Sprouted Ragi : सेहत के लिए इन 7 रूपों में फायदेमंद हो सकती है अंकुरित रागी, जानें क्या है इन्हे डाइट में शामिल करने का सही तरीका

आज के समय में बड़ों से लेकर बच्चों को जरूरी पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है, इसे पूरा करने में रागी आपकी मदद कर सकता है। आइये जानते हैं इसके बारे में सब कुछ।
sehat ke liye behad faydemand hai sprouted ragi.
सेहत के लिए बेहद फायदेमंद है स्प्राउटेड रागी। चित्र : एडॉबीस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 3 Mar 2024, 02:00 pm IST
  • 126

रागी एक बेहद खास सुपरफूड है, जो आपकी सेहत के लिए कई रूपों में फायदेमंद होता है। वहीं ये बच्चों की सेहत के लिए भी बेहद कारगर साबित हो सकता है। इसमें कई ऐसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो सेहत के लिए बेहद आवश्यक होते हैं। ऐसे में इसे स्प्राउट कर आप उसकी गुणवत्ता को और ज्यादा बढ़ा सकती हैं। वहीं बच्चों की डाइट में इन्हें शामिल करना है, तो आप रागी स्प्राउट्स को पाउडर कर इसे बच्चों को भी दे सकती हैं।

आज के समय में बड़ों से लेकर बच्चों को जरूरी पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है, इसे पूरा करने में रागी आपकी मदद कर सकता है। रागी की गुणवत्ता को ध्यान में रखते हुए आज हेल्थ शॉट्स आप सभी के लिए लेकर आया है, रागी स्प्राउट्स (sprouted ragi) के कुछ महत्वपूर्ण फायदे, साथ ही जानेंगे रागी को किस तरह स्प्राउट करना है।

जानें रागी स्प्राउट्स के फायदे (sprouted ragi benefits)

1. अमीनो एसिड से भरपूर है

रागी में कई महत्वपूर्ण अमीनो एसिड पाए जाते हैं, जो इसे उच्च गुणवत्ता वाले प्रोटीन का एक प्रभावी स्रोत बनाते हैं। यह त्वचा और बालों के स्वास्थ्य को पुनर्जीवित करने के लिए मेथिओनिन, एक सल्फर-आधारित अमीनो एसिड, वेलिन और आइसोल्यूसीन प्रदान करता है, जो मसल्स टिशु की मरम्मत करता है। वहीं थ्रेओनीन, दांतों और इनेमल के उचित गठन को सक्षम करने और मुंह को मसूड़ों की बीमारी से बचाने में मदद करता है।

2. ग्लूटेन फ्री डाइट है

बहुत से युवा वयस्क और वृद्ध लोग गेहूं जैसे अनाज में मौजूद ग्लूटेन प्रोटीन के प्रति सेंसिटिव हो जाते हैं, जो दुर्भाग्य से, भारतीय व्यंजनों में एक नियमित कंपाउंड है। रागी, ऑर्गेनिक रूप से ग्लूटेन-फ्री होता है, इसे चपाती, डोसा और मिठाई या मिठाई बनाने के लिए आसानी से गेहूं के स्थान पर इस्तेमाल किया जा सकता है। अक्सर सीलिएक डिजीज के मरीजों के लिए इसकी सिफारिश की जाती है।

ragi sehat ke liye hai behad khas
कमाल के हैं रागी के स्वास्थ्य लाभ. चित्र : एडॉबीस्टॉक

3. ब्लड शुगर को नियंत्रित रखे

रागी तत्काल ऊर्जा के लिए कैलरी और कार्बोहाइड्रेट में उच्च होता है, इसमें फाइटेट्स, टैनिन, पॉलीफेनोल्स – प्लांट केमिकल्स भी शामिल हैं, जो पाचन प्रक्रिया को धीमा कर देते हैं। यह डायबिटीज से पीड़ित लोगों में हाई ब्लड शुगर को कम करता है। ये फैक्टर्स इसे डायबिटीज के मरीजों के लिए एक बेहद खास सुपरफूड बना देते हैं। इसके अलावा यह फाइबर का एक बेहतरीन स्रोत है और इसे पचाना भी बेहद आसान होता है। इस प्रकार ये बॉडी में ब्लड शुगर को धीरे-धीरे अवशोषित करता है, ताकि ब्लड शुगर अचानक से न बढ़े।

यह भी पढ़ें: साउथ इंडियन मील का स्वाद बढ़ा देते हैं राइस पापड़, जानिए इन्हें घर पर बनाने का तरीका

4. एनीमिया की स्थिति में कारगर है

आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया हर साल अनगिनत भारतीय पुरुष, महिला और बच्चों को प्रभावित करता है, जिससे अत्यधिक थकान और उत्पादकता का स्तर कम हो जाता है। रागी आयरन का पॉवरहाउस है, जो उन लोगों के लिए वरदान के रूप में काम करता है, जिनके ब्लड में हीमोग्लोबिन का स्तर कम होता है। इस प्रकार एनीमिया की स्थिति में रागी का सेवन करने की सलाह दी जाती है।

5. नर्वस सिस्टम के कार्य को बढ़ावा दे

रागी में अमीनो एसिड ट्रिप्टोफैन का उच्य स्तर पाया जाता है, जो तंत्रिका कार्य को बढ़ाने, मस्तिष्क में मेमोरी सेंटर को सक्रिय करने और दिमाग को आराम देने में मदद करता है। ट्रिप्टोफैन सेरोटोनिन – एक न्यूरोट्रांसमीटर – के स्तर में संतुलन लाता है, रागी अच्छे मूड को बनाए रखने और अच्छी नींद को बढ़ावा देकर चिंता और अनिद्रा के इलाज में मदद करता है।

6. हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा दे

रागी में कोलेस्ट्रॉल और सोडियम की मात्रा मौजूद नहीं होती, इसलिए रागी के आटे से बने व्यंजनों का सेवन हृदय रोग से पीड़ित लोग सुरक्षित रूप से कर सकते हैं। इसके अलावा, ये डायट्री फाइबर और विटामिन बी3 या नियासिन कैसे पोषक तत्वों से भरपूर होता है, जो एचडीएल स्तर को बढ़ाने और खराब एलडीएल स्तर को कम करने में मदद करते हैं। यह हार्ट आर्टरीज में प्लाक और फैट जमा होने से बचाता है, वहीं हृदय की मांसपेशियों के कार्य को आसान बना देता है जिससे हृदय स्वास्थ्य में सुधार देखने को मिल सकता है।

sprouted ragi ke fayde
जानें क्या है इन्हे डाइट में शामिल करने का सही तरीका। चित्र : एडॉबीस्टॉक

7. प्रेगनेंसी और ब्रेस्टफीडिंग में कारगर है

रात भर रागी के दानों को अंकुरित होने दें और अगली सुबह इनका सेवन करने से प्रेगनेंट और ब्रेस्टफीडिंग मदर्स के स्वास्थ्य को बड़े पैमाने पर लाभ प्राप्त हो सकता है। रागी में आयरन और कैल्शियम का एक बेहतरीन स्रोत है, यह दूध उत्पादन को प्रोत्साहित करने और गर्भवती महिलाओं और यंग मदर्स में हार्मोनल एक्टिविटीज को संतुलित करने के लिए बेहद कारगर माना जाता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

जानें रागी को कैसे करना है स्प्राउट (how to sprouts ragi)

सबसे पहले रागी के दानों को अच्छी तरह से साफ कर लें, फिर इन्हे रात भर के लिए पानी में भिगोकर छोड़ दें।
अगली सुबह कॉटन के कपड़े में रागी को डालकर पानी को निकाल दें।
अब कपड़े में गांठ बांधे और फिर इसे किसी कंटेनर में पैक करके 2 दिनों के लिए रख दें।
2 दिन बाद जब आप कपड़ा खिलेंगी, तो आपकी रागी स्प्राउट्स हो चुकी होगी, अब आप अपने स्प्राउटेड रागी को इंजॉय करें।

जानें बच्चों को कैसे देना है रागी स्प्राउट्स (how to feed sprouted ragi to kids)

बच्चों की डाइट में स्प्राउटेड रागी को शामिल करना है, तो इन्हें सबसे पहले पाउडर के फॉर्म में बदलना होगा।
जिसके लिए आपको ऊपर बताए गए प्रक्रिया को फॉलो करते हुए रागी को स्प्राउट कर लेना है। उसके बाद इन्हें अच्छी तरह से सन ड्राई करना है, जब ये पूरी तरह से सुख जाए, तो फिर उन्हें ग्राइंडिंग जार में डालकर अच्छी तरह से ग्राइंड करते हुए एक दरदरा पाउडर बना लें।

अब आप इस पाउडर में दूध और ड्राई फ्रूट्स का पाउडर या मखाना पाउडर डालकर सभी को एक साथ मिलाकर अपने बच्चों को फीड कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें: क्या लो कार्ब्स डाइट सच में वेट लॉस में मददगार है? एक एक्सपर्ट से जानते हैं इसके फायदे और नुकसान

  • 126
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख