हुआ दही खाने पर सर्दी-जुकाम हो सकता है, पर घर पर मिट्टी की हांडी में जमा दही खाने से नहीं।

अब चैक करते हैं कि साइंस इस बारे में क्या कहता है। क्या वाकई  मिट्टी से बने घड़े या हांडी में जमा हुआ दही आपकी सेहत के लिए ज्यादा फायदेमंद है? 

क्या कहती हैं आहार विशेषज्ञ

कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल में डायटीशियन, डॉ. अदिति शर्मा बताती हैं कि हांडी मिट्टी से बनती है। मिट्टी में बहुत सारे प्राकृतिक मिनरल्स पाए जाते हैं।

Mitti me kafi sare minerals paye jate hai
मिट्टी में काफी सारे खनिज पाए जाते हैं। चित्र: शटरस्टॉक

जैसे- कैल्शियम, फॉस्फोरस, आयरन, मैग्नीशियम, सल्फर और अन्य प्राकृतिक तत्त्व  लेकिन इसे बनाते समय मिट्टी के प्रयोग पर भी निर्भर करता है। इन तत्त्वों से दही में फ्लेवर और न्यूट्रीशन एड होता है।

यह भी पढ़ें– इन 5 हेल्दी ब्रेकफास्ट के साथ करें अपने सप्ताह की शुरूआत, मूड और सेहत दोनों रहेंगे फिट

यहां हैं मिट्टी के बर्तन में जमे दही के स्वास्थ्य लाभ 

1 गाढ़ा और ज्यादा पौष्टिक दही : 

मटके का टेक्सचर छोटे छिद्रों वाला होता है। जिससे वह पानी को अवशोषित कर सकता है। जब आप मटके में दही बनाती हैं, तो इससे मिट्टी अधिक पानी को सोख लेती है और इसी कारण दही अधिक गाढ़ा और स्वादिष्ट बन जाता है। अगर आप किसी अन्य बर्तन में दही जमाती हैं, तो पानी दही में ही रह जाता है। जिस कारण वह अधिक पतला बनता है।

2 मिट्टी दही को तापमान के बदलाव से बचाती है  

हांडी में गरम प्रतिरोधकता होती है और यह दही को तापमान में आने वाले बदलाव से बचा सकती है। आपको पता होगा कि दही जमाने की प्रक्रिया तापमान से बहुत प्रभावित होती है। अगर तापमान घट या बढ़ जाता है, तो दही के जमने की प्रक्रिया प्रभावित होती है। लेकिन अगर आप दही को मिट्टी के बर्तन में जमाती हैं, तो वह काफी हद तक तापमान से दही को प्रोटेक्ट कर पाती है। 

3 एक अलग फ्लेवर मिलता है   

अगर आप मिट्टी के बर्तन, हांडी या मटके में दही जमाती हैं तो उसका फ्लेवर और खुशबू कुछ अलग ही होती है। जो अन्य किसी भी बर्तन में नहीं मिल सकती है। इस खुशबू के कारण ही इसे खाने का मन और अधिक करने लगता है। इससे आपका स्वाद भी बढ़ता है। 

4 मिट्टी एल्कलाइन होती है 

दही को बनाने के लिए प्रयोग होने वाली सामाग्री जैसे दूध और खटाई एसिडिक होते हैं। यह आपके दही को बहुत ज्यादा खट्टा या एसिडिक बना सकते हैं। लेकिन अगर आप दही मटके में जमाती हैं तो मिट्टी एल्कलाइन होती है। जो काफी सारे एसिड को बैलेंस कर देती है। इससे आपके दही का स्वाद में एक खास तरह मिठास शामिल हो जाती है। 

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
mitti dahi ko poshan bhi deti hai
मिट्टी दही को एक अलग स्वाद देती है। चित्र: शटरस्टॉक

अगर आप भी इस स्वादिष्ट और हेल्दी दही का लाभ लेना चाहती हैं, तो आज से ही साधारण बर्तन की बजाए मिट्टी की हांडी में दही जमाएं। पर ध्यान रखें कि दही वाली हांडी आपके पानी के मटके से अलग होती है। इसके अंदरूनी सतह चिकनी होती है। 

यह भी पढ़ें- आईबीडी का जोखिम बढ़ा सकते हैं अल्ट्रा प्रोसेस्ड फूड, जानिए क्या हो सकता है इनका हेल्दी विकल्प

  • 94
लेखक के बारे में

स्वतंत्र लेखिका-पत्रकार मोनिका अग्रवाल ब्यूटी, फिटनेस और स्वास्थ्य संबंधी विषयों पर लगातार काम कर रहीं हैं। अपने खाली समय में बैडमिंटन खेलना और साहित्य पढ़ना पसंद करती हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख