क्या आप अभी भी वर्क फ्रॉम हो कर रहीं है? तो यहां हैं ज़ूम थकान से निपटने का तरीका

हम में से बहुत सारे लोग कोविड-19 के कारण घर से काम कर रहे हैं। यानी हमें ज़ूम कॉल से जूझना पड़ता है। ये आपको मानसिक थकान देने लगी है तो इससे निपटने के तरीके जानिए।
जानिए क्या है ज़ूम फटीग। चित्र : शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published on: 5 September 2021, 12:00 pm IST
ऐप खोलें

स्वास्थ्य और आर्थिक रूप के अलावा, कोविड-19 ने प्रोफेशनल वर्क स्पेस को भी काफी नुकसान पहुंचाया है। लाखों लोगों को अपने घरों से काम करना पड़ता है, क्योंकि सामाजिक दूरी के मानदंडों ने पेशेवर स्थानों पर कब्जा कर लिया है।

बार-बार होने वाली जूम मीटिंग, और काम- संबंधी दायित्वों को पूरा करने के लिए ऑनलाइन रहने की बाध्यता, मानसिक स्वास्थ्य पर भारी पड़ सकती है, जिससे थकान होता है। इसलिए, यदि आप अभी भी घर से काम कर रहे हैं, और ‘ज़ूम थकान’ के कारण अपने आप को सुस्त पा रहे हैं, तो नियमित रूप से ब्रेक लेने और वाइन्ड-अप रूटीन विकसित करने से आप को डिस्ट्रेस होने का मौका मिलेगा।

यहां है ‘ज़ूम थकान’ से निपटने के तरीके

जर्नल ऑफ एप्लाइड साइकोलॉजी में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, कोरोना वायरस महामारी के दौरान रीमोट वर्क और वीडियो कॉन्फ्रेंस के उपयोग में वृद्धि हुई है। बहुत लोग व्यक्तिगत रूप से न मिलकर कंप्युटर स्क्रीन के माध्यम से जुड़ने के कारण थक गए हैं।

इसलिए, ज़ूम मीटिंग के बुनियादी नियम तय करना, आराम और ब्रेक के अनुसार दिनचर्या बनाना थकान को रोकने में कारगर साबित हो सकता है:

नियम का पालन करना

कुछ बुनियादी नियम होने से सीमाओं को सिद्ध करने और साथियों के बीच अपेक्षा स्थापित करने में मदद मिलेगी। इन नियमों में शामिल हो सकता है वेबकैम को स्विच ऑन रखना और उन बैठकों के लिए ‘नहीं’ कहना जिनमें आपकी उपस्थिति अनिवार्य रूप से आवश्यक नहीं है।

अन्य महत्वपूर्ण नियम यह हो सकते है कि बैठकों के लिए एक निर्धारित एजेंडा हो, दोपहर के भोजन के दौरान और काम के बाद के घंटों में कोई डिस्टर्बेन्स न हो और कम महत्वपूर्ण विषयों के लिए पंद्रह मिनट की छोटी कॉल का समय निर्धारण हो।

आपके मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है ज़ूम फटीग। चित्र : शटरस्टॉक

ब्रेक लेना

लगातार स्क्रीन देखना आपकी आंखों के लिए हानिकारक हो सकता है और तनाव पैदा कर सकता है। इसलिए, ब्रेक लेना सुनिश्चित करें, जिसमें आप स्क्रीन से दूर देखें, पानी का सेवन नियमित रखें, स्ट्रेच करने के लिए खड़े हों, और घूमने की भी कोशिश करें। यह आपके ब्लड सर्कुलेशन और फेफड़ों में ऑक्सीजन पहुंचाने, तनाव के स्तर को कम करने और थकान से लड़ने में मदद करेगा।

वाइन्ड अप रूटीन बनाएं

नॉर्थवेस्टर्न मेडिसिन के शोध के अनुसार रूटीन आपके तनाव, नींद और भोजन के समय को प्रबंधित करने में मदद करता है, जिससे बेहतर स्वास्थ्य प्राप्त होता है। रिमोट वर्किंग से लोगों के व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन में फ़र्क नहीं रहा। इसलिए संगीत सुनने, ध्यान लगाने, व्यायाम करने या अपनी पसंदीदा किताब पढ़ने से तनाव का स्तर कम करने और थकान से बचने में मदद मिलेगी।

ज़ूम कॉल ट्रेंड से पहले, हमें आम तौर पर सहकर्मियों के साथ कॉफी ब्रेक लेने या काम के बाद मनोरंजन के लिए समय निकालते थे। हालांकि, आप में से जो अभी भी घर से काम कर रहे हैं, उनके लिय यह विकल्प संभव नहीं है। वायरस के फैलने और लॉकडाउन के जोखिम के कारण आप इसे अनुभव नहीं कर पाते है। इसलिए इन उपायों को अपनाने से थकान को मैनेज करने में मदद मिलेगी!

यह भी पढ़ें : Teachers day 2021 : स्वामी विवेकानंद के ये 5 विचार आपको खुद का गुरु बनने में मदद कर सकते हैं

लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
Next Story