वैलनेस
स्टोर

क्या आप भी हर समय कंप्लेंट करती हैं? जानिए आपके लिए कितनी टॉक्सिक हो सकती है ये आदत

Published on:23 August 2021, 09:30am IST
जब हम तनाव में होते हैं तो दोस्तों से शिकायत करना स्वाभाविक है, लेकिन इसे मॉडरेशन में ही करना चाहिए। यहां बताया गया है कि आप इससे कैसे निपट सकती हैं।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 111 Likes
complaint karne ke side effects
हर समय कंप्लेंट करना अच्छी आदत नहीं है. चित्र : शटरस्टॉक

हम अक्सर गंभीर प्रोफेशनल और व्यक्तिगत तनाव से गुजरते हैं, जो हमें लगभग हर समय थका हुआ महसूस कराता है। ज्यादातर समय, हम अपने करीबी लोगों से ही परेशानी बांटते हैं या कंप्लेंट करते हैं। शिकायत करना बिल्कुल भी बुरा नहीं है, लेकिन जब आप इसे लगातार करती हैं, तो यह टॉक्सिक बन सकता है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि शिकायत करना यह दर्शाता है कि आप अपने जीवन में जो हो रहा है उसे स्वीकार नहीं कर रहे हैं। दुर्भाग्य से, यह एक बहुत ही नकारात्मक ऊर्जा का वहन करता है। इसलिए, जब आप शिकायत करती हैं, तो आप खुद को विक्टिम के रूप में पेश करती हैं।

शिकायत करने के क्या कारण हैं?

हम में से अधिकांश के लिए, यह हमारे सामाजिक डीएनए का एक अभिन्न अंग है। वास्तव में, रिसर्च से पता चलता है कि हर मिनट में एक बार शिकायत हो रही होती है। इसके अलावा, ज्यादातर लोग दिन में कम से कम 15-20 बार शिकायत करते हैं। कुछ लोगों के लिए, शिकायत करने से खुद को रिलैक्स करने में मदद मिलती है, और यह सामाजिक बंधन बनाने का एक शानदार तरीका है। अक्सर यह माना जाता है कि शिकायत करने से आपको तनाव दूर करने में मदद मिलती है, लेकिन ऐसा नहीं है!

क्या शिकायत करना आपके दिमाग को नेगेटिव बना देता है?

कनाडा के न्यूरोलॉजिस्ट डोनाल्ड हेब के अनुसार, शिकायत करना आपके मस्तिष्क को नकारात्मक बना देता है, खासकर एक न्यूरोलॉजिकल स्तर पर। यह आपके मस्तिष्क को इतना प्रभावित करता है कि नकारात्मक सोच और वाणी दोनों ही आप का अभिन्न अंग बन जाते हैं, इतना कि आप नकारात्मकता की तलाश करने लगते हैं।

ऐसा इसलिए है क्योंकि आप इसके अभ्यस्त हैं! इसका मतलब है कि आपको निर्णय लेना या समस्याओं को हल करना कठिन लगता है, क्योंकि तनाव के कारण आपका दिमाग चकरा जाता है।

complaint karne ke side effect
यह आपकी मेंटल हेल्थ के लिए सही नहीं है. चित्र : शटरस्टॉक

इसके अलावा, स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के शोध के अनुसार, शिकायत करने से हमारा हिप्पोकैम्पस (hippocampus) छोटा हो जाता है। और फिर, शिकायत करने से नकारात्मक तंत्रिका मार्ग मजबूत होते हैं, और आपको समाधान की तुलना में अधिक समस्याएं दिखाई देती हैं। मगर इसका मतलब यह नहीं है कि आप बिल्कुल भी न करें, क्योंकि अपनी भावनाओं को दबाना भी हानिकारक है। बस चीजों को व्यक्तिगत रूप से लेना बंद करें।

आप इस स्थिति से कैसे उबर सकती हैं?

1. किसी कारण से शिकायत करना

जब आप किसी कारण से शिकायत करती हैं, तो आप इसे ठीक करने की कोशिश में होती हैं। इस तरह, आप कुछ ठीक करने के लिए शिकायत कर रही हैं, बजाय इसके कि आप केवल दया पाने के लिए करें। जब आप ऐसा करते हैं, तो आप अधिक जागरूक भी हो जाती हैं।

2.’लेकिन’ का प्रयोग करें

यदि आप शिकायत करने के चक्र को नियंत्रण में रखना चाहती हैं, तो इसे अक्सर उपयोग करना सुनिश्चित करें। इसका मतलब यह है कि आप कह सकती हैं कि ‘आज मौसम ख़राब है, लेकिन मैं अभी भी अपने दोस्तों के साथ बाहर जाने में खुश हूं।’ इससे आपको सकारात्मकता मिल सकती है।

complaint karke ke side effct
हर समय शिकायत न करें. चित्र : शटरस्टॉक

3. एक ग्रेटिट्युड जर्नल रखें

यह आवश्यक है और कई तरह से मदद करता है। इसलिए, इंस्टाग्राम को एक मंच के रूप में उपयोग करने के बजाय यह दिखाने के लिए कि आप कितने आभारी हैं, कोशिश करें और एक डायरी रखें जो उन सभी चीजों के बारे में हो जिनके लिए आप खुश हैं और आभारी भी। हर दिन एक पेज लिखें, और अगर कोई ऐसा व्यक्ति है जिसके लिए आप कृतज्ञ हैं, तो उन्हें सीधे बताएं।

4. सोशल मीडिया का रचनात्मक उपयोग करें

यह वास्तव में कठिन है, हम जानते हैं, लेकिन पूरे दिन सोशल मीडिया पर स्क्रॉल करने से आपका कोई भला नहीं होगा। इसके बजाय, इसे इस तरह से उपयोग करने का प्रयास करें कि यह केवल शिकायत करने के बजाय ये आपके जुनून और लक्ष्यों को पूरा करने का तरीका बन जाये।

यह भी पढ़ें : यहां कुछ कारण दिए गए हैं, जो आपके बच्चे के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकते हैं

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।