वैलनेस
स्टोर

मैग्नीशियम की कमी हो सकती है अवसाद के लिए जिम्‍मेदार, समझिए इन दोनों के बीच का संबंध

Published on:19 January 2021, 15:38pm IST
कई अध्ययन हैं जो बताते हैं कि अवसाद और मैग्नीशियम की कमी एक दूसरे से जुड़े हुए है। अगर हम पर विश्वास नही है, तो इस लेख को धैर्य पूर्वक पढ़ें।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 78 Likes
मैग्नीशियम की अच्छी खुराक लें । चित्र: शटरस्‍टॉक

ऐसे बहुत से कारण है जिनकी वजह से विशेषज्ञ अच्छे स्वास्थ्य के लिए पौष्टिक और संतुलित आहार की सलाह देते हैं। भले ही आपके शरीर में एक पोषक तत्व की कमी हो, लेकिन यह आपके शरीर में कई कार्यों को प्रभावित करता है। आज इसी श्रृंखला में हम मैग्नीशियम पर बात कर रहे हैं।

मैग्‍नीेशियम यह एक प्रकार का खनिज है, जिसकी मदद से शरीर को विभिन्न जैव रासायनिक प्रतिक्रियाओं का संचालन करने की आवश्यकता होती है। इनमें मांसपेशियों और तंत्रिका कार्य, सही रक्तचाप, प्रोटीन संश्लेषण और रक्त शर्करा नियंत्रण शामिल हैं। बहुत से लोग नहीं जानते कि यह अवसाद का मुकाबला करने में भी मदद करता है।

कई शोध यह साबित करते हैं कि मैग्नीशियम की कमी और अवसाद एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं।
पीएलओएस वन में प्रकाशित एक लेख ‘मैग्नीशियम की भूमिका: एक ​​परीक्षण’ के अनुसार, यह पाया गया कि मैग्नीशियम क्लोराइड टाइप 2 मधुमेह के साथ वरिष्ठ नागरिकों में अवसाद के लिए प्रभावी था। जबकि एक अन्य परीक्षण में पाया गया कि मैग्नीशियम साइट्रेट ने अवसाद को कम कर दिया।

आइए समझते हैं कि वास्तव में अवसाद का क्या अर्थ है। आप सोच सकते हैं कि आप मूड स्विंग या हार्मोनल बदलावों से गुजर रहे हैं, लेकिन अगर यह प्रकरण कम से कम दो सप्ताह तक रहता है और आपको हर चीज में अपनी रुचि कम लगती है, या अच्छी तरह से नींद नहीं आती है, तो हो सकता है कि आप अवसाद से ग्रसित हों।

मैग्‍नीशियम की कमी आपको अवसाद की ओर धकेल सकती है। चित्र: शटरस्‍टॉक
मैग्‍नीशियम की कमी आपको अवसाद की ओर धकेल सकती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

जो लोग अवसाद से गुज़र रहे है उनमें कुछ अन्य शारीरिक लक्षण भी दिखाई देते हैं। जो आगे जाकर आपकी समस्या बढ़ा सकते हैं। इनमें पीएमएस, माइग्रेन और सिरदर्द, पीठ दर्द, सीने में दर्द, जोड़ों में दर्द, मांसपेशियों में दर्द और पाचन संबंधी समस्याएं शामिल हैं।

जैसा कि हमने पहले बताया है, हार्मोन आपके शरीर का संतुलन बनाये रखने में मदद करते हैं और आपकी इमोशनल हेल्थ को भी प्रभावित करते हैं।

आइये जानते हैं मेंटल हेल्‍थ को कैसे प्रभावित करती है मैग्नीशियम की कमी

मैक्रो मिनरल (macromineral) बॉडी में तनाव संबंधी हार्मोन और कोर्टिसोल को रेगुलेट करने में मदद करता है। जब आपके शरीर में मैग्नीशियम की कमी होती हैं, तो शरीर बड़ी मात्रा में कोर्टिसोल रिलीज़ करता है। अंततः प्रोजेस्टेरोन, टेस्टोस्टेरोन, ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन, एस्ट्रोजन और कई अन्य हार्मोन पर भी प्रभाव पड़ता है।

मैग्नीशियम की कमी आपके मूड को प्रभावित कर सकती है

यहां तक ​​कि थायराइड अगर अंडरएक्टिव है तो भी अवसाद को बढ़ावा मिलता है। यही कारण है कि इसे संतुलन में रखना बहुत महत्वपूर्ण है। मैग्नीशियम थायराइड हार्मोन को बढ़ाने में मदद करता है, इसलिए यह इतना प्रभावी है। साथ ही, यह आपके शुगर लेवल को नियंत्रित करता है।

उम्र दराज लोगों में भी मैग्‍नीशियम की कमी मेंटल हेल्‍थ को प्रभावित करती है। चित्र: शटरस्‍टॉक
उम्र दराज लोगों में भी मैग्‍नीशियम की कमी मेंटल हेल्‍थ को प्रभावित करती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

बेहतर नींद के लिए मैग्नीशियम है ज़रूरी

जो लोग एंग्‍जायटी और अवसाद से पीड़ित हैं, उन्‍हें अक्सर बेहतर नींद लेने में परेशानी होती है। जहां मैग्नीशियम वास्तव में मदद करता है – यह न केवल आपको बेहतर नींद देता है, बल्कि रात में अक्सर पेशाब की परेशानी को कम करता है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि यह GABA के स्वस्थ स्तर को बनाए रखने में मदद करता है। यह एक न्यूरोट्रांसमीटर है जो अच्छी नींद को बढ़ावा देने में मदद करता है। GABA के अच्छे स्तर के लिए, आपको पर्याप्त मैग्नीशियम की आवश्यकता होती है।

कुछ लोग रेस्टलेस लेग सिंड्रोम से भी पीड़ित होते हैं जिनके लिए अच्छी नींद सोना बहुत ही मुश्किल काम है। शोध बताते हैं कि यह अवसाद का एक लक्षण है, लेकिन चिंता न करें क्योंकि मैग्नीशियम इसे कम करने में मदद करता है।

दर्द से राहत के लिए मैग्नीशियम

अवसाद न केवल आपके मानसिक स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाता है, बल्कि शारीरिक स्वस्थ्य को भी प्रभावित करता है। जब आप उदास होते हैं, तो आप विभिन्न तरह के दर्द से पीड़ित होते हैं और इससे राहत दिलाने में मैग्नीशियम आपकी मदद कर सकता है।

मेंटली स्‍ट्रॉन्‍ग रहना चाहती हैा, तो अपने आहार का भी ध्‍यान रखें। चित्र: शटरस्‍टॉक
मेंटली स्‍ट्रॉन्‍ग रहना चाहती हैा, तो अपने आहार का भी ध्‍यान रखें। चित्र: शटरस्‍टॉक

यह सिरदर्द को कम करने में कारगर है

शोध बताते हैं कि जब आपको मैग्नीशियम की कमी होती है, तो आपको सिरदर्द होने की संभावना अधिक होती है। वास्तव में, जब आपको मैग्नीशियम की दैनिक खुराक मिलती है तो पीठ, जोड़ों और मांसपेशियों का दर्द भी ठीक हो जाता है।

बेहतर कागनेटिव फंक्‍शन के लिए मैग्नीशियम

जब आप उदास होते हैं, तो यह सबसे अधिक संभावना है कि आप अपनी दुखद स्मृतियों से परेशान हैं। यह माना जाता है कि यदि आप अपने आहार के माध्यम से पर्याप्त मात्रा में मैग्नीशियम लेते हैं, तो आपके दैनिक कार्यों में सुधार होगा। कई अध्ययनों से संकेत मिलता है कि मस्तिष्क में मैग्नीशियम की मात्रा बढ़ने से व्यक्ति की संज्ञानात्मक क्षमताओं पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

तो, अब जब आप इसके बारे में जानती हैं, तो हरी पत्तेदार सब्जियां, फलियां, नट्स, बीज, और साबुत अनाज का सेवन करके हर दिन अपना सही मैग्नीशियम लेवल सुनिश्चित करें।

यह भी पढ़ें – असल में आपकी मानसिक शांति के लिए उतना भी बुरा नहीं है सिंगल होना, समझिए इन 5 बातों को

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।