मिठास भरा जूसी फ्रूट है लीची, पर जानिए क्यों जरूरी है इसे खाने से पहले पानी में डुबोना 

यदि लीची खाने का मन कर रहा है, तो खाने से पहले उसे 2-3 घंटे तक पानी में भिगोएं। यहां हम आपको बता रहे हैं ऐसे 5 कारण, जिनकी वजह से लीची को घंटों पानी में डुबोने के बाद ही खाया जाता है।

litchi ko khane ke tareeke
इसलिए उसे पानी में डुबोना है जरूरी। चित्र:शटरस्टॉक
स्मिता सिंह Published on: 29 May 2022, 16:00 pm IST
  • 125

गर्मी के मौसम में जिन सबसे टेस्टी और जूसी फ्रूट को पसंद किया जाता है, उनमें से एक है लीची (Litchi)। मेट्रो सिटीज में लाल-लाल लीची को देखते ही अपने बिहार की याद आने लगती है। पर क्या आप जानती हैं कि इस जूसी फ्रूट को खाने का भी एक सही तरीका होता है। मेरी मां अकसर हमें लीची देने से पहले उन्हें पानी में डुबाे दिया करती थीं। इसके लिए उनके पास कई कारण हैं। तो आइए जानते हैं क्यों खाने से पहले लीची (how to eat litchi safely) को पानी में डुबो कर रखना है हेल्दी तरीका। 

भारत में कुल उत्पादन का 75 प्रतिशत लीची बिहार में होता है। इसके बाद पश्चिम बंगाल का स्थान आता है। बिहार के मुजफ्फरपुर की जूसी, पल्पी और न्यूट्रीशियस लीची तो विदेश भी भेजी जाती है। 

क्या है मां का फंडा 

याद आता है कि जब हम छोटे थे, तो बगीचे या बाजार से लीची के आने पर मां सबसे पहले लीची के गुच्छे को पानी में डाल देती थी। गुच्छे को करीब 2-3 घंटे तक पानी में छोड़ दिया जाता था। पानी में घंटों रहने के बाद ही रस भरी और अद्भुत स्वाद वाली लीची हमारी जीभ और पेट तक पहुंच पाती थी। आज हम जानेंगे कि मां लीची को घंटों पानी में क्यों डुबोए रखती थी।

सबसे पहले जानते हैं लीची से होने वाले स्वास्थ्य लाभ

1 रिसर्च के अनुसार, लीची एंटी ऑक्सिडेंट, एंटी डायबिटिक और इम्यूनोमॉड्यूलेटरी होती है।

2 सैच्युरेटेड फैट नहीं होने के कारण लीची खाने से वजन नहीं बढ़ता है।

3 विटामिन बी, विटामिन सी, नियासिन, राइबोफ्लेमिन, मैग्नीशियम, पोटैशियम, फास्फोरस मिनरल्स का बढ़िया स्रोत है लीची। इससे हमारा इम्यून सिस्टम मजबूत होता है।

4 लीची जूस, आइसक्रीम सहित फ्रूट क्रीम में भी इसका प्रयोग होता है।

 यहां हैं वे कारण, जिसकी वजह से लीची को पानी में घंटों डुबाकर रखा जाता है-

 

1 लीची की तासीर गर्म होती है। इसका थर्मोजेनिक गुण हमारी बॉडी को प्रभावित करता है। यदि हम बिना भिगोए लीची को खाएंगे, तो कॉन्सिटिपेशन, स्किन प्रॉब्लम, सिरदर्द और लूज मोशन की समस्या हो सकती है।

2 इन दिनों पेस्टिसाइड्स का प्रयोग बढ़ गया है। यदि हम लीची को सिर्फ टेप वॉटर से धोकर खा लेंगे, तो पेस्टिसाइड के दुष्प्रभावों से नहीं बच पाएंगे। इससे त्वचा और आंखों में जलन, जी मिचलाने की समस्या हो सकती है।

3 लीची खाने के बाद शरीर में गर्मी पैदा होती है। इससे हमारा डायजेस्टिव सिस्टम प्रभावित हो सकता है। गर्म होने के कारण गले में खराश होने की समस्या भी हो सकती है।

4 लीची के छिलके थोड़े सख्त होते हैं। यदि वे सूख जाते हैं, तो उन्हें पील ऑफ करना मुश्किल हो जाता है। पानी में डुबाेने से न सिर्फ छिलके पर लगी धूल-मिट्टी साफ हो जाती है, बल्कि छिलके उतारना भी आसान हो जाता है।

  1. संभव हो, तो ताजी लीची कुछ देर पानी में भिगोई हुई खाने का प्रयास करें। इससे आपको सभी पोषक तत्व मिलेंगे। यदि आप डायबिटीज की मरीज हैं और दवा ले रही हैं, तो पानी में भिगोने के बावजूद लीची सीमित मात्रा में खाएं। 

अधिक खाने से आपका ब्लड शुगर लेवल अचानक घट सकता है। लीची में ब्लड शुगर कम करने की टेंडेंसी होती है।

low blood sugar level control kare
ज्यादा लीची खाने से ब्लड शुगर लेवल कम होे सकता है। चित्र:शटरस्टॉक

 क्यों कई बार लीची खाने से बीमार पड़ जाते हैं बच्चे 

मुजफ्फरपुर से अक्सर गर्मी के दिनों में बच्चों के बीमार पड़ने, यहां तक कि मरने की भी खबरें आती रहती है। दरअसल, वहां गरीब परिवार के बच्चे सुबह खाली पेट ही ढेर सारी लीची का सेवन कर लेते हैं। 

लीची के फल में हाइपोग्लाइसीन A और मेथिलीनसाइक्लोप्रोपाइल- ग्लाइसिन नाम के टॉक्सिन्स पाए जाते हैं। हाइपोग्लाइसीन A शरीर को ग्लूकोज बनाने से रोकता है। जब खाली पेट भरपूर मात्रा में लीची खाई जाती है, तो ब्लड शुगर का लेवल तेजी से कम होने लगता है। इससे न सिर्फ चक्कर आने लगते हैं, बल्कि अत्यधिक थकान, मेमोरी लॉस यहां तक कि मृत्यु होने की भी संभावना बनने लगती है।

यहां पढ़ें:-वेट लाॅस के लिए हीरे से कम नहीं है जीरा, इन 5 तरीकों से करें इस्तेमाल 

 

  • 125
लेखक के बारे में
स्मिता सिंह स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
nextstory