फलों के सेवन में कहीं आप भी तो नहीं करतीं ये 4 गलतियां? आज ही से जान लें फलों को आहार में शामिल करने का सही तरीका

फल सेहत के लिए बहुत जरूरी है पर इनका गलत तरीके से सेवन करना सेहत के लिए नुकसानदेह हो सकता है। यहां हम उन 4 गलतियों के बारे में बात कर रहे हैं, जो ज्यादातर लोग करते हैं।

aane fal khane ka sahi tarika
जानिए फल खाने का सही तरीका।। चित्र: शटरस्टॉक
अंजलि कुमारी Published on: 2 Feb 2023, 17:00 pm IST
  • 123
इस खबर को सुनें

फल सेहत के लिए कितने फायदेमंद हैं ये हम सभी जानते हैं। सेब, केला, संतरा, कीवी, अनानास इत्यादि जैसे विभिन्न प्रकार के फलों में अलग-अलग तरह के पोषक तत्व मौजूद होते हैं। जो हमारी सेहत के लिए काफी जरूरी हैं। परंतु क्या इन फलों का सेवन हमारी सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है? जी बिल्कुल हो सकता है! अक्सर मां, दादी और नानी हमें फल खाने के बाद पानी पीने के लिए मना करती हैं। या फिर रात को फल खाने से रोकती हैं, तो जाहिर सी बात है कि इसके पीछे जरूर कोई वजह होगी। आपको बताएं कि फल खाने का समय तरीका काफी महत्व रखता है (correct way to eat fruits)।

गलत समय पर और गलत तरीके से फल खाना आपकी सेहत के लिए काफी ज्यादा नुकसानदेह हो सकता है। कई ऐसे डाइटिशियन है जो मां और दादी की सालों पुरानी इन बातों से पूरी तरह सहमत हैं। उन्ही में से एक हैं नेहा रंगलानी। हेल्थ कोच एवं न्यूट्रीशनिस्ट नेहा रंगलानी ने अपने हालिया इंस्टाग्राम पोस्ट के जरिए फल खाने के गलत तरीके को लेकर जरूरी जानकारी साझा की है (correct way to eat fruits)। उन्होंने फल को आहार में शामिल करने के 4 गलत तरीके बताएं हैं। इन 4 तरीकों से फल को अपनी डाइट में शामिल करना आपकी सेहत के लिए नुकसानदेह हो सकता है। तो आइए जानते हैं, क्या हैं वह तरीके साथ ही जानेंगे ये किस तरह सेहत के लिए हो सकते हैं नुकसानदेह।

यह भी पढ़ें : ये 5 तरह के खाद्य पदार्थ बढ़ा सकते हैं फैटी लिवर का जोखिम, अपनी डाइट से करें इन्हें बाहर

avoid eating food in these ways
दूध की तुलना में फल जल्दी पच जाते हैं. शटरस्टॉक।

इन 4 तरीकों से फल का सेवन हो सकता है खतरनाक

1. मिल्कशेक के रूप में

मिल्कशेक बनाने में दूध और फल का इस्तेमाल किया जाता है, परंतु यह कॉम्बिनेशन बिलकुल भी हेल्दी नहीं है। दूध और फल का पाचन समय और नूट्रिएंट कम्पोजिशन अलग-अलग होती है। दूध की तुलना में फल जल्दी पच जाते हैं क्योंकि वे धूप में पहले से पके होते हैं। जब हम इन दोनों को एक साथ मिला देते हैं, तो फल में मौजूद शुगर पेट में फर्मेंट होने लगती है। जिसकी वजह से गैस, ब्लोटिंग और पेट से जुडी अन्य समस्याएं होने का खतरा बढ़ जाता है। मिल्कशेक काफी लोगो का पसंदीदा होता है, परन्तु आपका फेवरेट फ्रूट मिल्कशेक आपके शरीर के लिए धीमा जहर हो सकता है।

2. डेजर्ट के रूप में या भोजन के साथ

जब आप अपनी प्रॉपर मील ले चुकी होती हैं, तो फिर डेजर्ट के तौर पर फलों के सेवन से शरीर में केवल ब्लड शुगर लेवल बढ़ता है। वहीं यह तेजी से फैट में बदल जाता है जिसकी वजह से आपका वजन असंतुलित हो सकता है। वहीं खाने के तुरंत बाद फल खाने से यह आपकी आंतो में लंबे समय तक बना रहता है। ऐसे में पाचन संबंधी समस्याएं भी आपको परेशान कर सकती हैं। यदि आपको फल बहुत ज्यादा पसंद है तो इसकी गुणवत्ता का उचित लाभ उठाने के लिए दिन के समय इसे लंच के पहले या लंच के बाद लेने की कोशिश करें।

यह भी पढ़ें :  हेल्दी डाइजेशन के लिए डाइट में शामिल करें प्रोबायोटिक से भरपूर ये 5 प्रकार के फर्मेंटेड फूड्स

3. लेट नाईट स्नैक्स के रूप में

आजकल देर रात तक जागने का ट्रेंड बन गया है, वहीं रात को ज्यादा देर तक जागने से भूख लगती हैं। तो इस दौरान कई बार लोग फल को एक आसान और बेहतर विकल्प समझते हैं और इसे खा लेते हैं। जो की बिलकुल भी हेल्दी नहीं है। रात में शरीर को फलों में मौजूद शुगर की आवश्यकता नहीं होती क्योंकि उस समय आपका शरीर रेस्ट पोजीशन में होता है। ऐसे में शरीर में मौजूद शुगर फैट में बदलने लगते हैं, जिसकी वजह से वेट गेन का सामना करना पड़ सकता है। वहीं ऐसा करने से ब्लड शुगर का स्तर भी बढ़ सकता है। यदि आप अपने आप को स्वस्थ रखना चाहती हैं तो रात को फल का सेवन करने से बचें।

hanikarak ho sakta hai juice
हानिकारक हो सकता है जूस. उसकी जगह ताजे फलों का सेवन करें। चित्र: शटरस्‍टॉक

4. जूस के रूप में

फल विभिन्न प्रकार पोषक तत्वों एवं फाइबर से भरपूर होता है। वहीं दूसरी ओर फल को जूस में परिवर्तित करते ही फल में मौजूद सबसे महत्वपूर्ण नुट्रिशन फाइबर की गुणवत्ता खत्म हो जाती है। फाइबर के आभाव में फ्रूट जूस में मौजूद शुगर सीधे ब्लड फ्लो में अवशोषित हो जाती है और यह लिवर तक पहुंच जाती है। फिर जूस में मौजूद शुगर फैट बनकर शरीर में जमा होने लगता है। यदि आप फल के पोषक तत्वों की गुणवत्ता का उचित लाभ उठाना चाहती हैं, तो जूस की जगह फल का सेवन करना शुरू कर दें।

यह भी पढ़ें : ये 5 मेकअप मिस्टेक्स बन सकती हैं स्किन इंफेक्शन का कारण, यहां जानिए मेकअप हाइजीन के बारे में सब कुछ

  • 123
लेखक के बारे में
अंजलि कुमारी अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें