सुबह की ये 5 अच्छी आदतें आपको रखेंगी दिन भर तरोताज़ा

सुबह जल्दी उठने से अच्छी आदत दूसरी कोई नहीं है, पर यही काफी नहीं है। दिन भर खुश रहने के लिए वैज्ञानिक कुछ और भी आदतों की वकालत करते हैं।
हर सुबह अपने दिल और दिमाग को इन अच्छीे आदतों का तोहफा दीजिए । चित्र : शटरस्टॉक
सुबह जल्दी उठने के फायदे कुछ दिनों में नजर आने लगेंगे। चित्र:शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Updated: 27 Apr 2022, 08:31 pm IST
  • 98

आपने कभी ध्यान दिया है, जिस दिन आप सुबह सुस्ती लिए हुए उठती हैं, उस दिन आपका पूरा दिन ऐसा ही सुस्त‍ बीतता है। यह सच है कि आपकी सुबह की शुरूआत आपके पूरे दिन का मूड सेट करती है। इसलिए यह जरूरी है कि सुबह ऐसी हो कि आपका तन-मन एक बेहतर दिन के लिए तैयार हो सके।

सुबह जल्दी उठ जाना ही काफी नहीं है। आप सुबह 5 बजे उठकर भी अगर खुद को बेहतर तरीके से तैयार नहीं करती हैं, तो इसका कोई फायदा नहीं। अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन के जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि सुबह की आदतें एक ऐसा जीवन बनाने में मदद करती हैं जहां खुशी, संतुष्टि और बेहतर प्रोडक्टिविटी पाई जा सकती है।

प्रसिद्ध क्लिनिकल और ऑर्गनाइजेशनल साइकोलॉजिस्ट डॉ. भावना बर्मी सुबह की उन आदतों की ओर हमारा ध्यान दिलाना चाहती हैं, जो हमारी खुशी में इजाफा कर सकती हैं।

डॉ. बर्मी कहती हैं, “सुबह की आदतें हमें फिर से सक्रिय करने, फोकस बनाने और अव्यवस्था से उपजे तनाव को कम करने में हमारी मददगार हो सकती हैं। इसके लिए वे सुझाव देती हैं –

1. सीखें आभार जताना

हम सभी अब इस बारे में जान चुके हैं कि आभार प्रकट करना यानी आपको जो कुछ भी मिला है उसके प्रति कृतज्ञ होना खुशी में इजाफा करता है। पर इसका अभ्यास भी जरूरी है। हम में से बहुत से लोग कई बार ऐसा सोचने लगते हैं, मुझे किस बात के लिए आभारी होना है। पर ऐसा सोचना एक गलत मानसिकता को विकसित करता है।

अध्‍यात्‍म आको संतुष्‍ट रहना सिखाता है। चित्र : शटरस्टॉक
अध्‍यात्‍म आको संतुष्‍ट रहना सिखाता है। चित्र : शटरस्टॉक

डॉ. बर्मी कहती हैं, “आभार एक बेहतर मानसिकता विकसित करने और अधिक अवसरों को नोटिस करने में मदद करता है। यह मानसिक अव्यवस्था को दूर करने, ध्यान केंद्रित करने और रचनात्मकता को बढ़ाने का एक प्रभावी तरीका है।”

तो, सबसे पहली आदत आपको यही सीखनी है कि अपने पास जो कुछ भी है, उसके प्रति आभारी होना है।

2. योग तो है खुशियों की चाबी

अब दुनिया भर में योग की वैज्ञानिकता को स्वीकार कर लिया गया है। योग हमारे मन, शरीर और आत्मा को जोड़ता है। इसलिए योगाभ्यास के लिए समय निकालना जरूरी है। भले ही यह 10 मिनट का सेशन हो, पर सुबह की शुरूआत में इसे जरूर शामिल किया जाए। डॉ. बर्मी के अनुसार, सुबह किया गया योगाभ्यास “ऊर्जा प्राप्त करने, ध्यान केंद्रित करने और अन्य संज्ञानात्मक कौशल में सुधार करने का एक शानदार तरीका है।”

योग को जानने के साथ-साथ उसका अभ्‍यास भी जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

यूएस नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन में छपे एक अध्ययन में पाया गया है कि प्राणायाम के नियमित अभ्यास में लॉन्ग टर्म फायदे मिलते हैं। अध्ययन में बताया गया है कि नियमित योग अभ्यास वास्तविक जैव रासायनिक परिवर्तनों को संतुलित कर बेहतर शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य प्रदान करता है।

तो फि‍र हर रोज सुबह अपने योगा मैट को बाहर निकालना न भूलें।
इस अभ्यायस को आदत में शुमार करने के लिए आप अपने योगा मैट को बिस्तर के पास भी रख सकती हैं। जब सुबह उठते ही आपकी नजर अपने योगा मैट पर पड़ेगी तो आपको याद रहेगा कि आपके योगाभ्यास का समय हो गया।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

3. पानी पीकर करें दिन की शुरुआत

सुबह सबसे पहले एक गिलास पानी पीना बिल्कुल भी मुश्किल काम नहीं है। फि‍र भी बहुत से लोग इसकी आदत नहीं डाल पाते। हालांकि बेड टी की आदत ज्यादा सुविधाजनक है। पर सोचिए हमारे जीवन के लिए सबसे ज्यादा जरूरी पानी ही है। और पिछले आठ घंटे से आपने खुद को पानी से वंचित रखा है।

सुबह उठकर पानी पीना हेल्‍दी लाइफ का फॉर्मूला है। चित्र: शटरस्‍टॉक

ऐसे में यह जरूरी है कि खुद को जितना जल्दी हाइड्रेट करें उतना अच्छा होगा।
अपने मूड को और बेहतर बनाने के लिए आप ग्रीन टी भी चुन सकती हैं। इसमें नींबू या संतरे को एड कर आप इसका स्वाद और गुणवत्ता दोनों बढ़ा सकती हैं।

4. नाश्त छोड़ने की आदत है खराब

आप पर बहुत सारा वर्क लोड है। आपको समझ नहीं आ रहा कि कैसे काम की शुरूआत करें और इस आपाधापी में आप नाश्ता करना ही भूल जाती है। यह हमारी सुबह की सबसे खराब आदत है। आपको याद रखना चाहिए कि लंबी अवधि से आपके शरीर को कुछ नहीं मिला है, तो उसमें एनर्जी कहां से आएगी। इसलिए जब भी ब्रेकफास्ट स्किप करने का ख्याल मन में आए तो इस ख्याल को ही मन से निकाल दें।

सुंदर दिखने वाला खाना बढ़ा देता है आपकी भूख। चित्र : शटरस्‍टॉक

शोध बताते हैं कि एक हेल्दी और मनभावन नाश्ता न केवल आपको एनर्जी देता है, बल्कि आपके मेटाबॉलिज्म को भी बेहतर बनाता है। इससे हमारी प्रोडक्टिविटी भी बढ़ती है। डॉ.बर्मी तो यह भी सुझाव देती हैं कि नाश्ता परिवार के सदस्यों के साथ करें। इससे भावनात्मक संबंध सकारात्मक होते हैं।

5. दिन भर के काम की सूची बनाना

टू-डू-लिस्ट, आपके बिजी शेड्यूल में एक एक्ट्रा काम लग सकती है। पर यकीन कीजिए यह आपके काम को बहुत आसान कर देगी। इसे मनोरंजक बनाने के लिए अपने कामों को नए नाम से लिस्ट‍ में शामिल करें। इससे आपको यह भी याद रहेगा कि आपको दिन भर में क्या करना है। और जब आप उन नामों को पढ़ेंगे, तो आपका मूड ज्यादा बेहतर होगा।

अपने दिन का मूड आप खुद सेट कर सकती हैं। चित्र : शटरस्‍टॉक

डॉ. बर्मी कहती हैं, “इसका नाम बदलने से हम अपनी भविष्य की बहुत सारी उपलब्धियों के लिए खुद को प्रेरित कर सकते हैं। इससे हमारे प्राथमिकताएं तय होंगी और बेहतर तरीके से काम कर पाएंगे।”

कई बार ऐसा भी होता है कि आप सूची तो बनाती हैं, पर उसे फॉलो नहीं कर पाती। तो कोशिश करें कि हर बार उन कामों से शुरूआत करें, जिन्हें आप जल्दी से जल्दी पूरा करना चाहती हैं। यह आपको आलस्य से बचाए रखेगा।

तो इन खास टिप्स के साथ आप अपनी सुबह की शुरूआत और बेहतर कर सकती हैं। हैप्पी मॉर्निंग लेडीज!

  • 98
लेखक के बारे में

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख