स्कैल्प संक्रमण की समस्या से है परेशान, तो ट्राई करें ये 4 होममेड स्कैल्प टोनर, जानें इन्हे तैयार करने की विधि

ज्यादातर महिलाओं को हेयर फॉल, स्कैल्प इनफेक्शन, ब्रेकेज, आदि जैसी समस्याओं की शिकायत रहती है। ऐसे कुछ खास और प्रभावी होममेड हेयर टोनर हैं (DIY scalp toner), जो इस समस्या से बचाव में आपकी मदद कर सकते हैं।
सभी चित्र देखे Jaane kuch khas aur prabhavi scalp toner ke baare me.
जानें कुछ खास और प्रभावी स्कैल्प टोनर के बारे में. चित्र : एडॉबीस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 27 Mar 2024, 07:00 pm IST
  • 125

आज के समय में प्रदूषण, सूरज की हानिकारक किरणें, हीटिंग टूल्स और तरह-तरह के हेयर केयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल बालों को बुरी तरह से प्रभावित कर रहा है। इस समय ज्यादातर महिलाओं को हेयर फॉल, स्कैल्प इनफेक्शन, ब्रेकेज, आदि जैसी समस्याओं की शिकायत रहती है, इसके पीछे बताए गए फैक्टर्स जिम्मेदार हो सकते हैं। वहीं परेशानी से बचने के लिए महिलाएं अन्य केमिकल यूज्ड प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करती हैं, जो बालों को और ज्यादा नुकसान पहुंचा सकते हैं। ऐसे में बालों के प्रति सावधानी बरतना बहुत जरूरी है। कुछ खास और प्रभावी होममेड हेयर टोनर हैं (DIY scalp toner), जो इस समस्या से बचाव में आपकी मदद कर सकते हैं।

घरेलू और नेचुरल सामग्री से तैयार किए गए टोनर का प्रभाव बेहद गहरा होता है, साथ ही इनमें किसी प्रकार के केमिकल नहीं होते, इसलिए स्कैल्प पर इनका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होता। तो फिर देर किस बात के चलिए जानते हैं, इनके फायदों के बारे में साथ ही जानेंगे इन्हें किस तरह तैयार करना है।

यहां जानें कुछ खास और प्रभावी हेयर टोनर के बारे में (DIY scalp toner)

1. क्लोव हेयर टोनर

क्लोव हेयर टोनर हेयर फॉलिकल्स को स्टिम्युलेट करता है। यह स्कैल्प को कई महत्वपूर्ण विटामिन, मिनरल सहित एंटीऑक्सीडेंट की गुणवत्ता प्रदान करता है। जो स्कैल्प में ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ा देते हैं, जिससे कि स्कैल्प में ब्लड फ्लो बढ़ जाता है और स्कैल्प तक पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन पहुंचता है। इससे प्रीमेच्योर एजिंग की समस्या नहीं होती और बाल जड़ से मजबूत होते हैं। लौंग से बने इस टॉनिक में एंटीमाइक्रोबॉयल प्रॉपर्टी पाई जाती है, जो स्कैल्प इनफेक्शन और डैंड्रफ जैसी समस्याओं में कारगर होते हैं। इस प्रकार यह हेयर लॉस में भी आपकी मदद करते हैं। इसके नियमित इस्तेमाल से बालों का टेक्सचर इंप्रूव होता है, साथ ही साथ बालों में एक चमक आती है।

daant dard me laung ka tel asar karta hai.
लौंग में यूजेनॉल होता है, जिससे मालिश करने पर स्कैल्प में ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाता है। चित्र- अडोबी स्टॉक

इस तरह तैयार करें हेयर टोनर

दो चम्मच लौंग को क्रश कर लें, अब इन्हे एक कप पानी में डाल दें।
इसमें अच्छी तरह उबाल आने दें, उसके बाद पानी में एक चम्मच ऐलोवेरा जेल और एक चम्मच कोकोनट ऑयल डालकर अच्छी तरह मिक्स करें।
पानी में 15 से 17 मिनट तक उबाल आने के बाद गैस को बंद करें और पानी को अच्छी तरह से ठंडा होने दें।
फिर इसे छान कर अलग निकाल ले और स्प्रे बोतल में भर ले।
अब रात को सोने से पहले इसे अपने बालों पर स्प्रे करें और कुछ देर तक स्कैल्प को मसाज दें।

2. मेथी और गुड़हल के फूल से बना स्कैल्प टोनर

मेथी और गुड़हल के फूल से बने हेयर टोनर में मौजूद पोषक तत्व और प्रॉपर्टीज आपके स्कैल्प तथा बालों के लिए बेहद फायदेमंद होती हैं। इनका नियमित इस्तेमाल स्कैल्प पर जमे प्रोडक्ट्स को बाहर निकाल देता है साथ ही स्कैल्प को पूरी तरह से क्लीन करता है। इससे हेयर फॉलिकल्स स्वस्थ रहते हैं और हेल्दी हेयर ग्रोथ में मदद मिलती है। अगर आप भी हेयर फॉल से परेशान रहती हैं, तो इस क्लींजिंग और नौरेशिंग हेयर टोनर को जरूर अप्लाई करें।

इस तरह तैयार करें

सबसे पहले एक पानी है उसने मेथी के बीज को रात भर के लिए भिगोकर छोड़ दें।
सुबह इस पानी में गुड़हल का फूल और तुलसी की पत्तियां डालें और इन्हें एक साथ अच्छी तरह 15 से 20 मिनट तक उबलने दें।
फिर गैस को बंद कर दें, और जब ये पूरी तरह से ठंडा हो जाए तो इसे स्प्रे बोतल में निकाल लें।
अब इसे अपने स्कैल्प एवं बालों पर स्प्रे करें, और स्कैल्प को मसाज दें।
इससे ये टोनर आपके स्कैल्प में अंदर तक अवशोषित होगा और अधिक प्रभावी रूप से कार्य करेगा।

green-tea-toner
ग्रीन टी से दूर करें बालों की गंदगी। चित्र: शटर स्टॉक

3. ग्रीन टी टोनर

ग्रीन टी बेहद खास है, इसकी गुणवत्ता सेहत सहित बाल एवं त्वचा के लिए भी कमाल की होती है। इसमें मौजूद पोषक तत्व और एंटीऑक्सीडेंट की गुणवत्ता इसे स्कैल्प तथा बालों के लिए बेहद खास बना देती हैं। यह स्कैल्प को सन डैमेज से प्रोटेक्ट करता है,और स्कैल्प स्किन सेल्स को डैमेज नहीं होने देता। साथ ही बालों पर भी एक प्रोटेक्टिंग लेयर तैयार करता है, जिससे कि बाहरी प्रदूषण और सूरज के हानिकारक किरणों का प्रभाव हेयर टेक्सचर को प्रभावित नहीं करते और बालों में प्रोटीन और नमी बरकरार रहती है।

यह भी पढ़ें: विटामिन बी 12 डेफिशिएंसी भी हो सकती है हेयर फॉल के लिए जिम्मेदार, जानिए बालों के लिए क्यों जरूरी है यह विटामिन

इस तरह तैयार करें

एक कप पनी में ग्रीन टी डालें और इन्हें अच्छी तरह उबलने दें।
फिर आपको गैस बन करना है और इसे अच्छी तरह ठंडा होने देना है।
ग्रीन टी के साथ किसी भी तरह की एक्स्ट्रा इंग्रेडिएंट्स मिलाने की आवश्यकता नहीं होती है।
आप इसे स्प्रे बोतल में डालकर बाल एवं स्कैल्प पर स्प्रे कर सकती हैं। साथ ही चाहें तो कॉटन के इस्तेमाल से भी इसे अप्लाई कर सकती हैं।
रेफ्रिजरेटर में स्टोर पर 4 से 5 दिन तक इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

neem ke fayade
नीम की पत्ती एंटीसेप्टिक और एंटीबैक़टीरिअल गुणों से भरपूर होती हैं। चित्र: शटरस्टॉक

4. नीम और कुकुंबर टोनर

नीम और खीरे की गुणवत्ता से बना ये टोनर, स्कैल्प स्किन को ठंडक देने के साथ ही इसे संक्रमण से भी प्रोटेक्ट करेगा। नीम में एंटीबैक्टीरियल और एंटी इन्फ्लेमेटरी प्रॉपर्टी पाई जाती है, जो संक्रमण फैलाने वाले बैक्टीरिया के प्रभाव को रोकने के लिए इसे बेहद खास बना देती हैं। वहीं खीरा ठंडा होता है, और इसकी कूलिंग प्रॉपर्टी स्कैल्प को ठंडक प्रदान करती हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

जानें इसे कैसे तैयार करना है

एक कप पनी में नीम की पत्तियों को डालकर इसे 15 मिनट तक अच्छी तरह उबालें।
फिर गैस को बंद करें और इसे ठंडा होने दें।
इधर खीरे से उसके रस को निकाल लें।
अब नीम वाले पानी में खीरे का रस मिलाएं।
अब मिश्रण को छानकर पानी को अलग कर लें।
आपका स्कैल्प टोनर तैयार है, इसे अपने स्कैल्प एवं बालों पर अप्लाई करें।
स्कैल्प को मसाज दें फिर इसे लगा हुआ छोड़ दें।

यह भी पढ़ें: तनाव से होने वाले मसल्स टेंशन को रिलीज करती हैं ये 5 एक्सरसाइज, जानिए इन्हें कैसे करना है

  • 125
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख