यहां कुछ कारण दिए गए हैं, जो आपके बच्चे के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकते हैं

बच्चों में मानसिक विकारों को उनके सीखने, व्यवहार करने या स्वभाव में गंभीर परिवर्तन के रूप में वर्णित किया जाता है। कुछ कारण हैं, जो बच्चों में मानसिक बीमारी को ट्रिगर करते हैं।
बच्चों के गाली देने पर उसे मारना-पीटना नहीं चाहिए। चित्र: शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published on: 18 August 2021, 15:35 pm IST
ऐप खोलें

हर माता-पिता चाहते हैं कि उनका बच्चा एक खुशहाल बचपन जिए। मगर बच्चों में मानसिक स्वास्थ्य विकार उनके समग्र स्वास्थ्य और कल्याण पर एक बड़ा असर डाल सकते हैं। मानसिक  समस्या से ग्रस्त बच्चे स्कूल में, दोस्तों या परिवार के साथ, या कहीं भी उदास दिखाई दे सकते हैं। यह बड़े पैमाने पर एक बच्चे के विकास को प्रभावित करता है और उसे जानकारी बनाए रखने या सामाजिक संबंध बनाने से रोकता है। यह बच्चे के व्यवहार को आक्रामकता में बदल सकता है।

हालांकि अधिकांश मानसिक विकारों का कोई सटीक कारण ज्ञात नहीं है। इसके बावजूद कुछ कारक हैं जो मुख्य रूप से मानसिक स्वास्थ्य की समस्या में योगदान कर सकते हैं।

बच्चों में मानसिक बीमारी के कुछ कारण और जोखिम कारक हैं:

1. जेनेटिक कारण

मानसिक विकार जेनेटिक और पर्यावरणीय दोनों कारकों का परिणाम हैं। यदि परिवार में मेंटल हेल्थ संबंधी समस्याएं चल रही हैं या कोई मानसिक विकार से जूझ रहा है, तो ये माता-पिता से बच्चों में पहुंच सकता हैं। इस तरह के विकारों में ऑटिज्म, अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी), बाइपोलर डिसऑर्डर और अवसाद, चिंता विकार और सिज़ोफ्रेनिया शामिल हैं।

2. तनाव शारीरिक परिवर्तन से संबंधित हो सकता है

किशोरावस्था में मानसिक स्वास्थ्य विकार एक महत्वपूर्ण समस्या है। बच्चों में, मानसिक स्वास्थ्य विकार कुछ हद तक शारीरिक परिवर्तनों के तनाव से जुड़े होते हैं। जो बच्चे अपनी शारीरिक बनावट से नाखुश हैं, उनमें मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का खतरा काफी बढ़ जाता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि खुद को पसंद न करने का दबाव बढ़ा सकता है, जो तनाव में बदल सकता है।

बच्चें अपने लुक्स को लेकर भी तनाव में रह सकते हैं। चित्र: शटरस्टॉक

3. साइकोलॉजिकल ट्रॉमा

कुछ मानसिक विकार साइकोलॉजिकल ट्रॉमा से उत्पन्न हो सकते हैं – जैसे कि इमोशनल, फिजिकल या सेक्सुअल अब्यूस। ट्रॉमा में विभिन्न प्रकार की प्रतिक्रियाएं शामिल हो सकती हैं जैसे कि चिल्लाना या बिना वजह रोना, तीव्र भावनात्मक समस्याएं, अवसाद के लक्षण या एंग्जायटी, व्यवहार में बदलाव, दूसरों से संबंधित समस्याएं और शैक्षणिक कठिनाइयां।

4. पर्यावरणीय तनाव

बचपन में होने वाली मानसिक बीमारियां पर्यावरणीय तनाव की प्रतिक्रिया हो सकती हैं, जो एक नकारात्मक वातावरण को संदर्भित करता है। उदाहरण के लिए, यदि कोई बच्चा बुलिंग या साथियों के दबाव का शिकार है, तो यह मानसिक तनाव का कारण बन सकता है।

5. अनिद्रा

अनिद्रा को कई मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं से जोड़ा गया है। उदाहरण के लिए एंग्जायटी, अवसाद, आचरण संबंधी समस्याएं और आक्रामकता। अनिद्रा मस्तिष्क की एकाग्रता क्षमता और स्मृति को प्रभावित करती है।

बच्चों में इन्सोमिया भी हो सकता है. चित्र : शटरस्टॉक

बच्चों में मानसिक बीमारी के संकेत और लक्षण

स्कूल में लगातार खराब प्रदर्शन
आक्रामक व्यवहार
स्कूल से बचना या गायब होना
लगातार उदासी
नींद की समस्या, जैसे नींद न आना, बुरे सपने या नींद में चलना
सिरदर्द या पेट दर्द जैसे शारीरिक लक्षणों की बार-बार शिकायत
वजन कम होना
मनोदशा, व्यवहार या व्यक्तित्व में कोई भी भारी परिवर्तन
अत्यधिक एंग्जायटी
दोस्तों या सामाजिक संपर्क में रुचि खोना

बच्चे के अच्छे स्वास्थ्य में पेरेंटिंग की अहम भूमिका होती है। बेहतर जीवन जीने के लिए आप अपने बच्चे की समस्याओं को दूर करने में मदद कर सकते हैं। तो अपने बच्चे को बताएं कि आप हमेशा उसके साथ हैं!

यह भी पढ़ें : मेंटल हेल्थ को नुकसान पहुंचा सकती है लव एडिक्शन, जानिए कब और क्यों आती है यह स्थिति

लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी,
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें
Next Story