आखिर शादी में क्यूं लगाई जाती है हल्दी? यहां जानिए इसका ट्रेडिशनल और वैज्ञानिक कारण

पारंपरिक चिकित्सा प्रणाली में, मोच और चोट के कारण होने वाली सूजन के इलाज के लिए इसका बड़े पैमाने पर उपयोग किया जाता रहा है। इन दिनों ज्यादातर ब्यूटी प्रोडक्ट्स में हल्दी है।

SKIN KE LIYE HALDI KE FAYDE
यहां हैं त्वचा पर हल्दी लगाने के कुछ बेमिसाल फायदे। चित्र शटरस्टॉक।
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published on: 17 December 2022, 14:00 pm IST
  • 148

हल्दी हमारे किचन में रोज इस्तेमाल होने वाला मसाला है। इसे भी और मसालों की तरह ही उपयोग नें लिया जाता है, पर क्या आपने कभी सोचा है कि शादियों में हल्दी क्यूं लगाई जाती है। क्या ये सच में दुल्हन को गोरा और सुंदर दिखने में मदद करती है? तो आइए जानते है हल्दी के बारे में सब कुछ।

हल्दी को ‘भारत का सुनहरा मसाला’‘ (Golden Spice of India) के रूप में भी जाना जाता है। सदियों से भारत में हल्दी का उपयोग औषधि के रूप में किया जाता रहा है। इसका उपयोग पारंपरिक चिकित्सा में अलग-अलग रोगों के घरेलू उपचार के रूप में किया जाता है। जिसमें पित्त संबंधी समस्या, एनोरेक्सिया, खांसी, मधुमेह जैसे रोग शामिल हैं।

चिकित्सा में भी इस्तेमाल होती रही है हल्दी

हल्दी का उपयोग सदियों से आयुर्वेदिक चिकित्सा में भी किया जाता रहा है। जो जड़ी-बूटियों के औषधीय गुणों को भोजन के साथ जोड़ती है। औषधीय लाभों के कारण हल्दी ने पश्चिम और पूरे विश्व में सुर्खियां बटोरी हैं।

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ फार्मास्युटिकल साइंसेज एंड रिसर्च के अनुसार ‘भारत में वैदिक संस्कृति में हल्दी का उपयोग लगभग 4000 वर्ष पुराना है।’ हल्दी को शुभ माना जाता है और यह धार्मिक अनुष्ठानों में भी इस्तेमाल की जाती है। पारंपरिक चिकित्सा प्रणाली में, मोच और चोट के कारण होने वाली सूजन के इलाज के लिए इसका बड़े पैमाने पर उपयोग किया जाता रहा है।

हल्दी के बारे में क्या कहता है विज्ञान

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ फार्मास्युटिकल साइंसेज एंड रिसर्च के अनुसार ‘इसे ‘हरिद्रा’ या ‘हल्दी’ के नाम से भी जाना जाता है। हल्दी में प्रोटीन (6.3%), वसा (5.1%), खनिज (3.5%), कार्बोहाइड्रेट (69.4%) और नमी (23.1%) होती है। करक्यूमिन (Curcumin) हल्दी का प्रमुख करक्यूमिनोइड है।

अन्य दो डेस्मेथॉक्सीकरक्यूमिन और बिस्डेमेथॉक्सीकरक्यूमिन हैं। करक्यूमिन (Curcumin) हल्दी को पीला रंग देता है और इसे अधिकांश मेडिकल गुणों के लिए जिम्मेदार माना जाता है। अनुमान है कि 2-5% हल्दी करक्यूमिन (Curcumin)है।’

भारत, बांग्लादेश और पाकिस्तान के कुछ हिस्सों में शादी से पहले दूल्हा-दुल्हन की त्वचा पर हल्दी का पेस्ट लगाया जाता है। यहां माना जाता है कि यह त्वचा को चमकदार बनाती है और हानिकारक बैक्टीरिया को शरीर से दूर रखती है।

हल्दी का उपयोग वर्तमान में कई तरह के सनस्क्रीन के निर्माण में किया जाता है। हल्दी पर आधारित फेस क्रीम बनाने में कई बहुराष्ट्रीय कंपनियां शामिल हैं।

यह भी पढ़े – एक डर्मेटोलॉजिस्ट से जानिए सर्दियों में ड्राई स्किन को सॉफ्ट बनाए रखने के 5 टिप्स

हल्दी ke fayde
हल्दी और दूध आपकी स्किन के लिए बहुत अच्छे है जो आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचाने वाले कणों से लड़ते है। चित्र: शटरस्टॉक

कैसे करें स्किन लिए हल्दी का उपयोग

1. त्वचा के लिए हल्दी वाला दूध –  स्वस्थ, जवां त्वचा के लिए

हल्दी और दूध आपकी स्किन के लिए बहुत अच्छे है जो आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचाने वाले कणों से लड़ते है। दूध में मौजूद अल्फा हाइड्रोक्सी एसिड (एएचए) dead skin cells को एक्सफोलिएट करता है और त्वचा को moisturized और स्वस्थ बनाता है।

2. हल्दी और नींबू – त्वचा में निखार लाने के लिए

हल्दी चमक प्रदान करती है, और नींबू के रस में ब्लीचिंग (bleaching) के गुण होते हैं। जब इन्हे एक साथ उपयोग किया जाता है, तो ये सामग्रियां पिगमेंटेशन (pigmentation) और स्किन की रंगत खराब होने से बचाने में मदद करती हैं। नींबू में साइट्रिक एसिड होता है जो बैक्टीरिया और गंदगी के साथ pores को भी गहराई से साफ करता है। इस मास्क के नियमित उपयोग से आप देखेंगे कि आपकी त्वचा और भी अधिक, साफ और चमकदार हो गई है

3. दही और हल्दी – ग्लोइंग स्किन के लिए

दही में अच्छे बैक्टीरिया पाए जाते हैं जो आपकी त्वचा को चमकदार बनाने में मदद करते हैं। दही आपकी त्वचा को भीतर से पोषण देता है। यह ड्राई और ऑयली दोनों प्रकार की त्वचा के लिए उपयुक्त है।

4. हल्दी और शहद – अच्छी तरह से पोषित त्वचा के लिए

हल्दी और शहद का मास्क आपकी स्किन को अंदर से मॉइस्चराइज करते हुए चमकती त्वचा पाने में मदद करेगा। शहद को प्राकृतिक मॉइस्चराइजर माना जाता है, यह त्वचा को हाइड्रेट करता है। यह मुहांसे के निशान को हटाने और झुर्रियों रोकने में भी मदद करता है। हल्दी स्किन में निखार लाती है।

coconut oil
यह एक अच्छा नेचुरल त्वचा हाइड्रेट भी है जो ज्यादा सेबम उत्पादन को रोकने में मदद करता है। चित्र:शटरस्टॉक

5. हल्दी और नारियल का तेल – हाइड्रेटेड त्वचा के लिए

नारियल का तेल त्वचा को शांत (calming) करने, एंटी माइक्रोबायल (antimicrobial) और एंटीफंगल (antifungal) गुणों के लिए जाना जाता है। यह एक अच्छा नेचुरल त्वचा हाइड्रेट भी है जो ज्यादा सेबम उत्पादन को रोकने में मदद करता है।

यह भी पढ़े – क्या कुकिंग के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है बादाम का तेल? आइए जानते हैं इसके बारे में सब कुछ

  • 148
लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें