होली के बाद बालों की सेहत पर काम करना है, तो उन्हें तिल के तेल का पोषण दें

Published on: 19 March 2022, 10:00 am IST

प्री होली हेयर केयर टिप्स (pre holi hair care tips) का पालन करने के बावजूद आपके बालों को रंगों का सामना करने के बाद देखभाल की जरूरत होती है। इसलिए उन्हें तिल के तेल (sesame oil) का टॉनिक दें।

Baalo ki sehat ke liye sanjeewani hai til ka tel
बालों की सेहत के लिए संजीवनी है तिल का तेल। चित्र:शटरस्टॉक

हम जानते हैं कि कितनी भी सुरक्षा का ध्यान रखें, लेकिन होली के बाद आपके बालों को एक्स्ट्रा केयर की आवश्यकता होती है। इसलिए महंगे पार्लर सेशन और हेयर ट्रीटमेंट में निवेश करने के बजाय हम प्रभावी हेयर टॉनिक लेकर आए हैं। जी हां, हम बात कर रहें हैं तिल के तेल की। यह तेल केवल बालों के लिए नहीं, बल्कि पूरी ब्यूटी रेजीम के लगभग सभी उपायों में शामिल किया जा सकता है।

क्या आप जानते हैं कि तिल का तेल साबुन, शैंपू, त्वचा के मॉइस्चराइजर, सौंदर्य प्रसाधन और दवाओं में पाया जा सकता है? बहुत से लोग तिल के तेल का इस्तेमाल सीधे अपने बालों और स्कैल्प पर ही करते हैं। इसके पोषक तत्वों को परखने और बालों से संबंधित विभिन्न उपयोगों को देखते हैं हुए हम इसके इस्तेमाल की सलाह देते हैं।

इन हेयर प्रॉब्लम्स से राहत दे सकता है तिल का तेल

1.बालों का पतला होना और झड़ना (Thin hair and hair fall) 

तिल का तेल ओमेगा-3 और ओमेगा-6 फैटी एसिड से भरपूर होता है। ये आवश्यक वसा माने जाते हैं जो आपके शरीर को आपके आहार से प्राप्त करने की आवश्यकता होती है।

NCBI के 2017 के एक अध्ययन में कहा गया है कि इन फैटी एसिड की कमी बालों के झड़ने को प्रभावित कर सकती है। भले ही इस विषय में अधिक और कठोर शोध किए जाने की आवश्यकता है, लेकिन इन आवश्यक वसाओं को प्राप्त करने से कुछ लोगों के बालों के विकास में सुधार देखा गया है।

Baalo par rango ke dushprabhav ko rokna
बालों पर रंग के दुष्प्रभावों को रोकता है। चित्र:शटरस्टॉक

इसके लिए तिल के बीज भी अच्छे हो सकते हैं। इसके अलावा, साबुत तिल में कई पोषक तत्व होते हैं, जिनमें से कुछ को बालों के विकास में सुधार के साथ जोड़ा गया है।

अगर आपको सही पोषण नहीं मिलता है तो आपके बालों का झड़ना और उनका पतला होना तय है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि सही बिल्डिंग ब्लॉक्स के बिना बाल झड़ सकते हैं, पतले हो सकते हैं या धीरे-धीरे बढ़ते हैं।

पोषक तत्वों को जोड़ने से बालों के झड़ने और उनके पतला होने को रोकने या कम करने में मदद मिल सकती है।

2. ड्राई हेयर (Dry hair) 

यदि आपके बाल पहले से रूखे और ड्राई रहते हैं, तो होली के रंग इसे और बेजान बना सकते हैं। इसलिए तिल का तेल एक कम करनेवाला है उपाय हो सकता है। यह आपकी त्वचा को नरम करने और आपके बालों को चिकना बनाने में मदद कर सकता है। तिल के तेल में वही फैटी एसिड होते हैं जो इसे खाद्य पदार्थों के लिए उपयुक्त बनाते हैं। यह ड्राई हेयर और स्क्लैप से निपटने के लिए भी अच्छा होता है।

तिल के तेल में उसी प्रकार के फैटी एसिड होते हैं जो शैंपू, त्वचा क्रीम और मेकअप में जोड़े जाते हैं।

3. स्कैल्प का स्वास्थ्य (scalp Health)

इस तेल में मौजूद फैटी एसिड त्वचा में गहराई तक जाने में मदद करते हैं। स्कैल्प और बालों की जड़ों के आसपास सूजन और जलन के कारण बाल झड़ सकते हैं या पैच में पतले हो सकते हैं। तिल के तेल में मौजूद फैटी एसिड स्कैल्प और जड़ों को शांत करने और ठीक करने में मदद करते हैं। यह छोटे, गंजे पैच, या पतले बालों के क्षेत्रों में सुधार कर सकता है।

तिल का तेल अन्य पोषक तत्वों को स्कैल्प में अवशोषित करने में भी मदद कर सकता है। विले ऑनलाइन लाइब्रेरी (wiley online library) पर उपलब्ध चूहों पर 2010 के एक अध्ययन में पाया गया कि तिल के तेल ने ओजोन (ऑक्सीजन) को त्वचा में ले जाने में मदद की। यदि लोगों के साथ इसका समान प्रभाव पड़ता है, तो यह त्वचा के खरोंच में तेजी से उपचार कर सकता है।

Til ka tel dandruff mein kaargar hai
तिल का तेल डैंड्रफ में भी कारगर है। चित्र: शटरस्‍टॉक

4. रूसी (Dandruff) 

तिल के बीज और तिल के तेल में एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण होते हैं। यह स्कैल्प पर आम त्वचा संक्रमण को रोकने या कम करने में मदद कर सकता है। अपने स्कैल्प और बालों पर तिल के तेल का इस्तेमाल करने से डैंड्रफ को कम करने में मदद मिल सकती है, जो अक्सर फंगस या बैक्टीरिया के कारण होता है।

इस तेल में कुछ अवरोधन गुण होते हैं। इसलिए यदि इसे साफ स्कैल्प पर लगाया जाए, तो त्वचा को नमीयुक्त रहने में मदद मिल सकती है। यह स्कैल्प के रूखेपन, फ्लेकिंग और खुजली को रोकने और उसका इलाज करने में मदद कर सकता है।

तिल में पाए जाने वाले पोषक तत्वों में शामिल हैं

  1. विटामिन बी-1
  2. कैल्शियम
  3. कॉपर
  4. फास्फोरस
  5. आयरन
  6. मैग्नीशियम
  7. मैंगनीज
  8. जिंक

लहराते बालों के लिए कैसे इस्तेमाल करें तिल का तेल?

नहाने से पहले तिल के तेल को हेयर मास्क की तरह इस्तेमाल करें। यह एक ऑयली हेयर और तिल की गंध को छोड़े बिना आपके बालों और खोपड़ी को मॉइस्चराइज और उपचार करने में मदद करता है।

तिल के तेल का हेयर मास्क बनाने के लिए:

  1. एक कांच के कटोरे में थोड़ी मात्रा में तिल का तेल डालें। लगभग 2 से 3 बड़े चम्मच।
  2. माइक्रोवेव में तेल को हल्का गर्म करें, लगभग 10 से 15 सेकंड के लिए।
  3. अपने स्कैल्प में तेल की धीरे से मालिश करने के लिए अपनी उंगलियों का उपयोग करें। हेयरलाइन से शुरू करें और अपने स्कैल्प के पीछे तक जारी रखें।।
  4. बालों में बचे हुए तेल को लगा लें। विशेष रूप से बालों के सिरे जो सूखे हो सकते हैं।
  5. अब बालों को तौलिए या शॉवर कैप से ढक लें।
  6. तिल के तेल के मास्क को अपने बालों में कम से कम 1 घंटे तक लगा रहने दें।
  7. फिर बालों को हमेशा की तरह शैम्पू और कंडीशनर से धोएं।
Sesame oil healthy nutrition pradaan karta hai
तिल का तेल बालों को पोषण प्रदान करता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

सामान्य हेयर मास्क में भी मिला सकते हैं तिल का तेल

  1. दही या मेयोनेज़ हेयर मास्क में कुछ बूंदें मिलाएं।
  2. अंडे के हेयर मास्क में तिल के तेल की कुछ बूंदें मिलाएं।
  3. अन्य पौष्टिक तेलों जैसे जैतून का तेल, एवोकैडो तेल, या आर्गन ऑयल में तिल के तेल की कुछ बूंदें जोड़ें।

सारांश

बालों का झड़ना और बालों में बदलाव कई कारणों से हो सकता है। कई चिकित्सीय और अनुवांशिक स्थितियों के कारण गंजापन, रूखे बालों का झड़ना या सूखे, भंगुर बाल हो सकते हैं। इनका झड़ना हार्मोन परिवर्तन और कुछ दवाओं से भी जुड़ा होता है। यदि आप किसी भी प्रकार के हेयर फॉल का अनुभव कर रहे हैं तो अपने चिकित्सक से संपर्क करें। आपको मेडिकल ट्रीटमेंट की आवश्यकता हो सकती है।

यह भी पढ़ें: विशेषज्ञ से जानिए होली के जिद्दी रंगों को हटाने के घरेलू उपाय और स्किन केयर के कुछ टिप्स

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !