ऐप में पढ़ें

एक एक्सपर्ट बता रहीं हैं वे 3 उपाय जो आपको असफलता से उबरने और फिर से तैयार होने में मदद करेंगे

Published on:27 September 2021, 21:45pm IST
असफलता या अस्वीकृति आपके मानसिक स्वास्थ्य पर भारी पड़ सकती है, लेकिन आपको इससे उबरने की कोशिश करनी चाहिए। एक मनोवैज्ञानिक आपको इसका रास्ता बता रहे हैं।
Apni vifaltao ko sakaratmak roop se sambhale
अपनी विफलताओं को सकारात्मक रूप से संभालें। चित्र: शटरस्टॉक

व्यक्तिगत या पेशेवर मोर्चे पर, ज्यादातर लोगों ने असफलता और अस्वीकृति का अनुभव किया है। बहुत बार आपके इसे महसूस किए बिना भी, यह आपके मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करना शुरू कर देता है। आप अंत में नकारात्मक परिणाम पर इतना ध्यान केंद्रित करते हैं कि इससे आपका आत्मविश्वास प्रभावित होता है। इससे आप में निराशा की भावना पैदा हो जाती है। कुछ लोग अपनी असफलता पर अपना पूरा जीवन ही निर्भर कर देते हैं। 

हमेशा से समाज आपके लक्ष्य को न प्राप्त करने पर उससे नकारात्मकता को जोड़ता है। यहां तक ​​​​कि एक भी स्थिति जो आपके पक्ष में काम नहीं करती है, वह आपके मानसिक स्वास्थ्य पर भारी पड़ सकती है और आपको नकारात्मक बना देती है। 

आपको असफलता से आगे बढ़ने के लिए सक्रिय प्रयास करना होगा। इसलिए, हेल्थशॉट्स ने फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट, गुरुग्राम में  मानसिक स्वास्थ्य और व्यवहार विज्ञान विभाग की अध्यक्ष कामना छिब्बर से बात की, ताकि यह समझा जा सके कि आपके मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल कैसे की जाए और विफलता से कैसे उबरा जाए।

Asafalta aapke maansik swasthya ko prabhavit kar sakta hai
असफलता आपके मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। चित्र: शटरस्टॉक

मुश्किल नहीं है असफलता पर काबू पाना

1. हर बात को सामान्य बनाना बंद करें 

जब आपको मन चाहा परिणाम नहीं मिलता हैं, तो चीजों को व्यक्तिगत रूप से लेना आसान होता है। कई लोग एक विशेष विफलता या अस्वीकृति को खुद से जोड़ लेते है। वे खुद में कमियां ढूंढने लगते हैं। 

छिब्बर ने कहा, “इसे एक ऐसी स्थिति के रूप में देखने के बजाय, लोग सोचते हैं कि ‘मैं हमेशा असफल रहा हूं’। यह उनके लिए एक जनरल अनुभव बन जाता है।” इस तरह की सोच नकारात्मक है। ऐसी भावनाओं को लगातार सोचने से गंभीर निराशा हो सकती है। इसलिए, एक विशेष स्थिति को सामान्य बनाने और जीवन के सभी पहलुओं पर समान भावनाओं को लागू करने से बचा जाना चाहिए।

2. परिस्थिति को एक ही प्रसंग तक सीमित रखें 

असफलताएं आपके मानसिक स्वास्थ्य पर भारी पड़ सकती हैं, लेकिन उस स्थिति को केवल वहीं तक सीमित रखने से मदद मिल सकती है। विश्लेषण करने से आप जिन नकारात्मक भावनाओं से गुजर रहे हैं, उनसे निपटना आसान हो जाता है। स्थिति को प्रासंगिक करने से आपको परेशानी का व्यापक हल मिल सकता है। 

asafalta hko sambhalna mushkil nahi hai
असफलता को संभालना मुश्किल नहीं है। चित्र: शटरस्‍टॉक

छिब्बर के अनुसार, “आपको यह पहचानना होगा कि कोई स्थिति काम क्यों नहीं कर रही। इस संदर्भ में अपनी भूमिका निर्धारित करने का प्रयास करें और यह सोचें कि सकारात्मक परिणाम के लिए आप चीजों को अलग तरीके से कैसे कर सकते थे। गलती की पहचान करके प्रारंभ करें और फिर उसके पीछे के कारण का पता लगाएं। एक नकारात्मक स्थान में जाने के बजाय एक समाधान के सोच को विकसित करने का प्रयास करें ।” 

3. भविष्य पर ध्यान दें

किसी चीज में असफल होना या अस्वीकृति का सामना करना अक्सर दुनिया के अंत जैसा महसूस हो सकता है। हालांकि, ठीक इसी समय आपको खुद को याद दिलाना चाहिए कि एक नकारात्मक उदाहरण आपको परिभाषित नहीं करता है। 

आपको वर्तमान नकारात्मक परिणामों पर ज्यादा समय तक ध्यान केंद्रित नहीं करना चाहिए। भविष्य के अन्य अवसरों के बारे में सोचें और अगली बाधा के लिए तैयार रहें। 

छिब्बर ने कहा, “आपको खुद पर भरोसा करना चाहिए और जीवन में आगे बढ़ना चाहिए। पहचानें कि हर किसी का अपना संघर्ष होता है और यह विशेष उदाहरण आपका संघर्ष है। आगे बढ़ते रहें और नए अवसरों की तलाश करें जो आपको जीवन में कुछ बड़ा हासिल करने में मदद कर सकता है।”  

यह भी पढ़ें: क्या मिठास का आपकी मेंटल हेल्थ पर कोई असर होता है? आइए पता करते हैं

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।