याद्दाश्त कमजोर कर आपको चिड़चिड़ा बना सकती हैं ये 5 आदतें, आज से ही करें इनमें सुधार

आज हम बात करेंगे ऐसी ही कुछ आदतों के बारे में जो आपके ब्रेन फंक्शन को प्रभावित करते हुए धीरे धीरे आपकी मेमोरी को डिस्ट्रॉय कर रही हैं।
सभी चित्र देखे bad habits for memory loss
जानें मेमोरी लॉस से संबंधी कुछ जरुरी जानकारी। चित्र : एडॉबीस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 31 May 2024, 14:58 pm IST
  • 124

आपके खान पान की आदतों से लेकर आपके सोने का समय, यह सभी आपके ब्रेन फंक्शन से जुड़े होते हैं। नियमित दिनचर्या में फॉलो की जाने वाली कई ऐसी गतिविधियां और आदतें हैं, जो आपकी मेमोरी और ब्रेन पॉवर को सकारात्मक या नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती हैं। अब यह आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप किन गतिविधियों में पार्टिसिपेट कर रही हैं। आज हम बात करेंगे ऐसी ही कुछ आदतों के बारे में जो आपके ब्रेन फंक्शन को प्रभावित करते हुए धीरे धीरे आपकी मेमोरी को डिस्ट्रॉय कर रही हैं।

योगा इंस्टीट्यूट की डायरेक्टर और हेल्थ कोच हंसा जी योगेंद्र ने कुछ कॉमन मेमोरी डिस्ट्रॉयिंग हैबिट्स पर बात की है। तो चलिए जानते हैं, आखिर हम कौन सी ऐसी गलती कर रहे हैं, और हमें क्या करने की आवश्यकता है।

यहां जानें कौन सी आदतें मेमोरी को प्रभावित करती हैं (bad habits for memory loss)

1. लोगों में न घुलना-मिलना

लोगों के साथ सोशलाइज न होना यानी की सोशल दुनिया से दूरी बनाकर रखना, आपके ब्रेन की सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। जिसकी वजह से याददाश्त में कमी आ सकती है। वहीं रिसर्च में यह सामने आया है, कि किस प्रकार सोशल कनेक्शन मेंटेन करने से ब्रेन फंक्शन इंप्रूव होता है और मेमोरी भी बूस्ट होती है। सोशल कनेक्शन का मतलब यह नहीं कि आप सोशल मीडिया पर कनेक्शन बना रही हैं। अपने आसपास मौजूद लोग जैसे कि दोस्त, परिवार के साथ वक्त बिताएं, साथ ही साथ कम्युनिटी एक्टिविटीज में पार्टिसिपेट करने और सेल्फ्लेस वॉलंटरी वर्क करने से भी मदद मिलेगी।

नींद पूरा करना बहुत जरुरी होता है. चित्र : एडॉबीस्टॉक

2. नींद की कमी

नींद की गुणवत्ता और समय के प्रभावित होने से आपके ब्रेन की कैपेसिटी पर नकारात्मक असर पड़ता है, जिसकी वजह से मेमोरी लॉस की समस्या हो सकती है। इसके अलावा मेंटल फंक्शन भी प्रभावित होता है।

ब्रेन पॉवर को बूस्ट करने के लिए और मेमोरी को एनहांस करने के लिए नियमित रूप से 7 से 8 घंटे की नींद लेना बेहद महत्वपूर्ण है। इसके अलावा यह सुनिश्चित करें कि आपके शरीर को पर्याप्त आराम मिल रहा हो।

यह भी पढ़ें: Zero carb diet side effect : ब्रेन को बूढ़ा और आपको चिड़चिड़ा बना सकती है जीरो कार्ब्स डाइट, जानिए कैसे

3. पोषक तत्वों की कमी

आवश्यक पोषक तत्व आपके समग्र शारीरिक फंक्शन के लिए बेहद महत्वपूर्ण होते हैं। पोषक तत्वों की कमी जैसे कि ओमेगा 3 फैटी एसिड, विटामिन बी और विटामिन डी के साथ ही एंटीऑक्सीडेंट ब्रेन फंक्शन को प्रभावित कर सकते हैं। ऐसे में मेमोरी पर नकारात्मक असर पड़ता है।

janiye poshan ki kami ke lakshan
पोषक तत्वों की कमी के कारण हो सकता है मेमोरी लॉस। चित्र : शटरस्टॉक

इस प्रकार की समस्याओं को अवॉइड करने के लिए ब्रेन बूस्टिंग फूड्स जैसे की हरी पत्तेदार सब्जियां, नट्स, बेरीज आदि को अपने नियमित डाइट में शामिल करें। इससे आपकी मेमोरी बूस्ट होती है। यह आपके ब्रेन फंक्शन को इंप्रूव करने के साथ ही शारीरिक स्वास्थ्य में भी सुधार करेगा।

4. क्रॉनिक स्ट्रेस

स्ट्रेस ब्रेन और मेमोरी को डिस्ट्रॉय करने वाला एक सबसे कॉमन कारण है। नियमित तनाव आपके शरीर में कॉर्टिसोल नामक हार्मोन के स्तर को बढ़ा देता है। ये हार्मोन आपके ब्रेन सेल्स को डैमेज कर सकता है, साथ ही मेमोरीज फॉर्मेशन को भी डिस्टर्ब कर देता है। ऐसे में स्ट्रेस रिड्यूसिंग टेक्निक्स की मदद से आप इसपर नियंत्रण पा सकती हैं।

नियमित रूप से योगासन, मेडिटेशन और प्राणायाम जैसी गतिविधियों में पार्टिसिपेट करें। इससे आपके दिमाग और मन को शांत रहने में मदद मिलेगी। इसके साथ ही यह आपके ब्रेन को भी प्रोटेक्ट करता है। इसके अलावा प्रकृति में कुछ समय बिताने से भी आपको मदद मिल सकती है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
kya hai sahin sitting posture
खराब पॉश्चर आपके आत्मविश्वास को भी प्रभावित करता है। चित्र-अडोबी स्टॉक

5. सेडेंटरी लाइफस्टाइल

लंबे समय तक बैठे रहना यह न केवल आपकी शारीरिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है, बल्कि आपके ब्रेन फंक्शन पर भी नकारात्मक असर डालता है। ऐसे में इसका ध्यान रखना बहुत जरूरी है, अन्यथा यह समय के साथ आपकी मेमोरी को भी डिस्ट्रॉय कर सकता है। नियमित रूप से शारीरिक गतिविधियों में भाग लें, इससे शरीर के साथ ब्रेन में भी सर्कुलेशन बढ़ता है। इस प्रकार यह न्यू ब्रेन सेल्स के ग्रोथ को स्टिम्युलेट करता है और मेमोरी को बढ़ावा देता है।

तेज चलना, डांस करना, सूर्य नमस्कार और अन्य प्रकार के प्राणायाम यह सभी इसमें आपकी मदद कर सकते हैं। ऐसी गतिविधियों में पार्टिसिपेट करें जिसे आप खुलकर एंजॉय करती हों।

यह भी पढ़ें: अगर नहीं छोड़ी ये 5 आदतें, तो आप अलग-थलग पड़ जाएंगे, जानिए आइसोलेशन से कैसे बचना है

  • 124
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख