वैलनेस
स्टोर

जानिए क्या होता है एंग्जायटी अटैक और आप इसे कैसे मैनेज कर सकती हैं

Published on:24 June 2021, 17:31pm IST
एंग्जायटी हमारे जीवन का एक हिस्सा बन गयी है, खासकर महामारी के दौरान। लेकिन क्या होगा अगर आपको बार-बार एंग्जाइटी अटैक आते हैं? क्या हैं उसके ट्रिगर प्वाइंट और आप उनसे कैसे निपटती हैं? अधिक जानने के लिए पढ़े।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 78 Likes
एंग्जायटी के कई शारीरिक लक्षण भी होते हैं. चित्र : शटरस्टॉक
एंग्जायटी के कई शारीरिक लक्षण भी होते हैं. चित्र : शटरस्टॉक

हम ऐसे समय में रह रहे हैं, जो अनिश्चितता और निराशाओं से घिरा हुआ है। चिंतित और कभी-कभी एंग्शियस महसूस करना स्वाभाविक है। लेकिन क्या यह आपके लिए जीवन का एक तरीका बन गया है? बता दें कि एंग्जायटी आम तौर पर तब होती है, जब किसी व्यक्ति को डर होता है कि कुछ गलत होने वाला है।

ऐसे मामलों में, आप डर और चिंता से ग्रस्त होते हैं और कुछ मामलों में कमजोर भी महसूस कर सकती हैं।

शोध बताते हैं कि एंग्जायटी को तनाव से जोड़ा गया है। हालांकि यह एक मानसिक स्वास्थ्य स्थिति है, पर इसके शारीरिक लक्षण भी हो सकते हैं। कई लोग इसे ‘पैनिक अटैक’ के रूप में देखते हैं, लेकिन यह पूरी तरह से अलग है और पैनिक डिसऑर्डर का लक्षण है।

मगर एंग्जायटी वास्तव में क्या होती है? यह तेज दिल की धड़कन, चक्कर आना, सीने में दर्द, सांस लेने में कठिनाई और तर्कहीन विचारों के रूप में प्रकट हो सकती है।

एंग्जायटी कैसे शुरू होती है?

शोध के अनुसार, एंग्जायटी किसी विशेष चिंता या भय की प्रतिक्रिया हो सकती है। लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं। ये हल्के और मध्यम से गंभीर तक जा सकते हैं। ज्यादातर लोग मानते हैं कि जब विशेष स्थिति (एंग्जायटी को ट्रिगर करने वाली चीजों) का ध्यान रखा जाता है, तो हालात बेहतर हो सकते हैं।

एंग्जायटी को अन्य स्थितियों से अलग करने वाली बात यह है कि चीजें अक्सर कैसे बनती हैं, और कुछ समय तक चलती हैं। पैनिक अटैक के विपरीत, जब एंग्जायटी की बात आती है, तो चीजें उतनी जल्दी नहीं बढ़तीं। पर अगर इसे अनियंत्रित छोड़ दिया जाए, तो यह पैनिक अटैक का रूप ले सकती हैं।

आप एंग्जायटी को नज़रंदाज़ नहीं कर्र सकते हैं. चित्र : शटरस्टॉक
आप एंग्जायटी को नज़रंदाज़ नहीं कर्र सकते हैं. चित्र : शटरस्टॉक

एंग्जायटी के कुछ प्रमुख लक्षणों में चिंता और आशंका, बेचैनी, नींद की समस्या, ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई, चिड़चिड़ापन, उदासी और दबाव महसूस करना शामिल हैं। शारीरिक लक्षणों में हृदय गति में परिवर्तन, सिर या गर्दन में तनाव, सिरदर्द, घबराहट या दस्त, पसीना, मुंह सूखना, गले में जकड़न और सांस लेने में कठिनाई, कांपना या हिलना और बेहोशी महसूस करना शामिल हैं।

यह जरूरी नहीं है कि आपको ये सभी लक्षण एक ही बार में हों। यह सब स्थिति पर निर्भर करता है – यह हो सकता है कि एक एग्जामिनेशन में मध्यम लक्षण सामने आए, जबकि गंभीर लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं।

क्या हो सकता है एंग्जायटी का कारण?

चिंता के कुछ सबसे सामान्य कारणों में है – काम का दबाव, वित्तीय दबाव, परिवार या रिश्तों की समस्याएं, तलाक, अलगाव, या शोक, माता-पिता के बारे में चिंताएं, जीवन बदलने वाली स्थितियां, कम गतिशीलता, मानसिक कार्य की हानि, शाॅर्ट टर्म मेमोरी या स्वास्थ्य समस्याएं शामिल हैं।

इसे किसी अन्य कारक या स्वास्थ्य की स्थिति से भी जोड़ा जा सकता है, जैसे सोशल एंग्जायटी डिसऑर्डर (social anxiety disorder), ओब्सेसिव कम्पल्सिव डिसऑर्डर (obsessive-compulsive disorder), पोस्ट ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (PTSD) आदि।

यह नशीली दवाओं या शराब के दुरुपयोग या अत्यधिक कैफीन के उपयोग के कारण भी हो सकता है। कुछ हालिया या पिछले दर्दनाक अनुभव भी चिंता को ट्रिगर कर सकते हैं।

अगर आपको भी एंग्जायटी है तो कोशिश करें भविष्य की चिंता न करें. चित्र : शटरस्टॉक
अगर आपको भी एंग्जायटी है तो कोशिश करें भविष्य की चिंता न करें. चित्र : शटरस्टॉक

एंग्जायटी के कई प्रकार हैं जैसे-

1. पैनिक डिसऑर्डर: इसमें कम से कम दो बार पैनिक अटैक होना और उनका डर शामिल है। जो लोग इस स्थिति से पीड़ित हैं वे नौकरी खो सकते हैं या यहां तक ​​​​कि एक ट्रिगर से बचने की हद तक जा सकते हैं।

2. जेनरलाइज्ड एंग्जायटी डिसऑर्डर (Generalized anxiety disorder): यह व्यक्ति के जीवन में कई घटनाओं या गतिविधियों के बारे में एंग्जायटी की एक निरंतर स्थिति है।

3. फ़ोबिक डिसऑर्डर: जैसा कि नाम से पता चलता है, यह विकार एक फ़ोबिया से जुड़ा हुआ है. उदाहरण के लिए, मकड़ियों या खुली जगहों का डर।

4. ओब्सेसिवे कॉमपल्सिव डिसऑर्डर (obsessive-compulsive disorder): इस स्थिति में, बार-बार सोचना और व्यवहार करना आम हैं।

आइये जानते हैं कि आप एंग्जायटी को कैसे मैनेज कर सकती हैं

सबसे पहले, संकेतों को जानना और आप जो महसूस करती हैं उसे पहचानना आवश्यक है। यदि आपको लगता है कि यह आपके नियंत्रण से बाहर हैं, तो चिकित्सीय मदद लेना आवश्यक है। साथ ही, जब आप अपने ट्रिगर्स को जानती हैं, तो मदद मांगना आसान हो जाता है।

साथ ही, जिस तेजी से भागती दुनिया में हम रहते हैं, उसमें हम अक्सर अपने आहार और व्यायाम पर ध्यान देना भूल जाते हैं। कुछ समय निकालने की कोशिश करें और अपने लिए चीजें करें। स्वस्थ आहार लें और अपने शरीर को गति दें।

आप योग श्वास, ध्यान और अन्य रणनीतियों सहित विभिन्न विश्राम तकनीकों को भी अपना सकते हैं, जो तनाव और चिंता को कम करने में मदद कर सकती हैं। इसके अलावा, एक नई एक्टिविटी की कोशिश करना भी एक अच्छा विचार है – यह संगीत, ध्यान, योग, पिलाटीज, या कुछ भी हो सकता है जो आपको अच्छा महसूस कराता है।

अगर कुछ भी मदद नहीं करता है, तो चिकित्सीय मदद महत्वपूर्ण है।

यह भी पढ़ें : क्या हर समय तनाव में रहती हैं? तो इस क्विज में हिस्‍सा लेकर जानिए क्‍या है हाई फंक्‍शनिंग एंग्‍जायटी

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।