लॉग इन

World Sleep Day : प्यार करने वाले जोड़ों को सबसे ज्यादा पसंद है स्पूनिंग पोजीशन, जानिए क्यों

बढ़िया रिलेशनशिप के लिए अच्छी नींद के साथ-साथ सही स्लीपिंग पोजीशन भी जरूरी है। दुनिया भर में इस पर कई शोध हुए कि एक-दूसरे से प्यार करने वाले जोड़े आखिर किस पोजीशन में सोना पसंद करते हैं।
नींद के दौरान साझा किया गया समय सुरक्षा, विश्वास और जुड़ाव की भावनाओं को बढ़ावा देती है। चित्र : एडोबी स्टॉक
स्मिता सिंह Updated: 17 Mar 2023, 04:44 pm IST
ऐप खोलें

अच्छी नींद सभी के लिए जरूरी है। यह स्वस्थ मन और स्वस्थ तन के लिए बेहद जरूरी है। यह पार्टनर के बीच बढ़िया रिलेशन के लिए भी जरूरी है। बशर्ते कि हमारी स्लीपिंग पोजीशन शी हो। विशेषज्ञ बताते हैं कि यदि स्लीपिंग पोजीशन सही नहीं होती है, तो पार्टनर का रिलेशन भी प्रभावित (couples sleeping position) होता है। नींद और सही ढंग से सोने के तरीके की महत्ता को बताने के लिए ही विश्व नींद दिवस (World Sleep Day) मनाया जाता है।

विश्व नींद दिवस (World Sleep Day 17 March)

अच्छी नींद के महत्व के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए विश्व नींद दिवस या वर्ल्ड स्लीप डे मनाया जाता है। इसका उद्देश्य नींद की गंभीर समस्या से जूझ रहे लोगों की मदद करना है। यह वर्ष 2008 से मनाया जाने लगा। विश्व नींद दिवस का स्लोगन है बेहतर नींद, बेहतर जीवन, बेहतर प्लेनेट।

क्या कहते हैं विशेषज्ञ

आप अकेले सोयें या पार्टनर के साथ आपकी स्लीपिंग पोजीशन (Sleeping Position) सही होनी चाहिए। सूरत, गुजरात के सृजन अस्पताल में सीनियर ऑर्थोपेडिशियन डॉक्टर अर्चना रावत कहती हैं कि स्लीपिंग पोश्चर खराब होने और बेड पर बिछाए गये गद्दे का शरीर को ठीक तरह से सपोर्ट नहीं मिलने पर समस्या होती है। सही स्लीपिंग पोजीशन के लिए कुछ बातों का ख़ास ध्यान रखना चाहिए।

पीठ के बल सीधे लेटना चाहिए 

पीठ दर्द से बचने के लिए सोने की आदर्श स्थिति पीठ के बल सीधे लेटना है। गर्दन और घुटनों के नीचे यदि एक सपोर्टिंग तकिया रखा जाए, तो इससे आराम मिलता है। सही स्पाइनल अलाइनमेंट के लिए यह स्थिति अच्छी है। पैरों को सीधा करके या घुटनों के बीच तकिया लगाकर सोना भी कारगर रहता है। डॉक्टर अर्चना इस बात की चेतावनी देती हैं कि पेट के बल सोने से रीढ़ की मांसपेशियों पर अनुचित दबाव पड़ता है, जो पीठ और गर्दन के दर्द की वजह बनता है।

आइये अब जानते हैं कि जोड़ों के लिए क्या है सही स्लीपिंग पोजीशन (couples sleeping position)

जर्मनी के हीडलबर्ग यूनिवर्सिटी में सौ से अधिक 31 वर्ष तक के कपल के स्लीपिंग पोजीशन पर स्टडी की गई। शोधकर्ता इरिनी जंकर, जूलिया बर्गेल की टीम के द्वारा की गई इस स्टडी को इंटरनेशनल जर्नल ऑफ़ ड्रीम रिसर्च में भी प्रकाशित किया गया।

जोड़ों की पसंदीदा स्लीपिंग पोजीशन स्पूनिंग है। चित्र :शटरस्टॉक

कपल के बीच इस्तेमाल किये जाने वाले स्लीपिंग पोजीशन जैसे कि स्पूनिंग, चेजिंग स्पून, बैक टू बैक, फ्रंट टू फ्रंट, क्रैडल, लेग हग पर स्टडी की गई। निष्कर्ष में पाया गया कि ज्यादातर जोड़ों की पसंदीदा स्लीपिंग पोजीशन स्पूनिंग (Spooning Sleeping Position) है। 44 प्रतिशत कपल ने माना कि इस पोजीशन में दोनों के बीच लड़ाई कम हुई और अच्छी गहरी नींद आई। रिलेशनशिप बॉन्डिंग भी पहले से बेहतर हुई।

क्या है स्पूनिंग स्लीपिंग पोजीशन (Spooning Sleeping Position)

पार्टनर के स्लीपिंग पोजीशन की पारंपरिक स्थिति है स्पूनिंग। यह दुनिया भर के कपल के बीच सबसे अधिक प्रयोग में आने वाली मुद्रा है। यह रिश्ते में सुरक्षा और आराम का संकेत देती है। इसमें दोनों पार्टनर एक ही दिशा में सोते हैं। एक की पीठ दूसरे पार्टनर से सटी होती है। यह एक सुरक्षात्मक स्थिति है। इसमें एक साथी दूसरे की तरफ या उनके पीछे थोड़ा झुक जाता है। एक-दूसरे का स्पर्श मिलने के कारण यह भावनात्मक और शारीरिक आराम प्रदान करती है

गुड रिलेशनशिप में सोते हुए पार्टनर रहना चाहते हैं एक-दूसरे के नजदीक

ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ हर्टफोर्डशायर के मनोवैज्ञानिक प्रोफेसर रिचर्ड विस्मैन ने 1000 से अधिक लोगों के स्लीपिंग पैटर्न पर शोध किया। शोध में कपल्स के बीच सबसे लोकप्रिय नींद की स्थिति का पता लगाया गया। इसमें 42 प्रतिशत लोग एक के बाद एक-दूसरे के नजदीक सोते हैं

31% कपल एक ही दिशा की ओर मुंह करके स्पूनिंग की स्थिति में सोते हैं।

गुड रिलेशनशिप वाले पार्टनर एक-दूसरे के करीब रहने की इच्छा रखते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

सिर्फ 4% जोड़े एक-दूसरे का सामना करते हुए रात बिताते हैं। निष्कर्ष में यह बताया गया कि गुड रिलेशनशिप वाले पार्टनर एक-दूसरे के करीब रहने की इच्छा रखते हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

यह भी पढ़ें :- जानिए आपको क्या करना चाहिए, जब आपका कोई अपना कर रहा हो पैनिक अटैक का सामना

स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है। ...और पढ़ें

अगला लेख