और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

कोविड -19 के कारण गंध और स्वाद की कमी मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकती है, जानिए क्यों

Published on:27 October 2021, 16:12pm IST
यदि आप या आपके किसी परिचित ने कोविड-19 के कारण गंध और स्वाद की अपनी समझ खो दी है। तो लगातार बेचैनी जीवन की गुणवत्ता को कम कर सकती है और मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकती है। यहां वह सब है जिसके बारे में आपको जानना चाहिए!
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 123 Likes
कोविड -19 के कारण गंध और स्वाद की कमी मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकती है। चित्र : शटरस्टॉक

हमें स्कूल में सिखाया गया था अपनी पांच इंद्रियों के बारे में। तब से, हम जो कुछ भी देख सकते हैं, महसूस करते हैं, सूंघ सकते हैं, स्पर्श कर सकते हैं या सुन सकते हैं, उसका एक विशेष अर्थ है। यह मनुष्यों का दुनिया से जुड़ने का तरीका है।

अपनी इन पांच इंद्रियों का सबसे अच्छा अनुभव हमें तब होता है, जब हम भोजन करते हैं। खासकर जब आप इसे सूंघ सकते हैं और इसका स्वाद ले सकते हैं! खाद्य पदार्थों के कई स्वाद और बनावट हैं, जो उन्हें इतना संतोषजनक बनाते हैं। लेकिन क्या होगा अगर आपकी वह इंद्रियां कहीं खो जाएं? दुर्भाग्य से, यह कोविड-19 के सबसे आम लक्षणों में से एक है।

क्या होता है गंध और स्वाद खोने का असर

अमेरिकन फैमिली फिजिशियन में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, गंध और स्वाद की हमारी इंद्रियां निकटता से जुड़ी हुई हैं। इसका मतलब यह है कि जब किसी व्यक्ति को स्वाद की हानि का अनुभव होता है, तो 95% यह गंध की कमी के कारण होता है। दुर्भाग्य से, यह कई मानसिक स्वास्थ्य चुनौतियों को बुलावा देता है।

covid - 19
कोविद -19 के कारण स्वाद और गंध की हानि मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती है। चित्र : शटरस्टॉक

गंध और स्वाद की हानि आपके मानसिक स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित कर सकती है?

एक ट्रॉमा-सूचित चिकित्सक और मानसिक कल्याण सलाहकार प्रीता गांगुली के अनुसार, गंध और स्वाद का नुकसान वास्तव में हमारे जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकता है।

“आपके आस-पास कोई और यह पता नहीं लगा सकता कि क्या आपने स्वाद या गंध की अपनी समझ खो दी है। यह आपके लिए असुविधाजनक हो सकता है। इससे लोगों से अलगाव हो सकता है, क्योंकि आपको लग सकता है कि दूसरे आपके अनुभव को नहीं समझते हैं।”

सामान्य रूप से सूंघने या स्वाद लेने में सक्षम न होना भी किसी व्यक्ति के मूड को प्रभावित कर सकता है। अंततः चिंता और अवसाद जैसे विभिन्न मानसिक स्वास्थ्य मुद्दों को जन्म दे सकता है।

यह एंग्जायटी भी बढ़ा सकता है

वे कहते हैं, “कुछ लोगों में, यह फूड डिसऑर्डर के रूप में भी दिखाई दे सकता है, क्योंकि वे अब अपने भोजन का आनंद नहीं ले पाते। उनमें से कुछ लगातार बेचैनी के कारण कम खाने लगते हैं। जिससे अप्रत्याशित रूप से वजन कम हो सकता है।”

यह हानिरहित लग सकता है, लेकिन सूंघने में सक्षम न होने से भी चिंता की भावना पैदा होती है। ऐसे में खराब खाद्य पदार्थों की पहचान करने जैसी दैनिक स्थितियों को संभालने में असमर्थ होने का डर भी पैदा होता है। यह बहुत परेशान करने वाला हो सकता है, क्योंकि वे पहले की तरह सूंघने और स्वाद लेने में असमर्थ हैं!

यह आपके मूड को प्रभावित कर सकता है। चित्र : शटरस्टॉक

क्या कोई समाधान है?

सिनसिनाटी विश्वविद्यालय के कुछ नए शोध में कुछ तंत्र पाए गए हैं, जिन्होंने कोविड -19 रोगियों को गंध की कमी के साथ मदद की है, जो बदले में स्वाद को प्रभावित करता है। आम विषयों में से एक यह था कि जो लोग इन चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। वे फलों की बनावट को समझने की उनकी क्षमता के कारण अलग-अलग बनावट वाले खाद्य पदार्थ खा रहे हैं, जैसे स्ट्रॉबेरी।

गांगुली निष्कर्ष निकलते हैं कि ” कुछ घंटों में विभिन्न प्रकार के एसेंशियल ऑयल्स को सूंघना भी इस स्थिति में मददगार साबित हो सकता है।”

यह भी पढ़ें : इन संकेतों को पहचान कर समय रहते बचा सकती हैं ब्रेन स्ट्रोक के मरीज की जान

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।