और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

शारीरिक ही नहीं मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए भी फायदेमंद है रोना, हम बता रहे हैं इसके 5 लाभ

Published on:6 March 2021, 17:00pm IST
अक्सर जब हम खुश, दुखी, क्रोधित, निराश और अजीब भावनाओं से गुजरते हैं, तो हमें रोना आता है... लेकिन ऐसा क्यों है? इसके बारे में अधिक जानने के लिए आगे पढ़ते रहिए।
विनीत
  • 88 Likes
रोना आपके लिए कई तरह से फायदेमंद है। चित्र-शटरस्टॉक।

मनुष्य एकमात्र ऐसी प्रजाति है, जिनकी आंखों में विभिन्न भावनाएं, अच्छी या बुरी के चलते आंसू आ जाते हैं। लेकिन वैज्ञानिक अभी भी यह नहीं जानते, कि रोना कैसे हमारे शारीरिक कार्य और भावनाओं के साथ जुड़ा हुआ है। किसी खास भावना को स्पर्श करना, घर या काम की तनावपूर्ण घटानाएं और यहां तक की शादी या बच्चे होने जैसी अच्छी खबरें सुनने पर भी कई बार हमें रोना आता है। लेकिन कभी-कभी, आपको अपने आंसुओं को बहने देने की जरूरत होती है। 

हम में से अधिकांश लोग यह नहीं जानते कि रोना हमारे शरीर और मस्तिष्क पर बहुत गहरा प्रभाव डाल सकता है। जानना चाहती हैं कैसै? चलिए तो हम आपको बताते हैं।

  1. रोने से तनाव दूर होता है

जब हम दुखी होते हैं (और कभी-कभी खुश होते हैं) तो हम क्यों रोते हैं? रोने के लाभों में से एक यह भी हो सकता है कि यह परेशान महसूस करने पर, शारीरिक तनाव को दूर करने में मदद करता है।

लॉरेन ब्यलस्मा, पीएचडी, जो कि पिट्सबर्ग स्कूल ऑफ मेडिसिन विश्वविद्यालय में मनोचिकित्सा की सहायक प्रोफेसर हैं, कहती हैं “ऐसा लगता है कि रोने की शुरुआत शारीरिक उत्तेजना के चरम के बाद होती है क्योंकि सहानुभूति गतिविधि कम होने लगती है और पैरासिम्पेथेटिक (parasympathetic) गतिविधि बढ़ जाती है, जिससे शरीर को होमोस्टेसिस (homeostasis) में वापस लाने में मदद मिलती है।

यह भी पढ़ें: अपने रिश्‍ते में इन 5 चीजों को कभी न करें नजरंदाज, विशेषज्ञ बता रहे हैं कितना लंबा चलेगा आपका रिश्‍ता 

दूसरे शब्दों में कहें तो, रोना तब आता है जब हमारा शरीर “लड़ाई या उड़ान” की स्थिति से एक शांत, “आराम और पाचन” स्थिति में लौटता है।

ज्‍यादा तनाव कमजोर इम्‍युनिटी का भी लक्षण है। चित्र: शटरस्‍टॉक।
ज्‍यादा तनाव कमजोर इम्‍युनिटी का भी लक्षण है। चित्र: शटरस्‍टॉक।
  1. रोने से मूड में सुधार होता है

दक्षिण फ्लोरिडा विश्वविद्यालय के एक मनोविज्ञान प्रोफेसर, पीएचडी, जोनाथन रॉटनबर्ग कहते हैं, सर्वेक्षणों में लगभग दो-तिहाई लोग आमतौर पर रोने के बाद बेहतर महसूस करते हैं। हालांकि यह संभावना है कि रोने के लाभों को लोग ओवर रिपोर्ट भी कर सकते हैं, या गलत तरीके से भी कर सकते हैं। क्योंकि जब हम एक नियंत्रित प्रयोगशाला सेटिंग में रोते हैं, तो यह स्पष्ट नहीं है कि रोने से लोगों को बेहतर महसूस होता है। तो हां, रोने से हमारे मूड को बेहतर बनाने में मदद मिलती है, लेकिन आमतौर पर हम जितना मानते हैं, उससे थोड़ा कम।

  1. रोने के प्रमुख शारीरिक प्रभाव होते हैं

रोना केवल एक भावनात्मक कार्य नहीं है, बल्कि यह एक भौतिक कार्य भी है। रैकिंग सॉब्स (Wracking sobs), सिर दर्द, दमकती त्वचा, एक बहती नाक और पूरे शरीर में होने वाले झटके आपके शरीर पर पड़ने वाले प्रभावों में से कुछ हैं। ऐसा क्यों होता है? डॉ. रॉटनबर्ग के अनुसार, रोना वह पुल हो सकता है जो अधिक आराम की स्थिति में ले जाता है, “कुछ ही मिनटों में, इस बात के स्पष्ट प्रमाण हैं कि रोने की क्रिया अत्यधिक उत्तेजित होती है।” 

वे कहते हैं, “जो लोग रोते हैं उनकी पल्‍स रेट  बढ़ती है और उन्हें अधिक पसीना आता है। इस अर्थ में, रोना शरीर के लिए एक ‘कसरत’ है। हालांकि, इसको लेकर अभी और अधिक अध्ययनों की आवश्यकता है जो अल्पकालिक और दीर्घकालिक प्रभावों की जांच करते हैं।”

  1. रोने से विषाक्त पदार्थों से छुटकारा मिल सकता है

बायोकेमिस्ट विलियम फ्रे ने 1970 के दशक के अंत में और 1980 के दशक की शुरुआत में रोने को लेकर कुछ ज़बरदस्त शोध किए, जो बताते हैं कि आंसू अवांछित विषाक्त पदार्थों को शरीर से बाहर निकालने में मदद करते हैं। 

डॉ बयेल्स बताती हैं “उन्होंने चिड़चिड़े आंसू (जैसे कि प्याज काटते समय आंखों से निकलते हैं) भावनात्मक आंसू की तुलना में कुछ रासायनिक मतभेद पाए। जैसे भावनात्मक आंसू में कुछ प्रोटीन की उच्च सामग्री, जो तनाव के उत्पादों द्वारा जारी होने के कारण हो सकती है।” लेकिन, वह कहती हैं, इन परिणामों को हाल ही में दोहराया नहीं गया है, क्योंकि यह एक प्रयोगशाला में यह अध्ययन करना वास्तव में कठिन है।

वह कहती हैं, “अपने आंसुओं को एकत्र करते हुए स्वाभाविक रूप से भावनात्मक उत्तेजनाओं के प्रति रोना बहुत चुनौतीपूर्ण है, साथ ही अधिकांश आंसू वास्तव में नाक मार्ग में अवशोषित होते हैं और एकत्र नहीं किए जा सकते हैं।

रोने को कमजोरी न समझें, यह आपकी सेहत के लिए अच्‍छा है। चित्र: शटरस्‍टॉक
रोने को कमजोरी न समझें, यह आपकी सेहत के लिए अच्‍छा है। चित्र: शटरस्‍टॉक
  1. आंखों के लिए फायदेमंद है रोना

आंसू आंखों को नम करते हैं और उन्हें स्वस्थ रखते हैं। डॉ. बायल्स्मा कहते हैं, “आंसू का जैविक कार्य आंख को नम रखना है और आंखों को धुएं या मलबे से बचाना है जो आंख में जाता है।” लेकिन बहुत अधिक रोने से वास्तव में आंखों में जलन हो सकती है, यही कारण है कि रोने के बाद एक बड़े सत्र के बाद आंखें लाल हो जाती हैं और सूज जाती हैं।

यह भी पढ़ें: सोते समय आपके शरीर के साथ होती हैं ये 5 चीजें, जानिए इसके क्या हैं कारण

विनीत विनीत

अपने प्यार में हूं। खाने-पीने,घूमने-फिरने का शौकीन। अगर टाइम है तो बस वर्कआउट के लिए।