अपने मानसिक स्वास्थ्य के लिए समझिए स्ट्रेस, एंग्जायटी, डिप्रेशन और ट्रॉमा के बीच का अंतर

Updated on: 30 July 2022, 15:45 pm IST

मानसिक स्वास्थ्य एक जरूरी मुद्दा है। हालांकि अब लोगों ने इस पर बात करना शुरू किया है। पर अब भी कुछ लोग यह समझ नहीं पाते हैं कि वे साधारण उदासी की स्थिति में हैं या वाकई अवसाद से जूझ रहे हैं

जानिए इन शब्दों के बीच का अंतर, चित्र:शटरस्टॉक

जिस तरह की ज़िन्दगी हम जी रहे हैं, वहां स्ट्रेस, एंग्जायटी, डिप्रेशन, ट्रौमा जैसे शब्द रोज़मर्रा का हिस्सा हैं। पर हममें से बहुत कम लोग इन सभी शब्दों के ठीक ठीक मतलब जानते हैं। कई बार हम साधारण से गुस्से को भी एंग्जाइटी समझ लेते हैं। इसलिए इन शब्दों को बेहतर तरीके से समझने और इनके अंतर को जानने के लिए हमने बात की पटना की मनोवैज्ञानिक डॉक्टर बिंदा सिंह से। 

आइए जानते हैं मेंटल हेल्थ से जुड़े कुछ शब्दों का ठीक-ठीक अर्थ और लक्षण।  

1 स्ट्रेस (Stress)

डॉक्टर बिंदा कहती हैं जब आप तनाव के बारे में सोचते हैं, तो यह आपके दिमाग में नकारात्मक भावनाएं लाता है। लेकिन कुछ तनाव आपके लिए अच्छे हैं, जैसे कि जब आप कोई नया रिश्ता या नौकरी शुरू करते हैं, तो आप जिस तरह का तनाव महसूस करते हैं, वह आपके उत्साह को बढ़ावा दे सकता है। यह आपको आगे बढ़ने और अपनी मंजिल हासिल करने के लिए प्रेरित भी कर सकता है। 

तनाव आपको चुनौतियों का सामना करने या बुरी से बुरी परिस्थितियों का जवाब देने के लिए तैयार रहने में भी मदद करता है। ऐसा स्ट्रेस आपके लिए अच्छा है। 

पर यदि आप लंबे समय तक बुरे तनाव में रहते हैं, तो यह आपको शारीरिक और भावनात्मक दोनों रूप से प्रभावित कर सकता है। “तनाव यदि कम समय के लिए हो तो आपको बेहतर परफॉर्म करने का अवसर देता है, लेकिन यदि यह लंबे समय तक सक्रिय है तो यह घातक हो सकता है” 

डॉक्टर के अनुसार, “यदि हम लम्बे समय से चले आ रहे तनाव में रहते हैं, तो इसके प्रभाव हानिकारक हो सकते हैं. ये अवसाद बढ़ाने में भी योगदान दे सकता है, एक मनोदशा विकार जो आपको उन चीजों में उदास और उदासीन महसूस कराता है जिनका आप आमतौर पर आनंद लेते हैं। 

2 एंग्जायटी (Anxiety)

एंग्जायटी दरअसल डर और बेचैनी की भावना है। जिसकी वजह से आपको पसीना आ सकता है, बेचैनी और तनाव महसूस हो सकते हैं और दिल की धड़कन भी तेज हो सकती है। यह स्थिति तनाव की सामान्य प्रतिक्रिया हो सकती है। उदाहरण के लिए, जब आप काम पर, परीक्षा देने से पहले, या कोई महत्वपूर्ण निर्णय लेने से पहले किसी कठिन समस्या का सामना करते हैं, तो आप चिंतित महसूस कर सकते हैं। यह इन स्थितियों का सामना करने में आपकी मदद कर सकता है।

stress vajan badhata hai
स्ट्रेस क्या है? चित्र : शटरस्टॉक

ब्राउन यूनिवर्सिटी में स्ट्रेस और डिप्रेशन पर हुए एक रिसर्च को हेड कर रहे क्लिनिकल प्रोफेसर कैरल लांडौ कहते हैं, “एंग्जायटी पर तनाव का प्रभाव, हमारे समय की सबसे महत्वपूर्ण समस्याओं में से एक है।

3 आघात (trauma)

भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक आघात अचानक हुई या चल रही घटनाओं दोनों के कारण हो सकते हैं। अचानक हुई घटना/दुर्घटना में  प्राकृतिक आपदा या हमले जैसा कुछ भी हो सकता है वहीं लगातार हो रही घटनाओं से होने वाले आघात का संबंध तनावपूर्ण घटनाओं से हो सकता है, जैसे कि बचपन में हुआ यौन, भावनात्मक या शारीरिक शोषण या असुरक्षित अपराधिक माहौल में रहना।

डॉक्टर बिंदा के अनुसार चाहे आप व्यक्तिगत रूप से शामिल हों या घटना की गवाह मात्र हों, एक तकलीफदेह घटना आपको सदमे में छोड़ सकती है. सदमे के कारण ये लक्षण देखने को मिल सकते हैं:

दिमाग सुन्न होना

अपराधबोध या आत्म-दोष जैसी भावनाओं का जोर पकड़ना 

अत्यधिक उदासी और रोना 

मनोदशा में परिवर्तन जैसे चिड़चिड़ापन, चिंता, तनाव, नकारात्मकता, उदासी और अरुचि

ध्यान की कमी होना 

घटना के बारे में यादें या बुरे सपने को दोहराना 

सामाजिक नहीं होना, लोगों से दूर रहना, व्यक्तिगत संबंध का तनावपूर्ण होना 

खाने या सोने में बदलाव 

शराब या ड्रग्स का अधिक उपयोग होना।

4 अवसाद (Depression)

आमतौर पर भावनाएं समय के साथ फीकी पड़ जाती हैं और आप जीवन के साथ आगे बढ़ते हैं पर जब कुछ परेशान करने वाला या तनावपूर्ण होता है, जैसे संबंध टूटना, या नौकरी खोना तो स्वाभाविक तौर पर आप स्थिति से सामना नहीं कर पाती हैं और तनाव से घिर जाती हैं। यह समस्या आगे तक बनी रहती है तो यह अवसाद है। 

आपकी उदासी इन कारकों से जुड़ी है:

  • आपके विचार 
  • आप जिस तरह से व्यवहार करते हैं
  • अतीत में आपके साथ क्या हुआ था
  • अब आपके आसपास क्या हो रहा है
  • जिस तरह से स्ट्रेस हार्मोन आपके दिमाग को प्रभावित करते हैं।
  • stress ka immunity par seedha asar padta hai
    तनाव और अवसाद में भी है अंतर, चित्र : शटरस्टॉक

डॉक्टर बिंदा के अनुसार बेहतर आत्म-देखभाल (self care) से सभी अवसाद में मदद मिलेगी। हल्के अवसाद के लिए, स्वयं सहायता तकनीक (जैसे शारीरिक गतिविधि-physical activities) एक बड़ा बदलाव ला सकती है। किसी ऐसे व्यक्ति को जीवन में शामिल करना वास्तव में मददगार हो सकता है जो अवसाद के बारे में जानता हो। ऐसे लोग भी हैं जिनका काम दूसरों की मदद करना है और इसके बावजूद जिन्हें ऐसे मुश्किल समय का सामना करना पड़ रहा है। 

अवसाद अक्सर यह विचार पैदा कर सकता है कि आप आगे बढ़ने लायक नहीं हैं, या यह कि आपके बिना हर कोई बेहतर होगा, आपकी कोई ज़रूरत नहीं है। यदि आप ऐसा महसूस कर रहे हैं, और विशेष रूप से यदि ये विचार प्रबल हो रहे हैं तो आपको तुरंत सहायता प्राप्त करने की आवश्यकता है

जानें इसके लक्षण 

  • लगातार कमतर या निराशाजनक महसूस करना 
  • जिन कामों में आप आनंद लेते थे, उन्हें करने में बहुत कम रुचि या आनंद होना।

अन्य संभावित संकेत और लक्षण

  • चिड़चिड़ापन या बेचैनी
  • हर समय थका हुआ या ऊर्जा की कमी महसूस करना
  • खालीपन या अकेलापन महसूस करना,
  • नींद की समस्या – बहुत अधिक, या बहुत कम
  • वजन कम करना या बढ़ना
  • अपने बारे में या अपने द्वारा की गई चीजों के बारे में बुरा महसूस करना
  • एकाग्रता की समस्या 
  • कम सेक्स ड्राइव 
  • मौत के बारे में बहुत सोचना
  • खुद को नुकसान पहुंचाने के विचार आना।

जिन लोगों को डिप्रेशन होता है उनमें स्ट्रेस होना आम बात है। चिंता और अवसाद के लक्षण ओवरलैप हो सकते हैं। 

इन शब्दों के सही अंतर को समझना बेहद ज़रूरी है ताकि समय से इन सबका समाधान और इलाज किया जा सके।

यह भी पढ़ें: डिलीवरी के बाद नई मां की जल्दी रिकवरी में मदद करती हैं ये 2 ट्रेडिशनल रेसिपीज

शालिनी पाण्डेय शालिनी पाण्डेय

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें