पार्टनर से हो गई है अनबन, तो इन 5 तरीकों से करें अपने गुस्से को शांत

Published on: 21 July 2022, 19:48 pm IST

आपका क्रोध कुछ स्थितियों में और एक निश्चित समय पर उचित हो सकता है, लेकिन हमेशा नहीं। इसलिए झगड़े के दौरान याद रखें रिश्ते में गुस्से को कंट्रोल करने के ये 5 तरीके।

environmental factor ban sakta hai aapke krodh ka karan.
आसपास का वातावरण बन सकता है आपके क्रोध का कारण। चित्र शटरस्टॉक।

आपके साथ ऐसा कितनी बार हुआ है कि किसी लड़ाई या बहस में आप वो कह जाते हैं जो आपको अपने पार्टनर से नहीं कहना चाहिए? ऐसा तब होता है जब आपकी भावनाएं-खासकर आपका गुस्सा-आप पर हावी हो जाता है। रिश्ते में सहमत – असहमति लगी रहती है, लेकिन इसके लिए क्रोध करना सही नहीं है। लड़ाई के बाद अक्सर लोग गिल्टी फील करते हैं कि उन्होंने ऐसा क्यूं कहा। इससे कई बार रिश्ते भी खराब हो सकते हैं। इसलिए बेहतर यही है कि आपस की लड़ाई को हेल्दी तरीके से संभाला जाए और गुस्से को कंट्रोल किया जाए। इसके लिए आपको रिश्ते में अपने गुस्से को नियंत्रित करने के तरीके सीखने की जरूरत है।

अगर आपको अपने साथी के प्रति अपने गुस्से को नियंत्रित करने में मुश्किल हो रही है, तो यह लेख आपके लिए है। हेल्थ शॉट्स ने वॉकहार्ट अस्पताल, मीरा रोड, मुंबई की मनोचिकित्सक, डॉ सोनल आनंद, से बात की, जिन्होंने हमें यह समझने में मदद की कि लड़ाई में गुस्से से कैसे निपटा जाए।

अपने साथी के साथ लड़ाई में शांत रहने के लिए यहां 5 टिप्स दिए गए हैं:

1. गहरी सांस लें और गुस्से से बाहर निकलें

जब आप क्रोधित होते हैं, तो आपने देखा होगा कि आपकी श्वास तेज हो जाती है। तो, अपने गुस्से पर नियंत्रण को बेहतर बनाने का सबसे अच्छा और तेज़ तरीका है गहरी सांसे लेना। डॉ आनंद कहती हैं, “अपने दिल की धड़कन और श्वास पर ध्यान केंद्रित करके आप अपनी खुद की भावनात्मक स्थिति से अवगत हो सकते हैं।” इसलिए, अपने शरीर को शांत करने और क्रोध को कम करने के लिए, कुछ मिनटों के लिए सांस लेने की सलाह दी जाती है।

krodh seht ko buri trh prabhavit krta hai.
क्रोध आपकी नींद की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकता है। चित्र: शटरस्टॉक

2. क्रोध के स्तर को कम करने के लिए खुद को डिसट्रैक्ट करें

आप 10-सेकंड के नियम को आजमा सकती हैं। कई बार गुस्से में कही गई बातें दूसरे व्यक्ति को सबसे ज्यादा आहत करती हैं, भले ही आपका इरादा नहीं था। डॉ आनंद के अनुसार, “आप एक गिलास पानी पीकर या दूसरे कमरे में जाकर भी अपना ध्यान भटका सकती हैं, ताकि बढ़ते गुस्से से बचा जा सके।”

3. लगातार साइलेंट मोड में न आएं

जब आप और आपके साथी के बीच असहमति होती है, तो कभी-कभी आपको उनके चेहरे पर एक दरवाजा बंद करने जैसे ख्याल आ सकते हैं। मगर, ऐसा करना सबसे बुरा काम है क्योंकि यह आपको कुछ समय के लिए शांत कर सकता है, लेकिन यह आपको अधिक चिंतित और क्रोधित महसूस कराएगा। डॉ आनंद कहती हैं, “इसे न करें और चुप रहें ।”

4. अपने रिश्ते का विश्लेषण करें कि क्या गलत हो रहा है

क्या ट्रस्ट इशूज आपको परेशान कर रहे हैं? डॉ आनंद कहती हैं, “नकारात्मक परिस्थितियों के बारे में सकारात्मक तरीके से विचार करने की कोशिश करें।” एक ऐसी तकनीक है जो लोगों को उनके सोचने के तरीके को बदलने में मदद करती है, और इस तकनीक का उपयोग विशेष रूप से तब किया जाता है जब व्यक्ति तनावग्रस्त या क्रोधित होता है। उसके लिए, आप अपने साथी की मदद ले सकती हैं ।

5. स्वीकृति

स्वीकार करें कि हर कोई परफेक्ट नहीं है। अपनी गलतियों को स्वीकार करें और स्वीकार करें कि आप अपने साथी की गलतियों को भी माफ कर सकती हैं। हसी – मज़ाक करें, बात करें, समस्या का समाधान खोजें। पिछली मजबूत भावनाओं पर ध्यान दें कि समय के साथ आपका बंधन कैसे मजबूत हुआ है। याद रखें, कि स्वीकार करना आधी लड़ाई जीत ले जाता है।

यह भी पढ़ें : एंग्जाइटी और स्ट्रेस से भी छुटकारा दिला सकती हैं आयुर्वेदिक हर्ब्स, अगर सही मात्रा में करें इस्तेमाल 

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें