अपने गुस्से और शारीरिक थकान पर ध्यान दें! यह स्ट्रोक का कारण बन सकता है

एक वैश्विक अध्ययन जो स्ट्रोक के कारणों को बताता है, यह कह रहा है कि क्रोधित होना या भावनात्मक रूप से परेशान होना भी मानसिक स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां खड़ी कर सकता है।

Garam taseer ke foods se badhta hai gussa
गर्म तासीर के भोजन करने से बढ़ता है गुस्सा। चित्र : शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Updated on: 7 December 2021, 20:25 pm IST
  • 100

आपकी भावनाएं आपके समग्र कल्याण का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि कुछ भावनाएं स्ट्रोक का कारण भी बन सकती हैं? ऐसा हम नहीं कह रहे, बल्कि एक वैश्विक अध्ययन इस बात की पुष्टि कर रहा है।  

संदिग्ध ट्रिगर्स की पहचान वैश्विक इंटरस्ट्रोक अध्ययन के हिस्से के रूप में की गई है, जो अपनी तरह की सबसे बड़ी शोध परियोजना है। इसने तीव्र स्ट्रोक के 13,462 मामलों का विश्लेषण किया, जिसमें 32 देशों में जातीय पृष्ठभूमि वाले रोगियों को शामिल किया गया था।

स्ट्रोक मौत या विकलांगता का एक प्रमुख वैश्विक कारण है

एनयूआई गॉलवे में क्लिनिकल महामारी विज्ञान के प्रोफेसर एंड्रयू स्मिथ ने कहा, “स्ट्रोक की रोकथाम चिकित्सकों के लिए प्राथमिकता है। इसके बावजूद यह अनुमान लगाना मुश्किल है कि स्ट्रोक कब होगा। कई अध्ययनों ने मध्यम से लंबी अवधि के जोखिम पर ध्यान केंद्रित किया है। इनमें उच्च रक्तचाप, मोटापा या धूम्रपान शामिल है। हमारे अध्ययन का उद्देश्य तीव्र जोखिमों को देखना है जो ट्रिगर के रूप में कार्य कर सकते हैं।”

Anger stroke ka kaaran ban sakta hai
गुस्सा स्ट्रोक का कारण बन सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

शोध ने उन रोगियों में पैटर्न का विश्लेषण किया, जिन्हें इस्केमिक स्ट्रोक का सामना करना पड़ा। यह सबसे आम प्रकार का स्ट्रोक है, जो तब होता है जब रक्त का थक्का मस्तिष्क की ओर जाने वाली धमनी को अवरुद्ध या संकुचित करता है। इसमें इंट्रासेरेब्रल रक्तस्राव भी होता है। इसमें मस्तिष्क के भीतर रक्तस्राव शामिल है।

स्माइथ के अनुसार, एक घंटे के दौरान क्रोध या भावनात्मक परेशानी स्ट्रोक के जोखिम में लगभग 30 प्रतिशत की वृद्धि से जुड़ी थी। उन्होंने कहा, “यदि रोगी का अवसाद का इतिहास नहीं है, तो यह अधिक वृद्धि के साथ आ सकता है। खासतौर से उन लोगों के लिए भी जिनका शैक्षिक स्तर कम है।”

शारीरिक थकावट

इसके अलावा, उन्होंने यह भी पाया कि भारी शारीरिक परिश्रम के बाद एक घंटे के दौरान इंट्रासेरेब्रल रक्तस्राव के जोखिम में लगभग 60 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। स्मिथ ने समझाया, “महिलाओं के लिए अधिक वृद्धि हुई थी और सामान्य बीएमआई वाले लोगों के लिए कम जोखिम था।”

शोध पर काम करने वाले विशेषज्ञों ने लोगों से हर उम्र में मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य का अभ्यास करने का आग्रह किया है। साथ ही, जो लोग विशेष रूप से हृदय संबंधी समस्याओं के उच्च जोखिम में हैं, उन्हें नियमित व्यायाम की स्वस्थ जीवन शैली अपनाने के अलावा भारी शारीरिक परिश्रम से बचना चाहिए।

स्ट्रोक क्या होता है?

कामिनेनी हेल्थकेयर प्राइवेट लिमिटेड, विजयवाड़ा के कंसल्टेंट न्यूरो फिजिशियन, सुधीर पुट्टीबॉयना स्ट्रोक को परिभाषित कर रहें हैं। यह नर्वस सिस्टम  की तीव्र फोकल चोट के लिए जिम्मेदार न्यूरोलॉजिकल हानि के रूप में जाना जाता है। 

क्या होता है स्ट्रोक का कारण? 

  • सेरेब्रल इंफार्क्शन
  • इंट्रा-सेरेब्रल हेमरेज
  • सबराचनोइड हेमोरेज
Zyaada gussa aane se swasthya ko nuksaan ho sakta hai
बात-बात पर गुस्सा आने से स्वास्थ्य को नुकसान हो सकता है। चित्र-शटरस्टॉक।

जानिए सामान्य स्ट्रोक के लक्षण 

  • एक तरफा शरीर की कमजोरी
  • संवाद में हानि 
  • बोली बंद होना 
  • दृष्टि परिवर्तन 
  • वर्टिगो
  • एटैक्सिया
  • चक्कर आना
  • अचानक गिरना

स्ट्रोक के लिए सामान्य जोखिम 

  • रक्तचाप 
  • मधुमेह 
  • धूम्रपान 
  • शराब का सेवन 
  • कोरोनरी आर्टेरी की बीमारी 
  • शारीरिक गतिविधि में कमी 
  • अनियमित दिल की धड़कन 
  • कमर से कूल्हे में दर्द 

यह भी पढ़ें:बेहतर फोकस और मानसिक स्वास्थ्य के लिए इन 5 बीजों को करें अपने आहार में शामिल

  • 100
लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory