मम्मी की रसोई में मौजूद ये एक चीज़ है कई समस्याओं का उपचार, जानिए व्रत में देसी घी के फायदे

उपवास में अकसर देसी घी से बने व्यंजनों का सेवन किया जाता है। इससे न सिर्फ आप कब्ज से बचे रहते हैं, बल्कि त्वचा पर भी एक्स्ट्रा ग्लो आता है।

यहां हैं देसी घी के सेवन के 5 स्वास्थ्य लाभ। चित्र : शटरकॉक
अंजलि कुमारी Published on: 1 October 2022, 18:30 pm IST
  • 143

मां नव दुर्गा की आराधना में 9 दिनों तक उपवास रखने का प्रचलन सालों से चला रहा है। बुजुर्ग से लेकर नौजवान और बच्चे भी इस त्यौहार में उपवास रखते हैं। नवरात्रि का यह उपवास काफी लंबा होता है, ऐसे में इस दौरान अपनी सेहत को हल्के में लेना आपके लिए नुकसानदेह हो सकता है। उपवास के दौरान मेरी मम्मी देसी घी में खाना पकाने की सलाह देती हैं। उनका मानना है कि उपवास में खाए जाने वाले फूड्स पाचन के लिए भारी होते हैं, जिन्हें देसी घी पचाना आसान बनाता है। आइए जानें क्या हैं देसी घी (Desi ghee health benefits) के सेवन के स्वास्थ्य लाभ।

परंपराओं में बहुत कुछ खास होता है। पर समस्याएं तब शुरू होती हैं, जब हम परंपराओं में अपनी आधुनिकता का तड़का लगाते हैं। जैसे व्रत के दौरान बाज़ार में मिलने वाले प्रोसेस्ड चिप्स और पापड़ का इस्तेमाल करना। जबकि मेरी मम्मी नवरात्रि के लंबे उपवास के दौरान केवल देसी घी में बने खाने की सलाह देती हैं।

किसी भी त्यौहार एवं उपवास में देसी घी को शुद्ध माना जाता है और अन्य तेल के इस्तेमाल की जगह उपवास व्यंजनों को बनाने में देसी घी का इस्तेमाल किया जाता है। देसी घी व्यंजनों का स्वाद बढ़ाने के साथ ही उपवास के दौरान आपकी सेहत का भी उतना ही ख्याल रखती है। तो चलिए जानते हैं आखिर किस तरह देसी घी उपवास में हमारी मदद कर सकती है।

pet ki samasyayon me faydemand hai ghee.
घी पेट की अनेक समस्यायों में फायदेमंद होता है. चित्र : शटरसट्रॉक

यहां जानें क्यों खास है घी

घी में कई महत्वपूर्ण पोषक तत्व पाए जाते हैं। इसलिए इसका सेवन सेहत के लिए फायदेमंद होता है। खास कर यह विटामिंस का एक अच्छा स्रोत है, जैसे कि विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन डी और विटामिन के। वहीं एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टीज इसकी गुणवत्ता को और ज्यादा बढ़ा देती हैं। साथ ही यह दिल से जुड़ी बीमारी से लेकर वेट लॉस तक की समस्या में आपकी मदद कर सकता है।

अब जानें उपवास में घी का इस्तेमाल करने पर होने वाले स्वास्थ्य लाभ

1. पाचन क्रिया को स्वस्थ रखे

नेशनल लाइब्रेरी ऑफ़ मेडिसिन द्वारा 2011 में घी को लेकर किए गए एक अध्ययन के अनुसार घी ब्यूटिरिक एसिड (एक प्रकार का फैटी एसिड है) का अच्छा स्रोत होता है। डाइजेस्टिव हेल्थ को संतुलित रखता है और गत इनफॉरमेशन की संभावना को कम कर देता है। उपवास के दौरान पाचन से जुड़ी समस्याएं होना आम है। ऐसे में घी से युक्त खाद पदार्थों का सेवन हमें इन समस्याओं से निजात पाने में मदद करेगा।

2. त्वचा और बालों की सेहत के लिए फायदेमंद

उपवास में हमारे शरीर को नियमित दिनों की तुलना में कम पोषण मिलता है। इसी के साथ नवरात्र के 9 दिन लंबे व्रत में हमें सावधानी बरतने की बहुत ज्यादा जरूरत होती है। ऐसे में विटामिन से भरपूर घी से बने व्यंजन का सेवन आपकी खूबसूरती को भी बनाए रखने में मदद करेगा।

देसी घी में मौजूद हेल्दी फैट त्वचा की समस्याओं को कम करते हैं और एक प्राकृतिक ग्लो बनाए रखते हैं। इसी के साथ यह त्वचा पर होने वाले विभिन्न प्रकार की एलर्जी की समस्या में भी कारगर माना जाता है। हालांकि, यह पाचन से जुड़ी समस्याओं में कारगर होता है। ऐसे में जब आपका पेट साफ रहेगा तो त्वचा और बाल से जुड़ी समस्याएं खुद-ब-खुद परेशान नहीं करेंगी।

यह भी पढ़े – नवरात्रि व्रत के दौरान लंच और डिनर में ट्राई करें दही वाली अरबी की सब्जी, नोट कीजिए रेसिपी

3. उर्जा प्रदान करे

उपवास में अक्सर ऊर्जा की कमी का अनुभव होता है। ऐसे में घी का सेवन आपको उर्जा प्रदान करने में मदद करेगा। यह फैटी एसिड के साथ ही एंटीमाइक्रोबॉयल और एंटीफंगल प्रॉपर्टी से युक्त होता है। इसलिए व्रत के दौरान इसका सेवन आपके लिए एनर्जी का एक अच्छा स्रोत हो सकता है।

4. डायबिटीज में फायदेमंद

डायबिटीज से पीड़ित व्यक्ति के लिए कोई भी उपवास रखना कठिन होता है। परंतु आस्था और भक्ति में लोग व्रत रख लेते हैं। हालांकि, यदि आपको डायबिटीज है तो उपवास में खाई जाने वाली ज्यादातर चीजें आपके लिए हानिकारक हो सकती हैं। ऐसे में हाई ग्लाइसेमिक इंडेक्स फूड में घी ऐड करने से ब्लड शुगर लेवल पर कार्बोहाइड्रेट का प्रभाव कम हो जाता है और यह डायबिटीज की समस्या को बढ़ने से रोकती हैं।

वही इसमे मौजूद विटामिंस और अन्य कंपाउंड इम्यूनिटी बूस्ट करने में मदद करते हैं। क्योंकि डायबिटीज के दौरान अक्सर लोगों का इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है।

weight loss me kargar hai suji
वेटलॉस में मदद करे। चित्र: शटरस्टॉक

5. वजन कम करने में मददगार

घी का सेवन आपके भूख को नियंत्रित रखता है। ऐसे में व्रत के दौरान घी से बने खाद्य पदार्थों का सेवन लरमे से आपको बार बार भूख लगने की समस्या नहीं होती। क्योंकि कोई भी व्रत हो आप उसमें पूरे दिन अपने अनुसार भोजन नहीं कर सकती। व्रत में खाना खाने का एक उचित समय काल होता है। ऐसे मे घी हमारे लिए इस रूप में भी फायदेमंद हो सकती है।

वहीं अक्सर लोग घी को वजन बढ़ने का कारण बताते हैं, परंतु आपको बता दें कि यह केवल एक मिथ है। इसमें एंटी ओबेसिटी प्रॉपर्टी पाई जाती है जो कि मोटापे की समस्या को नियंत्रित रखने में मददगार हो सकती हैं। इसमें मौजूद एंजाइम हमारे पाचन क्रिया को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं, जिस वजह से भी वजन बढ़ने जैसी समस्या सामने नहीं आती।

यह भी पढ़े – व्रत में कहीं आप भी तो ओवरईटिंग नहीं कर रहीं? फास्टिंग में फैट बर्न करने के लिए याद रखें ये 5 टिप्स

  • 143
लेखक के बारे में
अंजलि कुमारी अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं।

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
nextstory