वैलनेस
स्टोर

ये 5 संकेत बताते हैं कि आपको है भावनात्मक उपचार की जरूरत, ये टिप्‍स आपके लिए हो सकते हैं मददगार 

Updated on: 15 February 2021, 17:28pm IST
वे पुराने अनुभव, जिन्‍होंने आपकी आत्‍मा को चोट पहुंचाई, उनसे जितना जल्‍दी हो सके बाहर आने में ही भलाई है।
विनीत
  • 88 Likes
छोटी बात पर भी बहुत गुस्‍सा आना आपकी खराब मेंटल हेल्‍थ का संकेत है। चित्र- शटरस्टॉक।

हम सभी ने बचपन के आघात, अपमानजनक संबंधों और जीवन में कठिन अनुभवों के रूप में भावनात्मक दर्द के विभिन्न स्तरों का अनुभव किया है। ये सभी दर्दनाक अनुभव अकसर हमें भावनात्‍मक रूप से चोटिल करते हैं। हम अपने जीवन को सर्वश्रेष्ठ तरीके से जीने की कोशिश करते हैं। फिर भी ये अनुभव और कुछ दबी हुई भावनाएं हमारे मानसिक स्वास्थ्य को लगातार क्षति पहुंचाती रहती हैं। पर चिंता न करें, इनसे उबरने का भी तरीका है। इन संकेतों को पहचान कर आप भी आ सकती हैं इनसे बाहर।

खतरनाक हैं तनाव के आंकड़ें 

आज, 43.8 मिलियन से अधिक लोग सालाना मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं से जूझ रहे हैं। इसके अलावा, 5 में से 1 अमेरिकी वयस्क किसी न किसी मानसिक बीमारी से पीड़ित हैं। लगभग 10 मिलियन अमेरिकी प्रमुख मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों के साथ रह रहे हैं। इसलिए यदि आपने अतीत में आघात का अनुभव किया है, तो यह संभावना है कि आपको भावनात्मक उपचार की आवश्यकता है।

लगातार चोट पहुंचाती हैं दबी हुई भावनाएं 

हो सकता है कि आप इस बात से अनजान हों। या फि‍र अपनी व्‍यस्‍तता में इसे नजरंदाज कर रहीं हों। पर यह सच है कि पुराने आघात आपकी नई स्थितियों को भी प्रभावित करते हैं। असल में जब ऐसी दमित भावनाओं का प्रबंधन नही किया जाता, तो आपका पिछला आघात न केवल आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को, बल्कि आपके रिश्‍तों को भी प्रभावित करता है।

यहां हम आपको ऐसी 5 स्थितियों के बारे में बता रहे हैं, जो यह दर्शाती हैं कि आपको तुरंत भावनात्मक उपचार की जरूरत है।

  1. आप नकारात्मक सोचने लगी हैं

आपको ज्यादातर समय नकारात्मक सोचने की आदत है। आपको ऐसा लगता है कि आप निराशावाद और नकारात्मकता के जाल में फंस रहे हैं। जहां आपका दिमाग हमेशा सबसे खराब स्थिति पर ध्यान केंद्रित करता है। आपको आशावादी होना मुश्किल लगता है। आप इस पर विश्वास करने में असफल हो जाते हैं कि आपके साथ अच्छी चीजें भी हो सकती हैं।

यह भी पढें: आपके रिश्‍ते की गर्माहट बयां करता है आप दोनों के गले मिलने का तरीका, जानिए कैसे

क्‍या करें

विशेषज्ञों के अनुसार, परिस्थितियों और जीवन के अनुभवों ने आपको वह व्यक्ति बना दिया है जो आप नहीं हैं। इसके चलते आप अपने आप को जीवन जीने से वंचित कर रहे हैं। सकारात्मकता की भावना आपके लिए चीजों को आसान बना सकती है, भले ही यह अल्पकालिक ही क्यों न हो। जब आप इसे पहचान लेती हैं, तो आप अपनी आत्मचिकित्सा की यात्रा पर आगे बढ़ना शुरु कर कर सकती हैं।

नेगेटिव भावनाओं को समझना जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक
नेगेटिव भावनाओं को समझना जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक
  1. अब आप सहज नहीं हैं

हमारी प्रवृत्ति और अंतर्ज्ञान अक्सर हमारा मार्गदर्शन करते हैं और हमें सही रास्ता दिखाते हैं, जब हमें जीवन की चुनौतियों के माध्यम से नेविगेट करना मुश्किल लगता है। यह हमारी गट फीलिंग है, जो हमें पहले से परिणामों की भविष्यवाणी करने और अनुभव करने की अनुमति देती है। हालांकि, पिछले भावनात्मक दर्द और आघात अक्सर हमारा मार्गदर्शन करने से, हमारी सहज क्षमताओं (intuitive abilities) को ब्लॉक कर सकते हैं।

यह भी पढें: फिजियोलॉजी एक्‍सपर्ट के बताए ये 5 कौशल रख सकते हैं आपके रिश्‍ते को लंबे समय तक सुरक्षित

क्‍या करें

भावनात्मक चिकित्सा हमें अपने अंतर्ज्ञान के साथ फिर से जुड़ने और हमारी अंतर्रात्‍मा की आवाज के साथ हमारे बंधन को फिर से बनाने में मदद कर सकती है।

  1. आप में विश्वास, करुणा और सहानुभूति की कमी है

क्या आपको लगता है कि आप अन्य लोगों पर अब भरोसा नहीं कर पातीं? क्या आपको सहानुभूति और करुणामयी होना कठिन लगता है? कठिन अनुभव और संघर्ष अक्सर हमारे विचारों, विश्वासों और धारणाओं को बदल सकते हैं। 

क्‍या करें

पर जब आप अपनी भावनाओं को अपने जीवन को नियंत्रित करने की अनुमति देते हैं, तो आप खुद पर नियंत्रण खो देंगे। आपको मुखर होने और खुद को संभालने की जरूरत है। आपको अपने प्रियजनों पर भरोसा करने की आवश्यकता है, क्योंकि वे आपका मार्गदर्शन कर सकते हैं। वे ही नकारात्मकता के इस चक्र से आपको बाहर निकाल सकते हैं।

जरूरत से ज्‍यादा सोचना आपकी परेशानियां बढ़ा सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
  1. आप बहुत अधिक सोचती हैं

जब आपको भावनात्मक उपचार की आवश्यकता होती है, तो आपके दिमाग को सामान्‍य की तुलना में अधिक कार्य करना पड़ता है। आप हर एक समस्या को लेकर अत्यधिक सोचना शुरू कर देती हैं, क्योंकि वे आपको वास्तव में परेशान कर रहे हैं।

क्‍या करें

इस बारे में सोचने से बचने की कोशिश करें। जैसे-जैसे आप कठिन विचारों और भावनाओं का सामना करने से बचते हैं, आपका दिमाग अधिक काम करने लगता है और आप अनावश्यक रूप से तनावग्रस्त और चिंतित रहने लगते हैं। यह तब आपके काम के प्रदर्शन, आपके रिश्तों और आपके निजी जीवन को प्रभावित कर सकता है।

विशेषज्ञ बताते हैं, यह एक शातिर जाल की तरह है और अगर आप इसमें फंस जाते हैं, तो यह आपको भस्म कर सकता है। लेकिन जब आप इसका प्रबंधन करते हैं तो यह आपको एक सुरक्षित स्थान पर पहुंचा देता है। यही कारण है कि प्राचीन ग्रंथ इसे ‘मंकी माइंड’ (monkey mind) के रूप में संदर्भित करते हैं। जो एक शाखा से दूसरी शाखा तक बिना किसी बाधा के कूद जाता है। जब हम इसे नियंत्रित करने और अपने मन को वश में करने का निर्णय लेते हैं, तभी यह हमारा अनुयायी बन जाता है।

  1. आप प्रतिक्रिया करते हैं, जवाब नहीं देते हैं

क्या आपको लगता है कि आप सामान्य से अधिक चिंतित, मूडी, चिड़चिड़े और गुस्से में हैं? फिर यह एक संकेत है कि आपको भावनात्मक उपचार की आवश्यकता है। जब आप भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक आघात का सामना कर रहीं हैं, तो आपको अपनी भावनाओं को नियंत्रित करने में कठिनाई होगी।

आप खुद को शांत करने के लिए अधिक उत्तेजित, क्रोधित और असमर्थ हो जाएंगे। आप बिना उकसावे ’के आक्रामक रूप से प्रतिक्रिया करते हैं, यहां तक ​​कि इस बात पर विचार किए बिना कि आपकी प्रतिक्रिया दूसरों को कैसे दुख पहुंचा सकती हैं।

आपकी मेंटल हेल्‍थ सर्वोपरि है। चित्र: शटरस्‍टॉक
आपकी मेंटल हेल्‍थ सर्वोपरि है। चित्र: शटरस्‍टॉक

क्‍या करें

ऐसी किसी भी स्थिति से बचने के लिए जरूरी है कि आप अपने साथ समय बिताएं। इसमें योग, ध्‍यान और प्राणायाम आपकी मदद कर सकता है। दिन के किसी भी समय शांत होकर केवल अपने बारे में अच्‍छी बातों पर फोकस करें।

उन यादों से बाहर आएं, उन्‍हें गैर जरूरी मानना शुरू करें जो आपको बार-बार चोट पहुंचाती हैं।

यह भी पढें: क्‍या किस करते समय आपकी आंखें भी बंद हो जाती हैं? साइकोलॉजिस्‍ट बता रहे हैं इसका कारण

विनीत विनीत

अपने प्यार में हूं। खाने-पीने,घूमने-फिरने का शौकीन। अगर टाइम है तो बस वर्कआउट के लिए।