और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

क्या है इंपोस्टर सिंड्रोम? यहां जानिए इसके कारण और उबरने के उपाय 

Published on:5 March 2021, 20:30pm IST
अगर आपको लगता है कि आप औरों से कमतर है और आप में टेलेंट की कमी है, तो आप इंपोस्टर सिंड्रोम से पीड़ित हो सकते हैं। इस स्थिति के बारे में अधिक जानने के लिए आगे पढ़ते रहिए।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 81 Likes
यहां जानिए इंपोस्टर सिंड्रोम के बारे में सबकुछ। चित्र-शटरस्टॉक।

आपने कितनी बार महसूस किया है कि आप उतने सक्षम नहीं हैं, जितना कि दूसरे आपको मानते हैं? यदि आप इसे हर बार महसूस करते हैं, तो आप इंपोस्टर सिंड्रोम से पीड़ित हो सकते हैं। इसका आपकी बुद्धिमत्ता से कोई लेना-देना नहीं है, लेकिन पूर्णतावाद और सामाजिक संदर्भ के साथ इससे आपकी मानसिक स्थिति के बारे में पता चलता है। 

इंपोस्टर सिंड्रोम आपको लगातार दबाव में रख सकता है, क्योंकि हर बार जब आप किसी सामाजिक स्थिति में होते हैं, तो यह आपको महसूस कराता है कि आप वहां नहीं हैं। यह सिर्फ भाग्य है जो आपको वहां लाया है। याद रखें कि यह आपकी सामाजिक स्थिति, कामकाज, कौशल स्तर या अन्य समान कारकों के बावजूद आपको प्रभावित कर सकता है।

इम्पोस्टर सिंड्रोम शब्‍द का पहली बार 1970 के दशक में मनोवैज्ञानिक सुज़ाना इम्स और पॉलीन रोज़ क्लेंस द्वारा उपयोग किया गया था। इसे उच्च शिक्षा और पद प्राप्त करने वाली महिलाओं पर बात करने के बारे में सोचा गया था। पर असल बात सिर्फ वही नहीं थी। 

यहां कुछ सामान्य संकेत दिए गए हैं जो बताते हैं कि आप इंपोस्टर सिंड्रोम से पीड़ित हैं:

  • खुद पर संदेह
  • अपनी क्षमता का वास्तविक रूप से आकलन करने में असमर्थ होना 
  • अपनी सफलता को बाहरी कारकों में शामिल करना
  • यह डर होना कि आप उम्मीदों पर खरे नहीं उतर पाएंगे
  • ओवरअचीविंग
  • अवास्तविक लक्ष्यों को निर्धारित करना, और ऐसा होने पर निराश महसूस करना

इंपोस्टर सिंड्रोम कुछ लोगों को प्रेरित महसूस कर सकता है, लेकिन यह लगभग हमेशा उन्हें चिंतित महसूस कराता है। आप “ओवर-वर्किंग” को समाप्त कर सकते हैं, ताकि आप आश्वस्त रहें कि कोई भी यह पता नहीं लगाएगा कि आप धोखाधड़ी कर रहे हैं। आप मानते हैं कि आपने अच्छा किया क्योंकि आप पूरी रात रहे, या आपको किसी पार्टी में पसंद किया गया था, सिर्फ इसलिए आपको मेहमानों के बारे में सभी छोटी-छोटी बातें याद थीं।

दुर्भाग्य से, जब कोई इंपोस्टर सिंड्रोम से पीड़ित होता है, तो वे यह मानने से इनकार कर देते हैं कि यह उनकी योग्यता है जो उनके विकास के लिए जिम्मेदार है। आपकी मुख्य मान्यताएं इतनी मजबूत हैं कि भले ही इसे साबित करने के लिए सबूत क्यों न हो, फिर भी आप इसे नहीं मानते।

आखिरकार, यह चक्र आपको चिंतित महसूस कराता है और इससे अवसाद भी हो सकता है।

यदि आप आप महसूस करते हैं कि यह आपके साथ बार-बार हो रहा है, तो आपको समस्या से निपटने के लिए मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर के पास जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें: सोते समय आपके शरीर के साथ होती हैं ये 5 चीजें, जानिए इसके क्या हैं कारण

इसे आप कैसे लक्षित कर सकती हैं 

ऐसे कई कारक हैं जिनके कारण इंपोस्टर सिंड्रोम हो सकता है। उदाहरण के लिए, यदि आपको एक घर में लाया गया है, जहां आपके माता-पिता प्रशंसा और आलोचना के बीच आगे-पीछे भागते रहते हैं, तो यह संभावना है कि आप इस भावना के साथ बड़े होते हैं कि आप वास्तव में इसके लायक नहीं हैं।

यह तब भी हो सकता है जब आप जीवन में कुछ नया शुरू कर रहे हों, एक नए कॉलेज में जा रहे हों या एक नया काम शुरू कर रहे हों, और आप सिर्फ वहां से संबंधित न हों!

इंपोस्टर सिंड्रोम के चलते आपको डिप्रेशन और तनाव का सामना भी कर सकती हैं।

एक और बात जिसे ध्यान में रखना है वह यह कि इंपोस्टर सिंड्रोम और सोशल एंग्‍जायटी ओवरलैप हो सकती है। यहां, लोगों को लगता है कि वे सामाजिक परिस्थितियों में नहीं हैं। किसी पार्टी या सामाजिक सभा में किसी के साथ बातचीत करते समय, आप महसूस कर सकती हैं कि आप बहुत अच्छी नहीं हैं, और ऐसा केवल कुछ क्षणों के लिए ही होता है, कि दूसरा व्यक्ति आपकी सामाजिक अक्षमता के बारे में पता लगाने वाला है।

आप इस स्थिति का सामना कैसे कर सकते हैं?

सबसे पहले, यह समझना महत्वपूर्ण है कि आप हमेशा परफेक्‍शनिस्‍ट नहीं हो सकती। गलत बातें कहने से बचने के लिए इक्की-दुक्की बातचीत की कोई सही स्क्रिप्ट नहीं है। काम पर रहते हुए, आपका मदद मांगना मुश्किल हो सकता है, और आपकी टेबल पर इतना कुछ होने से, आप अपने खुद के उच्च मानकों के कारण, अंत तक परेशान हो सकती हैं। 

इससे उबरने के लिए आप इन तकनीकों का पालन कर सकती हैं 

अपनी भावनाओं को साझा करें:

लोगों को यह बताने में संकोच न करें कि आप कैसा महसूस कर रहे हैं। जब आप ऐसा करते हैं, तो आप समस्या का समाधान करने की कोशिश करते हैं, और यह पहला कदम है।

दूसरों की मदद करने की कोशिश करें जो ऐसी ही स्थिति से गुजर रहे हैं:

जब आप एक सामाजिक सभा में होते हैं, तो आप किसी ऐसे व्यक्ति को देख सकते हैं जो अजीब या अकेला लगता है। जब आप इसका अभ्यास करेंगे, तो आप अधिक आत्मविश्वास महसूस करेंगे।

अपनी योग्यता को लेकर यथार्थवादी बनें:

हम सभी के पास हमारी ताकत और कमजोरियां हैं, इसलिए उन्हें कागज के एक टुकड़े पर लिखने की कोशिश करें, और फिर अपनी क्षमताओं का यथार्थवादी आकलन करें।

छोटे कदम उठाएं:

परफेक्‍शन की कोशिश न करें। इसके बजाय छोटे कदम उठाने और कार्यों को ठीक से पूरा करने में विश्वास करें।

तुलना करना बंद करें:

जब आप सामाजिक स्थिति में या दूसरों से अपनी तुलना करते हैं, तो आप हमेशा इस बात पर विश्वास करेंगे कि आप बहुत अच्छे नहीं हैं। इसके बजाय, सीखने और समझने पर ध्यान केंद्रित करें कि दूसरा व्यक्ति क्या कह रहा है।

इसलिए लेडीज, अपने लक्ष्य का पीछा करने से खुद को रोकें नहीं। किसी भी तरह से अपने आप को वापस होल्ड न करें!

यह भी पढ़ें: अपने रिश्‍ते में इन 5 चीजों को कभी न करें नजरंदाज, विशेषज्ञ बता रहे हैं कितना लंबा चलेगा आपका रिश्‍ता 

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।