वैलनेस
स्टोर

क्या आप भी किसी प्रिय को खोने के दुःख से जूझ रहीं हैं? जानिए कब आपको लेनी चाहिए प्रोफेशनल हेल्प

Published on:22 July 2021, 19:02pm IST
किसी प्रियजन को खोना कभी आसान नहीं होता, लेकिन यह आपके भावनात्मक स्वास्थ्य को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है। कभी-कभी अपनी भावनाओं को नियंत्रित करने के लिए किसी प्रोफेशनल से बात करना जरूरी हो जाता है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 82 Likes
मदद मांगने में हिचकिचाएं नहीं. चित्र : शटरस्टॉक

किसी प्रियजन की मृत्यु निश्चित रूप से कठिन हो सकती है, जिससे कोई भी दुखी हो सकता है और दुःख की गहरी भावना से भर सकता है। प्रियजन को खोने के दुःख से निपटने के लिए, आप एक अनुभवी चिकित्सक या मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ से मदद ले सकती हैं। इसमें कोई नुकसान नहीं है, बल्कि यह आपको और मजबूत होने में और खुद को समझने में मदद कर सकता है।

ये कुछ ऐसे संकेत हैं, जो आपको बता रहे हैं कि आपको मदद की ज़रुरत है

1. नींद की परेशानी:

किसी प्रियजन की याद के प्रति विचार आपको रात में जगाए रखने के लिए बाध्य हैं। हालांकि, आपको अपनी शारीरिक ज़रूरतों के अनुसार फिर से सोना शुरू करने में सक्षम होना चाहिए। यदि आप रात में सोने में असमर्थ हैं और दिन के दौरान खुद को थका हुआ पाती हैं, तो किसी प्रोफेशनल से मदद लेने पर विचार करें।

अपनों को खोना बहुत दुःख देता है. चित्र : शटरस्टॉक

2. भूख न लगना:

किसी प्रियजन की मृत्यु के बाद निराशा और गिल्ट काफी समय तक आपके साथ रह सकती है। ऐसे में एक सामान्य दिनचर्या का पालन करना और अपने खानपान पर ध्यान न देना स्वभाविक है। आपकी भूख कम हो जाती है या लगभग गायब हो जाती है।

जिससे पोषण की कमी के कारण तेजी से वजन कम होता है, और आपको पर्याप्त कैलोरी नहीं मिलती हैं। यदि आपका वज़न बहुत तेज़ी से घटने लगे, तो मदद के लिए किसी चिकित्सक से संपर्क करें।

3. लंबे समय तक दुःख और अवसाद की भावना:

किसी प्रियजन की मृत्यु का सामना करते समय भावनाओं से उबरना समझ में आता है। हालांकि, अगर कोई बेकाबू होकर रो रहा है, और महीनों तक उदास रहता है, तो यह एक निश्चित खतरे की घंटी है। कुछ मामलों में, लोग आत्महत्या के विचार भी विकसित कर सकते हैं, क्योंकि वे अपने प्रियजन के साथ के बिना नहीं रह सकते। ऐसे समय में, किसी के जीवित रहने के लिए चिकित्सा सहायता महत्वपूर्ण है।

4. गुस्सा आना और किसी चीज पर ध्यान न दे पाना :

काम करना, या परिवार के साथ समय बिताना, मुश्किल हो सकता है क्योंकि किसी अपने को खोने की भावना व्यक्ति को क्रोधित और भ्रमित कर सकती है। यदि कोई किसी प्रियजन के खोने के बाद गुस्से से भर जाता है, और उसे अपने जीवन पर ध्यान केंद्रित करना मुश्किल हो रहा है, तो यह उस व्यक्ति के लिए इस समस्या को स्वीकार करना और इससे ठीक होना बेहद ज़रूरी है।

अपनों को खोने से इंसान खुद को खो सकता है. चित्र : शटरस्टॉक

5. स्वयं को खोना:

किसी प्रियजन के निधन के बाद कुछ लोग अपनी पहचान खो सकते हैं। यह विशेष रूप से सच है जब प्रिय व्यक्ति रोमांटिक साथी या जीवनसाथी होता है। डरना और दूसरों के प्रति नाराजगी महसूस करना भी आम है, खासकर जब मौत अचानक दुर्घटना या बीमारी के कारण होती है। यदि कोई अपनी कार्यक्षमता और उद्देश्य पर नियंत्रण खो रहा है, तो यह किसी से परामर्श लेने का सही समय है।

समय के साथ दुख के दर्द को कम करने के लिए मदद मांगना महत्वपूर्ण है। हालाँकि, किसी प्रियजन के जाने के बाद उस नुकसान की भरपाई नहीं हो सकती है, मगर दुखी व्यक्ति कम से कम सामान्य स्थिति में वापस आ सकता है।

यह भी पढ़ें : ब्रेडक्रंबिंग: एक डेटिंग पैटर्न जो आपकी इमोशनल हेल्थ को प्रभावित कर सकता है

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।