कुल्ला करना है एक हेल्दी आदत, ओरल हाइजीन के लिए मेरी मम्मी हमेशा फॉलो करती हैं ये 5 टिप्स

ओरल हेल्थ को मेंटेन रखने के लिए ओरल डिटॉक्स बेहद महत्वपूर्ण हो जाता है। आज हेल्थ शॉट्स आपके लिए लेकर आया है, ओरल डिटॉक्स के कुछ खास टिप्स।
सभी चित्र देखे Jaane masudo ke liye aapko kya karna chahiye
एंटी बैक्टीरियल गुणों से भरपूर जामुन का सेवन करने से दांतों का पीलापन कम हो जाता है और कैविटी से भी राहत मिलती है। चित्र : एडॉबीस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 2 Apr 2024, 08:00 am IST
  • 125

मुंह को खाद्य पदार्थों के माध्यम से नियमित रूप से हजार तरह के बैक्टीरिया और जर्म्स का सामना करना पड़ता है। वहीं खाना खाते हुए खाद्य पदार्थों का बचा हुआ हिस्सा दांत एवं मसूड़ों में फसा रह जाता है, जो बाद में दांत एवं मसूड़ों के सड़न का कारण बनता है और मुंह से बदबू आना शुरू हो जाता है। ऐसे में नियमित रूप से दातों को ब्रश करने के साथ ही, एक उचित समय के बाद ओरल डिटॉक्स भी जरूरी है। ओरल हेल्थ को मेंटेन रखने के लिए ओरल डिटॉक्स बेहद महत्वपूर्ण हो जाता है। आज हेल्थ शॉट्स आपके लिए लेकर आया है, ओरल डिटॉक्स के कुछ खास टिप्स।

योगा इंस्टीट्यूट की डायरेक्टर और हेल्थ कोच हंसा जी योगेंद्र ने ओरल हाइजीन मेंटेन रखने के लिए हफ्ते में एक से दो बार ओरल डिटॉक्स की सलाह देती हैं। साथ ही एक्सपर्ट ने ओरल डिटॉक्स के कुछ खास टिप्स भी दिए हैं। तो चलिए जानते हैं, आखिर कैसे करना है ओरल डिटॉक्स (How to maintain oral hygiene)।

जानें ओरल डिटॉक्स के कुछ प्रभावी स्टेप्स (How to maintain oral hygiene)

1. कुल्ला करें और भरपूर मात्रा में पानी पिएं

यदि आप ओरल डिटॉक्स कर रही हैं, तो सबसे पहले सामान्य पानी से अच्छी तरह से कुल्ला करें, इससे आपके मुंह में छिपे खाद्य पदार्थ को बाहर निकलने में मदद मिलेगी। उसके बाद उचित मात्रा में पानी पिएं। पानी पीने से मुंह में सलाइवा का उत्पादन बढ़ता है, साथ ही साथ माउथ ड्राइनेस नहीं होती। वहीं पेट साफ रहता है और बॉडी हाइड्रेटेड रहती है, जिससे की सांसों से बदबू आने जैसी समस्या आपको परेशान नहीं करती है।

tel se kulla karna hai fayademand
नारियल तेल से ऑयल पुलिंग स्किन के लिए भी फायदेमंद है।चित्र: शटरस्‍टॉक

2. ऑयल पुलिंग

ऑयल पुलिंग एक आयुर्वेदिक प्रैक्टिस है, जिसे कई सालों से आजमाया जा रहा है। कोकोनट ऑयल को 15 मिनट के लिए माउथवॉश के तौर पर इस्तेमाल करें, ये आपके मुंह में जमें बैक्टीरिया को पूरी तरह से बाहर निकाल देते हैं। कोकोनट ऑयल में माइक्रोबॉयल प्रॉपर्टीज पाई जाती है, जो दांतों पर जमें प्लाक और झनझनाहट को कम कर देती हैं। 4 चम्मच कोकोनट ऑयल को मुंह में लें और कुल्ला करें।

यह भी पढ़ें: मामूली से लेकर गंभीर भी हो सकते हैं होंठों में सूजन आने के संकेत, जानिए इसका कारण और बचाव का तरीका

3. नीम ऑयल

नीम ऑयल को आयुर्वेद में बेहद खास माना जाता है। इसमें एंटी इन्फ्लेमेटरी, एंटीऑक्सीडेंट और एंटीसेप्टिक प्रॉपर्टीज पाई जाती है, जो आपके समग्र ओरल हेल्थ के लिए बेहद फायदेमंद होती हैं। इसका इस्तेमाल दांत एवं मसूड़ों की सेहत को बनाए रखता है, साथ ही साथ झनझनाहट को कम करता है। नीम ऑयल को पानी के साथ मिलाकर माउथ वॉश करें, यह दांतों पर प्लाक को जमा नहीं होने देता। साथ ही गम ब्लीडिंग, झनझनाहट आदि को कम करता है। हफ्ते में एक से दो बार इसका इस्तेमाल जरूर करें। यह सासों की बदबू से भी राहत प्रदान करेगा।

4. ग्रीन टी

ग्रीन टी रिफ्रेशिंग ड्रिंक से कहीं अधिक फायदेमंद साबित हो सकती है। यह बैक्टीरिया से लड़ने में बेहद प्रभावी रूप से कार्य करता है और सांसों की बदबू से लड़ता है। आप ठंडे ग्रीन टी का सेवन करने के साथ ही इसे ठंडा कर कुल्ला कर सकती हैं। यह आपके मुंह में किसी भी प्रकार के हानिकारक बैक्टीरिया को पनपने नहीं देगा।

green tea se ho skta hai nuksaan
ग्रीन टी में पॉलीफेनोल्स गुण होते हैं। चित्र : एडॉबीस्टॉक

5. टी ट्री ऑयल

टी ट्री ऑयल एसेंशियल ऑयल में एंटी इन्फ्लेमेटरी, एंटीबैक्टीरियल, और एंटी फंगल प्रॉपर्टी पाई जाती है। साथ ही यह एंटीसेप्टिक होता है और नेचुरल डिओडरेंट, हाउसहोल्ड क्लींजर के तौर पर काम करता है। इसके अलावा इसमें स्किन हीलिंग बेनिफिट्स भी होती हैं। अब आप सोच रही होगी यह माउथ डिटॉक्स करने में किस तरह से कारगर होता है? तो आपको बताएं कि टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल दांतों में महसूस होने वाली सेंसिटिविटी को कम करते हुए झनझनाहट की स्थिति में राहत प्रदान करता है। आप इसे पानी में डाइल्यूट कर माउथवॉश के तौर पर इस्तेमाल कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें: Poor digestion signs : सांसों में बदबू और शुगर क्रेविंग समेत ये 10 संकेत बताते हैं कि आपको अपने पाचन पर है ध्यान देने की जरूरत

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
  • 125
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख