और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

अध्ययन से पता चलता है कि ‘सेकंड-हैंड’ साइकोलॉजिकल स्ट्रेस बन सकता है डिप्रेशन का कारण

Published on:24 September 2021, 20:00pm IST
वैज्ञानिकों ने एक सोशल डिफीट स्ट्रेस माऊस मॉडल की मदद से साइकोलॉजिकल स्ट्रेस और डिप्रेशन के बीच के संबंध का पता लगाया है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 101 Likes
second-hand psychological stress
'सेकंड-हैंड' साइकोलॉजिकल स्ट्रेस से डिप्रेशन हो सकता है। चित्र : शटरस्टॉक

वैज्ञानिक, सोशल डिफीट स्ट्रेस माऊस मॉडेल की मदद से यह जानने में सफल रहे हैं कि साइकोलॉजिकल स्ट्रेस और डिप्रेशन एक दूसरे से जुड़े हुये हैं। इस अध्ययन के निष्कर्ष ‘बिहेवियरल ब्रेन रिसर्च’ (Behavioural Brain Research) जर्नल में प्रकाशित हुए थे।

अवसाद एक गंभीर चिकित्सा स्थिति है जो आधुनिक समाज को प्रभावित करती है।

अवसाद के शारीरिक आधार की व्याख्या करने के लिए कई सिद्धांत प्रस्तावित किए गए हैं, जिनमें से “Neurogenic Hypothesis of Depression” ने बहुत ध्यान आकर्षित किया है।

यह सिद्धांत इस प्रकार है कि हिप्पोकैम्पस जैसे मस्तिष्क क्षेत्रों में गिरावट के परिणामस्वरूप अवसाद हो सकता है। यह गिरावट शारीरिक और मानसिक तनाव के कारण हो सकती है। जबकि शारीरिक तनाव के अवसादग्रस्त प्रभावों का अच्छी तरह से अध्ययन किया गया है, इस संबंध में साइकोलॉजिकल स्ट्रेस के बारे में बहुत कम जानकारी है।

हाल के शोध ने समझाया है कि कैसे सोशल डिफीट स्ट्रेस माऊस मॉडल साइकोलॉजिकल स्ट्रेस का कारण बन सकती है। इस अध्ययन में एक चूहे को दूसरे चूहे की हार का सामना करना पड़ा।

इस मॉडल का उपयोग करते हुए, जापान के वैज्ञानिकों के एक समूह ने अवसाद के लक्षणों और हिप्पोकैम्पस न्यूरोजेनेसिस के बीच एक कड़ी स्थापित करने का प्रयास किया।

second-hand psychological stress
अवसाद एक गंभीर चिकित्सा स्थिति है जो आधुनिक समाज को प्रभावित करती है। चित्र : शटरस्टॉक

अध्ययन के प्रमुख लेखकों में से एक, टोक्यो यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस के प्रोफेसर अकीयोशी सैतोह ने इस शोध के पीछे की प्रेरणा को बताया, “दुनिया भर में अवसाद से पीड़ित व्यक्तियों की संख्या बढ़ रही है। हालाँकि, अवसाद के विस्तृत पैथोफिज़ियोलॉजी को अभी भी स्पष्ट किया जाना बाकी है। इसलिए, हमने वयस्क हिप्पोकैम्पस न्यूरोजेनेसिस में मनोवैज्ञानिक तनाव के संभावित तंत्र पर ध्यान केंद्रित करने का फैसला किया, ताकि अवसाद के विकारों में इसकी भूमिका को समझा जा सके।”

डिप्रेशन से बचने के उपाय करें

चूहों को पुरानी विचित्र सामाजिक हार के तनाव से अवगत कराने के बाद, उनके व्यवहार और दिमाग का बारीकी से विश्लेषण किया। इसमें प्रोफेसर सैतोह और उनकी टीम, जिसमें टोक्यो यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस के मिस्टर तोशिनोरी योशियोका और डॉ डाइसुके यामादा शामिल थे।

चूहों पर तनाव की स्थिति चार सप्ताह तक बनी रही। विशेष रूप से, फ्लुओक्सेटीन नामक एक पुरानी एंटीडिप्रेसेंट के साथ उपचार के बाद तनावग्रस्त चूहों में कोशिका के जीवित रहने का दर बढ़ता हुआ दिखाई दिया।

 

परिणामों के बारे में, श्री तोशिनोरी योशियोका ने कहा, “हमने पाया है कि मानसिक तनाव हिप्पोकैम्पस डेंटेट गाइरस के न्यूरोजेनेसिस को प्रभावित करता है। साथ ही, हम मानते हैं कि यह पशु मॉडल अवसाद के पैथोफिज़ियोलॉजी को स्पष्ट करने और संबंधित दवा के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

कुल मिलाकर, इस अध्ययन ने अवसाद के पैथोफिज़ियोलॉजी में महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि प्रदान की है। साथ ही, यह अध्ययन भविष्य के शोध के लिए अवसाद में साइकोलॉजिकल स्ट्रेस की भूमिका का मार्ग प्रशस्त करता है।

यह भी पढ़ें : याद्दाश्त बढ़ाने के लिए मेरी मम्मी करती हैं इन 4 सुपरफूड्स पर भरोसा

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।