सुबह-सुबह प्रकृति की आवाज़ें सुनना हो सकता है आपकी मेंटल हेल्थ के लिए फायदेमंद

Published on: 30 March 2022, 08:00 am IST

जब आप प्रकृति के करीब होती हैं, तो यकीनन आपने ज्यादा मानसिक शांति का अनुभव किया होगा। इस अध्ययन के अनुसार, प्रकृति की ध्वनियां किसी के मानसिक स्वास्थ्य और सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होती हैं।

Nature ki awaz ke fayada
प्रकृति की आवाजें आपको हमेशा हंसाती रहेंगी। चित्र:शटरस्टॉक

कोविड-19 महामारी का लोगों के जीवन पर विनाशकारी प्रभाव पड़ा है। लगभग दो साल पहले हमारे जीवन में प्रवेश करने के बाद, हम सभी अभी भी शारीरिक, भावनात्मक और मानसिक चुनौतियों से जूझ रहे हैं। हालांकि, 2020 में जब सरकार ने कोविड -19 के बाद पहले लॉकडाउन की घोषणा की थी, तब आपको याद होगा कि हम सभी प्रकृति को और करीब से देख और सुन पाए थे। साफ-प्रदूषण रहित आसमान, जानवरों की आवाज़ें, बहता पानी, पत्तों की सरसराहट और पक्षियों का चहकना? भले ही लोगों में कोविड -19 के लिए चिंता और तनाव की भावना थी, लेकिन इन प्राकृतिक ध्वनियों के कारण लोग शांति का भी अनुभव कर रहे थे। अब एक नए शोध ने प्रकृति की ध्वनियों और बेहतर मानसिक स्वास्थ्य के बीच संबंध को उजागर किया है। 

जानिए क्या है स्टडी ? 

बीबीसी नेचुरल हिस्ट्री यूनिट, बीबीसी रेडियो 4, एक्सेटर यूनिवर्सिटी, ब्रिस्टल यूनिवर्सिटी और ओपन यूनिवर्सिटी के सहयोग से प्रकाशित शोध के अनुसार, “प्राकृतिक ध्वनियां मानसिक स्वास्थ्य को लाभ पहुंचाती हैं।”

nature sound ke fayade
प्रकृति में रहने से तनाव दूर होता है। चित्र : शटरस्टॉक

यूनिवर्सिटी ऑफ एक्सेटर के प्रमुख शोधकर्ता एलेक्स स्माली कहते हैं, “लॉकडाउन ने लोगों को अपने आसपास की प्राकृतिक ध्वनियों को फिर से खोजने में मदद की है। हमारे निष्कर्ष बताते हैं कि इन अनुभवों को महसूस करना मानसिक स्वास्थ्य और संरक्षण व्यवहार दोनों के लिए फायदेमंद हो सकता है। लेकिन वे एक सख्त चेतावनी भी देते हैं कि जब प्रकृति की बात आती है, तो यादें मायने रखती हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “लहरों या बारिश जैसी परिदृश्य ध्वनियों को सुनने से चिकित्सीय प्रभावों की सूचना मिली थी।”

ध्वनियों के बारे में क्या है मनोवैज्ञानिकों की राय?

कामना छिब्बर, हेड ऑफ डिपार्टमेंट, मेंटल हेल्थ और बिहेवियर साइंस, फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट, गुरुग्राम, ने हेल्थशॉट्स से बात की, कि प्रकृति की आवाज़ किसी के मानसिक स्वास्थ्य को कैसे लाभ पहुंचा सकती है।

कामना छिब्बर के अनुसार, प्रकृति का व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य और कल्याण पर एक मजबूत सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। यह केवल प्रकृति की निकटता के बारे में नहीं है, यह प्राकृतिक पर्यावरण की गुणवत्ता के बारे में भी है और किसी भी व्यक्ति के लिए जब वे प्रकृति के बीच समय बिताते हैं, प्रकृति की आवाज़ें सुनते हैं, चाहे वह पेड़ के पत्तों की सरसराहट, पक्षियों का चहकना या जानवरों की आवाज़ हो, यह हमारे मानसिक स्वास्थ्य एवं कल्याण में मददगार होती हैं। यह ज्ञात है कि जब आप प्रकृति के बीच में होते हैं, तो यह खुशी और आनंद की भावनाओं की ओर ले जाता है, खासकर उन लोगों के लिए जो बाहर रहना पसंद करते हैं ।

वे आगे कहती हैं, “एक चीज जो अंत में होती है, वह यह है कि जब आप प्रकृति से जुड़ते हुए देखते हैं, तो यह आपको अपने दिन-प्रतिदिन के जीवन से अपने आस-पास होने वाली हर चीज से अलग होने में खुद को सक्षम बनाता है।”

हम में से अधिकांश लोग अपने काम और अपने निजी जीवन में बहुत अधिक शामिल होते हैं। इसलिए जरूरी नहीं कि हमें भूमिकाओं और जिम्मेदारियों से अलग होने में सक्षम होने के लिए उस तरह का मानसिक विराम मिले।

nature ke fayade
प्रकृति परम उपचारक है। चित्र : शटरस्टॉक

इसलिए जब आप बाहर हों, जब आप प्रकृति की आवाज़ें सुन रहे हों, जब आप अपने फोन या अपने गैजेट्स पर न हों, जब आप लगातार ऐसे लोगों से घिरे न हों जो आपसे पूछ रहे हों या जिनकी आपको देखभाल करने की आवश्यकता हो, प्रकृति की ध्वनियां आपको अपने आप को अलग करने, डिस्कनेक्ट करने, पूरी तरह से फिर से जीवंत करने और अपनी स्वयं की देखभाल करने और अपनी ऊर्जा के स्तर को बहाल करने में आपकी मदद करेंगी।

यह कुछ ऐसा है जो आपके मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति और आपकी भलाई की स्थिति पर बहुत शक्तिशाली और प्रभावशाली होता है। 

यह भी पढ़े : मुश्किल नहीं है मूव ऑन करना, प्यार की नई शुरुआत के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना है जरूरी

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें