कोई और नहीं, आपकी ये 6 आदतें बढ़ा रहीं हैं आपकी एंग्जाइटी, इन पर ध्यान देना है जरूरी

तनाव और चिंता ऐसे दो कारण है, जिनकी वजह से व्यक्ति की मानसिक स्थति उसके वश में नहीं होती। लेकिन क्या आप जानती हैं कि हमारी आदतें भी एंग्जाइटी का कारण होती हैं?

overthinking se bachen.
यहां हैं वे 6 आदतें जो आपका एंग्जाइटी लेवल घटा सकती हैं। चित्र: शटरस्टॉक
ईशा गुप्ता Published on: 2 September 2022, 11:00 am IST
  • 141

आदतें हमारे व्यक्तित्व पर गहरा असर डालती हैं। अक्सर जैसी हमारी आदतें होती है, हम खुद भी वैसे ही बनते जाते हैं। उदाहरण के लिए अगर आपको बहुत ज्यादा सोने की आदत है, तो ज्यादा मेहनत करने पर आप जल्दी थकने लगेंगी, क्योंकि आपका शरीर और दिमाग सोने की डिमांड करेगा। इसी प्रकार अगर आप किसी बड़ी समस्या या मानसिक तनाव से गुजर रही हैं, तो आपकी आदतें ही आपकी चिंता बढ़ने का कारण बन सकती हैं।

इस बात की पुष्टि करते हुए मेंटल हेल्थ एक्सपर्ट डॉ ललिता का एक इंस्टाग्राम पोस्ट सामने आया है, जिसमें उन आदतों के बारें में बताया गया है, जो एंग्जाइटी बढ़ने का कारण बन सकती हैं। तो चलिए जानते हैं उन आदतों के बारें में गहनता से, जो हमारे मानसिक स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा रहीं हैं।

मेंटल हेल्थ एक्सपर्ट, साइकोलॉजिस्ट डॉ ललिता के अनुसार चिंता बढ़ने के पीछे यह कारण जिम्मेदार हो सकते हैं –

1. खुद की तुलना दूसरों से करना

अक्सर कोई भी समस्या आने पर हम खुद की दूसरों से तुलना करने लगते हैं, जैसे कि सफलता न मिलना या किसी काम में विफल होना आदि। साइकोलॉजिस्ट डॉ ललिता के अनुसार खुद की दूसरों से तुलना करना हमारी चिंता और तनाव को बढ़ा सकती है।

अपर्याप्त नींद आपका एंग्जाइटी लेवल बढ़ा सकती है। चित्र: शटरस्टॉक

2. पर्याप्त नींद न लेना

मेंटल हेल्थ एक्सपर्ट के मुताबिक अच्छी नींद लेने से सेहत भी अच्छी बनी रहती है। लेकिन अगर आप पर्याप्त नींद नहीं लेती है और जगने के लिए कैफीन की ज्यादा मात्रा का सेवन करती हैं, तो आपकी यह आदत आपका एंग्जाइटी लेवल बढ़ा सकती है। जिससे तनाव और फिर अवसाद का भी जोखिम हो सकता है।

3. सोशल मीडिया का ज्यादा उपयोग

आज की मॉडर्न लाइफ में सोशल मीडिया लोगों की आदत बन गया है, रील लाइफ की लोग अपनी रियल लाइफ से तुलना करने लगते हैं। एक्सपर्ट के अनुसार सोशल मीडिया का ज्यादा उपयोग करना और लगातार खबरें देखते रहने की आदत भी आपकी चिंता को बढ़ाने का बड़ा कारण हो सकता है।

फिजिकल हेल्थ पर ध्यान नहीं देना स्वास्थ्य समस्याओं मे डाल सकता है। चित्र : शटरकॉक

4. फिजिकल हेल्थ को इग्नोर करना

अगर हमारी फिजिकल हेल्थ ठीक है, तो हम ज्यादा कॉन्फिडेंट और खुश रहते हैं। फिजिकल हेल्थ पर ध्यान नहीं देने या अनहेल्दी ईटिंग फॉलो करना हमें कई स्वास्थ्य समस्याओं मे डाल सकता है। साइकोलॉजिस्ट का कहना हैं कि अपनी फिजिकल हेल्थ को इग्नोर करना और खाना स्किप करना आपकी चिंता बढ़ने का बहुत बड़ा कारण हो सकता है।

5. इच्छा के अनुसार काम नहीं करना

कई बार हमें अपनी इच्छा के विरूद्ध भी कुछ काम करने पड़ते है। जिसके कारण हम उस काम को पूरे मन से नहीं कर पाते और परेशान हो जाते हैं। डॉ ललिता के अनुसार जिस काम को आप करना नहीं चाहते उस काम को करने के लिए तैयार हो जाने की आदत हमारी चिंता और तनाव को बढ़ा सकती है।

6. खराब माहौल में रहना

आसपास के माहौल का हमारें दिमाग पर सीधा असर पड़ता है। मेंटल हेल्थ एक्सपर्ट के अनुसार घर का माहौल खराब होने से आपका मानसिक तनाव और चिंता ज्यादा बढ़ सकती है। इसलिए घर पर शांत माहौल बनाने का प्रयास करें।

यह भी पढ़े – एचपीवी से अनजान रहती हैं कुछ महिलाएं, जानिए क्या हैं अनसेफ सेक्स से फैलने वाले इस वायरस के लक्षण

  • 141
लेखक के बारे में
ईशा गुप्ता ईशा गुप्ता

यंग कंटेंट राइटर ईशा ब्यूटी, लाइफस्टाइल और फूड से जुड़े लेख लिखती हैं। ये काम करते हुए तनावमुक्त रहने का उनका अपना अंदाज है।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory