World AIDS Day 2021: समय आ गया है इस बीमारी के सामाजिक और मानसिक दबावों को समाप्त करने का

Published on: 1 December 2021, 18:37 pm IST

विश्व एड्स दिवस 2021 की थीम असमानताओं को समाप्त करने और एड्स का अंत करने पर केंद्रित है! हम इस बात से सहमत हैं कि एचआईवी/एड्स के आसपास के मेंटल स्टिग्मा को समाप्त करने की आवश्यकता है।

AIDS ko eradicate karna zaroori hai
एड्स की बीमारी को खत्म करना आवश्यक है। चित्र:शटरस्टॉक

आज भी एचआईवी और एड्स का जिक्र तमाम तरह की प्रतिक्रियाओं को सामने लाता है। इनमें कुछ ऐसे हैं जो सहानुभूति व्यक्त करते हैं, जबकि अन्य चुप रहते हैं। ऐसे लोगों की संख्या भी कम नहीं है, जो इस बीमारी के बारे में फुसफुसाहटों में बात करते हैं। असल में यही समस्या की जड़ है। सामाजिक और भावनात्मक गमा जो अभी भी एचआईवी/एड्स के आसपास बने हुए हैं। 

दुनिया ने भले ही महत्वपूर्ण प्रगति की हो, लेकिन मानवाधिकारों के प्रति विभाजन, असमानता और उपेक्षा मे तेजी आई है। इसके अलावा, कोविड -19 के हमारे जीवन पर कब्जा करने के साथ, असमानताएं और बढ़ गई हैं। इसीलिए, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने विश्व एड्स दिवस 2021 के लिए ‘असमानता समाप्त करें, एड्स समाप्त करें’ विषय समर्पित किया है।

तो, ये असमानताएं एचआईवी/एड्स पीड़ितों के जीवन में मानसिक और इमोशनल स्टिगमा के रूप में कैसे प्रकट होती हैं? आईविल की कंसल्टेंट साइकोलॉजिस्ट डॉ बीना नांगिया हेल्थशॉट्स को इस बारे में विस्तार से बताती हैं।

एड्स फाइटर के खिलाफ कलंक और भेदभाव का गंभीर मामला

 डॉ नांगिया का कहना है कि एचआईवी/एड्स का कलंक एचआईवी वाले लोगों के बारे में नकारात्मक दृष्टिकोण और विश्वास का गठन करता है। यह पूर्वाग्रह है जो किसी व्यक्ति को एक समूह के हिस्से के रूप में लेबल करने के साथ आता है जिसे सामाजिक रूप से अस्वीकार्य माना जाता है।

वे आगे कहती हैं,”यह विभिन्न तरीकों से प्रकट हो सकता है – एक धारणा है कि केवल कुछ लोगों को ही एचआईवी संक्रमण हो सकते हैं। उन लोगों के बारे में नैतिक निर्णय ले सकते हैं, जो एचआईवी संचरण को रोकने के लिए कदम उठाते हैं। कुछ लोग यह भी मानते हैं कि एक खास तरह के लाइफस्टाइल वाले लाेगों को एचआईवी होना तय है।”

डॉ नांगिया कहती हैं, वास्तव में भेदभाव क्या है?  “जबकि कलंक एक दृष्टिकोण या विश्वास को संदर्भित करता है, भेदभाव वह व्यवहार है जो उन दृष्टिकोणों या विश्वासों से उत्पन्न होता है।”

sadness aur depression
किसी को भी बहिष्कृत महसूस करना पसंद नहीं है। चित्र: शटरस्टॉक

यह एचआईवी पीड़ितों को मानसिक और भावनात्मक रूप से कैसे प्रभावित कर सकता है?

 एचआईवी कलंक और भेदभाव इस स्थिति के साथ रहने वाले लोगों की भावनात्मक भलाई और मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। डॉ नांगिया के अनुसार लोग अक्सर अपने द्वारा अनुभव किए जाने वाले कलंक को आंतरिक रूप से आत्मसात कर लेते हैं और एक नकारात्मक आत्म-छवि विकसित करना शुरू कर देते हैं।  

उन्हें डर हो सकता है कि अगर उनकी एचआईवी स्थिति का पता चलता है, तो उनके साथ भेदभाव किया जाएगा या उन्हें नकारात्मक रूप से आंका जाएगा।

‘आंतरिक कलंक’ या ‘आत्म-कलंक’ तब होता है जब कोई व्यक्ति एचआईवी के साथ रहने वाले लोगों के बारे में नकारात्मक विचारों और रूढ़ियों को लेता है, और उन्हें खुद पर लागू करना शुरू कर देता है,” 

आंतरिक कलंक निम्नलिखित में से कुछ भावनाओं को जन्म दे सकता है, जो लोगों को इस स्थिति के लिए परीक्षण और उपचार करने से रोकता है:

  1.  शर्म
  2.  खुलासे का डर
  3. आइसोलेशन
  4. निराशा

इसके अलावा, अवसाद, आवेग, मादक द्रव्यों के सेवन, नशा, व्यक्तित्व कमजोरियाँ सभी एचआईवी संक्रमण के जोखिम से जुड़े हैं, जो एड्स का कारण बनता है एचआईवी संक्रमित रोगियों में सबसे आम मानसिक विकार अवसाद और अवसादग्रस्तता के लक्षण हैं।  एचआईवी संक्रमण के दौरान मनोविकृति विकार पहले या कभी भी उत्पन्न हो सकते हैं।

डिप्रेशन एड्स से जुड़ा एक सामान्य मानसिक स्वास्थ्य विकार है। चित्र: शटरस्‍टॉक

कुछ जरूरी बातें

 

 कलंक और भेदभाव एचआईवी के डर में निहित है, और बीमारी कैसे फैलती है और आज इसके साथ जीने का क्या मतलब है, इसके बारे में विभिन्न गलत धारणाएं हैं।

डॉ नांगिया कहती है, “पुरानी मान्यताओं के साथ संयुक्त जानकारी और जागरूकता की कमी ने लोगों को एचआईवी के बारे में ऐसी धारणाओं को जन्म दिया है, जिनका अस्तित्व है ही नहीं।”

इसलिए इससे पहले कि बहुत देर हो जाए, मानसिक स्वास्थ्य और एचआईवी के महत्व पर विचार करना आवश्यक है। कभी-कभी, स्टिग्मा लोगों में सेल्फ हार्म की भावना पैदा कर सकता है, जिससे वे खुद को फंसा हुआ या निराश महसूस कर सकते हैं। यदि ऐसा है, तो स्वास्थ्य विशेषज्ञ या मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ की मदद लेना आवश्यक है।

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें