खुद बनें अपनी प्रेरणा, हम बता रहे हैं सेल्फ मोटिवेशन के लिए कुछ टिप्स

वेट लॉस करना हो या प्रोफेशनल टार्गेट अचीव करने हों, किसी न किसी प्रेरणा स्रोत की जरूरत सभी को होती है। पर हर बार ऐसा नहीं होता, इसलिए जरूरी है कि आप सेल्फ मोटिवेशन का तरीका सीख लें।
जानिए खुद को मोटिवेट करने के तरीके। चित्र : शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 31 August 2022, 16:50 pm IST
ऐप खोलें

व्यक्तिगत प्रेरणा जीवन के लगभग सभी पहलुओं को बनाए रखने की कुंजी है। यदि हम प्रेरित नहीं हैं, तो हम अपना समय बर्बाद करने और अपने व्यक्तिगत और व्यावसायिक लक्ष्यों की उपेक्षा करने की अधिक संभावना रखते हैं। यहां तक कि सबसे दृढ़ निश्चयी लोग भी कभी-कभी काफी नेगेटिव महसूस कर सकते हैं। इसलिए हम बता रहे हैं कुछ टिप्स जो आपको फिर से मोटिवेटेड रहने में मदद करेंगी।

1. कैलेंडर पर अपना गोल सेट करें

अपनी मन की प्रेरणा को बढ़ावा देने के लिए आपको एक एक्सटर्नल गोल भी सेट करना होगा। आप जो कुछ भी हासिल करने का लक्ष्य रखते हैं, उसे कैलेंडर पर मार्क कर लें। इससे आपको बार – बार अपना गोल याद आता रहेगा।

यदि आपके लक्ष्य में इस स्ट्रक्चर नहीं है, तो आप इसके लिए के फ़ाइनल डेट निर्धारित कर लें। जिसके द्वारा आप अपने लक्ष्य को वास्तविक रूप से प्राप्त कर सकते हैं। जैसे मैराथन दौड़ना चाहते हैं? तो हर रोज़ 10,000 स्टेप्स का गोल सेट करें।

2. खुद को सेलिब्रेट करें

हर बार जब आप अपने साप्ताहिक लक्ष्यों को प्राप्त करते हैं तो खुद को पुरस्कृत करना सुनिश्चित करें। यह एक लंबे, कठिन सप्ताह के बाद आइसक्रीम के रूप में भी हो सकता है या आपकी सारी मेहनत के लिए स्पा जाना भी हो सकता है। जो भी पुरस्कार आपको मोटिवेट करें, वही आपको खुद देने चाहिए।

3. प्लानिंग करें

हर दिन योजना के अनुसार नहीं चलेगा, और यह ठीक है। ज़िंदगी में ऐसा होता है। मुश्किल दिनों में प्रेरणा बढ़ाने का एक तरीका बस उनके लिए योजना बनाना है। जब आप अपने लक्ष्य के बारे में सोचते हैं, तो उन चीजों की एक सूची बना लें जो आपके रास्ते में आ सकती हैं।

पहले से चीज़ें प्लान करें। चित्र: शटरस्टॉक

4. खुद को ब्रेक दें

कभी-कभी सबसे दृढ़ निश्चयी लोग भी अपना मोटिवेशन खो सकते हैं। हो सकता है कि आप अपने लक्ष्य के पीछे भागते – भागते खुद को ब्रेक नहीं दे रहे हों और इसलिए ज़्यादा थका हुआ महसूस कर रहे हों। इसलिए ब्रेक लेना भी ज़रूरी है। यदि यह एक फिटनेस लक्ष्य है, तो अपने सामान्य एक या दो दिन के आराम के बजाय शायद तीन या चार दिन का आराम लें। यदि यह स्कूल में है, तो अपना सारा काम एक ही सिटिंग में करने की कोशिश न करें।

5. हार से डरें नहीं

हर कोई कभी न कभी कमज़ोर पड़ जाता है। यदि आप सप्ताह के लिए अपने लक्ष्यों को पूरा करने में विफल रहते हैं, तो इसे एक सबक के रूप में लें। अपने अगले लक्ष्य को समय से पहले पूरा करने का प्रयास करें, ताकि बचे हुए समय का उपयोग आप लंबित कार्यों को पूरा करने में कर सकें। इस तरह आप सही शेड्यूल पर बने रहेंगे। इसलिए, असफलता पर ध्यान न दें; बस इसे एक मानवीय घटना के रूप में स्वीकार करें, और अपने लक्ष्यों की दिशा में काम करना जारी रखें।

यह भी पढ़ें : अगर दिन भर टीवी देखते रहते हैं आपके एजिंग पेरेंट्स? तो उनके लिए बढ़ सकता है डिमेंशिया का जोखिम

लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
Next Story