आपके तन और मन को डिटॉक्स कर सकती है आयुर्वेद की पंचकर्म थेरेपी, जानिए ये कैसे काम करती है

Published on: 5 June 2022, 14:00 pm IST

बाल झड़ना हो या पेट की समस्या, मुंहासे या अनियमित पीरियड्स। आपकी जो भी समस्या हो, पंचकर्म क्रिया की मदद से डिटॉक्स करना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।

kya hai panchkarm
जानिए क्या है पंचकर्म और इसके फायदे। चित्र : शटरस्टॉक

नींबू और गर्म पानी पीने से लेकर ध्यान तक – जब हम अपने मन, शरीर और आत्मा को डिटॉक्सीफाई करने की बात करते हैं तो हम यही सब करते हैं। बढ़ते तनाव, और स्वास्थ्य समस्याओं ने डिटॉक्स को पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण बना दिया है। ऐसे में आयुर्वेद से बेहतर क्या हो सकता है।

आजकल, ढेर सारी पॉप-इन टैबलेट, पाउडर और ड्रिंक्स हैं जो आपके शरीर को अंदर से साफ करने का वादा करते हैं। मगर वे कितना काम करते हैं यह कोई नहीं जानता। लेकिन आयुर्वेद में एक तकनीक है जिसे पंचकर्म के नाम से जाना जाता है जिसके उपयोग से आप उन समस्याओं को हल कर सकते हैं जो आपके स्वास्थ्य को खराब कर सकती हैं।

पंचकर्म आपके स्वास्थ्य संबंधी सभी समस्याओं का हल है। तो, आइए देखें कि आप इस चमत्कारी आयुर्वेदिक तकनीक का कैसे उपयोग कर सकती हैं।

पंचकर्म क्या है?

पंचकर्म प्रत्यक्ष रूप से आयुर्वेद की सबसे महत्वपूर्ण शाखा है। यह एक प्राकृतिक उपचार है जो शरीर को डिटॉक्सीफाई करता है। साथ ही, संतुलन और ऊर्जा को पुनर्स्थापित करता है। पंचकर्म का अनुवाद ‘फाइव एक्शन’ है, जो एक ऐसी तकनीक का नाम है जो शरीर को नियंत्रित करने के लिए पांच अनूठी बुनियादी गतिविधियों पर निर्भर करती है: वामन (Therapeutic Vomiting), विरेचन (Purgation), बस्ती (Herbalized oil enemas), नस्य (Nasal irrigation), और रक्तमोशन (Bloodletting)। अधिकांश आयुर्वेदिक प्रक्रियाओं का निर्माण पंचकर्म के आधार पर किया जाता है।

आयुर्वेद और बिरला आयुर्वेद के पोषण विशेषज्ञ डॉ गौरव त्रिपाठी, कहते हैं – “जब औषधीय तेलों का उपयोग मानव शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद के लिए किया जाता है, तो यह पंचकर्म कहलाता है। पंचकर्म एक वैध आयुर्वेदिक विश्वास प्रणाली है जो अपने नाम पर कायम है।”

सिर से पैर तक आपको डिटॉक्स करने के लिए यहां पांच पंचकर्म उपचार दिए गए हैं

वामन: वजन संबंधी समस्याओं में मदद करता है

इस उपचार में, पहले कुछ दिनों के लिए, रोगी को अंदर और बाहर तेल और सेंक उपचार प्राप्त होता है जिसमें उपचार और आयुर्वेदिक दवाएं शामिल होती हैं। इसके बाद आपको काढ़ा दिया जाता है। यह उल्टी को प्रेरित करता है और शरीर को ऊतकों से विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करता है। वजन बढ़ना, अस्थमा और कफ जैसे रोगों के लिए वामन चिकित्सा की सलाह दी जाती है।

panchkarma
आपके तन और मन को डिटॉक्स कर सकती है आयुर्वेद की पंचकर्म थेरेपी. चित्र : शटरस्टॉक

विरेचन: आपकी गट हेल्थ के लिए

डॉ त्रिपाठी बताते हैं – “विरेचन में विषों को शुद्ध करने या नष्ट करने के लिए आंतों की सफाई का उपयोग किया जाता है। इस उपचार में रोगी के लिए कई उपचार शामिल हैं। रोगी को आंतों की सफाई को प्रोत्साहित करने के लिए एक प्राकृतिक रेचक दिया जाता है, जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में सहायता करता है। विरेचन का उपयोग मुख्य रूप से पित्त बीमारियों जैसे हर्पीज ज़ोस्टर, पीलिया, कोलाइटिस और सीलिएक रोग के इलाज के लिए किया जाता है।”

बस्ती: गठिया से जूझ रहे लोगों के लिए

यह उपचार विशेष रूप से जटिल स्थितियों के लिए बहुत सारे लाभ प्रदान करता है। घरेलू काढ़े, तेल, घी या दूध को मलाशय में स्थिति की प्रकृति के अनुसार नियंत्रित किया जाता है, और इसके कई सकारात्मक परिणाम होते हैं। यह दवा गठिया, बवासीर और कब्ज जैसी वात स्थितियों के लिए अच्छा काम करती है।

नस्य: आपकी मानसिक भलाई पर ध्यान केंद्रित करता है

यह चिकित्सा सिर क्षेत्र की सफाई और शुद्धिकरण के लिए शानदार है। सत्र की शुरुआत में सिर और कंधे के क्षेत्रों में एक कोमल मालिश और सेंक प्राप्त होता है। नाक ,एन तेल की बूंदों को डाला जाता है। यह पूरे सिर क्षेत्र को साफ करता है और मस्तिष्क दर्द, सिरदर्द, बालों की समस्याओं, नींद की गड़बड़ी, तंत्रिका संबंधी विकार, साइनसिसिटिस, क्रोनिक राइनाइटिस और श्वसन समस्याओं जैसे विभिन्न लक्षणों को कम करता है।

रक्तमोक्षण: सभी त्वचा संबंधी मुद्दों के लिए

डॉ त्रिपाठी का सुझाव है – “यह उपचार प्रभावी रूप से रक्त को शुद्ध करता है और अशुद्ध रक्त के कारण होने वाली बीमारियों का इलाज करता है। यह एक विशिष्ट क्षेत्र या पूरे शरीर पर किया जा सकता है। यह उपचार सोरायसिस और डर्मेटाइटिस जैसे त्वचा रोगों और फोड़े और रंजकता जैसे स्थानीय घावों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है।”

जैसे-जैसे आपका पंचकर्म उपचार आगे बढ़ता है, आपको विशिष्ट औषधीय जड़ी-बूटियों और इसैन्श्यल ऑयल के साथ घर पर पालन करने के लिए आयुर्वेदिक आहार दिया जाएगा। ये आपके लिवर और पेट के अंगों को सक्रिय करने में मदद करेंगे और प्रदूषकों को दूर करने में मदद करेंगे।”

यह भी पढ़ें : डाइट और वर्कआउट से भी कम नहीं हो रहा वजन, तो अब ये तकनीक आजमाएं

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें