अगर आपके वर्कप्लेस का वातावरण भी है टॉक्सिक, तो जानें उससे कैसे बचना है

एक अस्वस्थ वर्कप्लेस आपकी क्षमता में बाधा डालता है, जिसके कारण आप जो काम बहुत अच्छा कर सकते है वो भी नहीं कर पाते है।
emotional dysregulation ke signs ko pehchaanein
युवाओं में पाई जाने वाली ये समस्या वर्कप्लेस पर उनकी ग्रोथ में रूकावट का काम करती है। चित्र शटरस्टॉक।
संध्या सिंह Published: 11 Apr 2024, 18:00 pm IST
  • 134

हम सभी को अपना काम पसंद है, यही कारण है कि हमने उसी में अपना करियर चुनने का फैसला लिया है। जिस काम को हम सबसे अच्छे से कर सकते है और उसके लिए उत्साहित रहते है। हालांकि, यह हमेशा मजेदार नहीं होता है। कई बार आपको अपने काम के अलावा भी कुछ तकलीफों का सामना करना पड़ता है जैसे टॉक्सिक वातावरण। टॉक्सक वातावरण में काम करना आपकी खुशी को खत्म कर सकता है और आपके द्वारा किए जाने वाले काम के प्रति आपके उत्साह को कम कर देता है।

इस कारण क्या होता है कि आप अपने सहकर्मियों से बचने की कोशिश करने लगते है ताकि आपको खराब व्यवहार का सामना न करना पड़े। एक अस्वस्थ वर्कप्लेस आपकी क्षमता में बाधा डालता है, जिसके कारण आप जो काम बहुत अच्छा कर सकते है वो भी नहीं कर पाते है। टॉक्सिक वातावरण के कारण नौकरी छोड़ना कोई हल नहीं हो सकता है इसलिए आज हम आपको बताते है कि आप इससे कैसे बच सकते है।

वर्कप्लेस में टॉक्सिक वातावरण से कैसे निपटने है ये जानने के लिए हमने संपर्क किया सीनियर क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट डाॅ आशुतोष श्रीवास्तव से।

chup rahne ki bajaye awaz uthayen
चुप रहने की बजाए आवाज उठाएं। चित्र-शटरस्टॉक

वर्कप्लेस के टॉक्सिक वातावरण से कैसे बचना है

1 एक सहायक समूह की तलाश करें

आपके काम के वातावरण के बावजूद भी, एक सहायक नेटवर्क होना महत्वपूर्ण है जिस पर आप भरोसा कर सकें। काम के अलावा एक आपके पास एक ऐसा ग्रुप होना चाहिए जो आपकी मदद करें। जिस पर आप तनाव के समय भरोसा कर सकें। लेकिन अपने सहकर्मियों पर विश्वास करना हमेशा उचित नहीं लगता है, लेकिन फिर भी बाहर की मदद के लिए, अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए आपको एक आधार और साधन मिल सकता है।

2 खुद को शांत करने और आराम करने के तरीके खोजें

काम के कठिन दिन के बाद, आराम करना और खुद को फ्रेस फील करवाना बहुत जरूरी है। काम से संबंधित तनावों पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय, ऐसी एक्टिविटी करने पर ध्यान दें जो आपका ध्यान दिन की घटनाओं से हटा दें। जिम जाने, घर के कामों का निपटाना, या अपने पसंदीदा शौक में शामिल होने पर विचार करें। काम के बाद की एक्टिविटी पर ध्यान केंद्रित करके, आप अपने दिमाग को दिन की चुनौतियों पर टिके रहने से रोक सकते हैं।

कुछ तरीके दिए गए हैं जो आपको आराम दे सकते है

अपने विचारों को लिखें
किताब पढ़े
व्यायाम
अपने पसंदीदा संगीत को सुनें और नृत्य करें
स्नान या शॉवर लें
एक मजेदार सैर पर जाने का सोचें

3 काम की परेशानी ऑफिस में छोड़कर जाएं

जब आप अपनी शिफ्ट के बाद घर लौटें तो काम से संबंधित मामलों को ऑफिस में ही छोड़ने का प्रयास करें। हालांकि बाहर निकलने से अस्थायी राहत मिल सकती है, लेकिन घर पर रहने के बाद काम के बारे में चर्चा कम से कम करने का लक्ष्य रखें। अपना ध्यान उन चीजों पर रखें जो आपको आनंद देती है और आराम देती हैं, क्योंकि काम की समस्याओं पर ध्यान केंद्रित करने से तनाव बढ़ सकता है और आपके मूड पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

how to deal with office stress
वर्कप्लेस के माहौल एवं टीम के साथ आपके संवाद पर बहुत कुछ निर्भर करता है। चित्र एडॉबीस्टॉक।

4 किसी भी फालतू गॉसिप में भाग न लें

ऑफिस में काम करते समय सहकर्मियों के साथ मेलजोल बढ़ाना स्वाभाविक है, लेकिन किसी भी रूप में बिना किसी काम की गॉसिप से दूर रहें। गॉसिप या चूगली में नियमित भागीदारी आपके वर्कप्लेस में टॉक्सिक माहौल को बढ़ाती है। अपने साथियों के साथ साफ बाउंडरी निर्धारित करें, यह दर्शाता है कि आप नकारात्मक चर्चाओं पर ध्यान नहीं देंगे। ऑफिस की गॉसिप से दूर रहकर आप खुद को नकारात्मकता से दूर रख सकते हैं और अपने काम पर अपना ध्यान लगा सकते हैं।

5 काम के बीच में कुछ ब्रेक भी लें

अपने काम के पूरे जिन में रुकने और रिचार्ज करने के लिए कुछ पल को रखें। अपने शेड्यूल में छोटे-छोटे ब्रेक शामिल करने से आपका दिमाग तरोताजा हो जाता है। चाहे आप टहलने जाएं, माइंडफूलनेस का अभ्यास करें, या हेल्दी नाश्ते का आनंद लें, जब आप काम फिर से शुरू करते हैं तो अपने कार्यों से थोड़ी देर के लिए दूर जाने से आपका उत्साह बढ़ सकता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

ये भी पढ़े- हाइड्रेटिंग फ्रूट है तरबूज, पर इन 4 हेल्थ कंडीशन्स में हो सकता है नुकसानदेह, खाने से पहले चेक कर लें

  • 134
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख