और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

कोविड -19, सोशल मीडिया और मेंटल हेल्थ : जानिए इस समय क्‍या अच्छा है और क्या बुरा

Published on:30 April 2021, 16:23pm IST
एक तरफ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स हेल्पलाइन्स और रिसोर्सेज में बदल गये हैं। वहीँ दूसरी ओर वे मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं को भी बढ़ा रहे हैं।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 77 Likes
Anindita Bose on mental health
सोशल मीडिया को खुद पर हावी न होने दें। चित्र: शटरस्‍टॉक

‘प्लीज़ मेरे पिता जी को आईसीयू बेड दिलाने में मदद करें’, ‘मेरी मां को बचाओ’ या ‘मुझे एक प्लाज्मा डोनर की सख्त ज़रुरत है’। ये कुछ ऐसे संदेश हैं जो वर्तमान में सोशल मीडिया पर देखने को मिल रहे हैं। इंस्टाग्राम और ट्विटर जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर उपयोगकर्ता कोरोना वायरस की दूसरी लहर के खिलाफ लड़ाई में एकजुट हैं।

यहां तक ​​कि देश की स्वास्थ्य सेवा संरचना पूरी तरह से ध्वस्त हो गई है। अस्पतालों में ऑक्सीजन नहीं है, आईसीयू बेड कम पड़ रहे हैं और देश भर में वेंटिलेटर की कमी है। ये मुंबई और दिल्ली के महानगरीय शहरों में अधिक है।

इस देश के नागरिक निराश, भयभीत और असहाय हैं। नेतृत्व निराशाजनक रहा है और व्यक्तिगत जवाबदेही किसी की नहीं रही है। हर कोई अव्यवस्थित है, जो चल रहा है उसे समझने की कोशिश कर रहा है। भले ही किसी का परिवार वायरस से अछूता हो (जो दुर्लभ है), लगभग हर दूसरे व्यक्ति के रिश्तेदार और करीबी दोस्त हैं जो जीवित रहने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

एक अलग तरह का माहौल है 

यह ऐसी चीज है जिसके बारें में हमने कभी कल्पना भी नहीं कि थी। नहीं, हम इस सब को किसी भी तरह से महिमामंडित नहीं कर रहें हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि आम आदमी के पास इस विपत्ति का कोई इलाज नहीं है। हालांकि इस बात को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता कि सोशल मीडिया की ताकत ने मानवता में विश्वास पैदा किया है।

हम सभी के इनबॉक्‍स अनुरोधों से भर गए हैं। चित्र : शटरस्टॉक
हम सभी के इनबॉक्‍स अनुरोधों से भर गए हैं। चित्र : शटरस्टॉक

अजनबी अब एक-दूसरे की मदद के लिए आगे आ रहे हैं, फि‍र भले ही वे किसी की जान न बचा पाएं। सोशल मीडिया पर विभिन्न आवश्यकताओं के लिए अनुरोध करना किसी का जीवन बचा सकता है। यह उस छोटी सी उम्मीद को बचाए रखता है जो संकट के समय में बहुत आवश्यक है।

मगर यहां एक महत्वपूर्ण प्रश्न खड़ा होता है – क्या सोशल मीडिया आज केवल ‘अच्छे’ चीजें ही आगे बढ़ा रहा है? इसका उत्तर ‘न’ है। हर चीज के अपनी अच्छाई और बुराइयां दोनों होती हैं, और यहां बात मेंटल हेल्थ की आती है।

दूसरी लहर के दौरान मानसिक स्वास्थ्य और सोशल मीडिया

आज अधिकांश लोगों की तरह, मैं भी, अनुरोधों को जितना हो सके उतना आगे बढ़ाने की कोशिश कर रही हूं। यह सोच कर कि मेरा एक प्रयास किसी की जान बचा सकता है। मगर – हम एक महामारी के बीच में हैं और हम में से अधिकांश चिंताग्रस्त हैं। इतना ज्यादा कि इसने हमारे दैनिक जीवन को प्रभावित करना शुरू कर दिया है। अधिकांश लोग रात में भी सोने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

इस परिदृश्य में, हम क्या करें?

क्या हमें खुद की देखभाल से समझौता करना चाहिए या खुद पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए? क्या यह स्वार्थ है? हम में से अधिकांश एक तरह के अपराध बोध का सामना कर रहे हैं। जहां हमें लगता है कि इस स्थिति‍ में लोगों के लिए न होना असंवेदनशीलता का प्रतीक होगा।

इसने हमारे मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को प्रभावित किया है। चित्र: शटरस्‍टॉक
इसने हमारे मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को प्रभावित किया है। चित्र: शटरस्‍टॉक

वास्तव में ऐसा नहीं है। यदि आप अपनी आवश्यकताओं पर ध्यान नहीं दे सकते हैं, तो आप किसी भी तरह से दूसरों की मदद नहीं कर सकते। अतीत में हुए कई अध्ययनों में भारी सोशल मीडिया के उपयोग और अवसाद, चिंता, अकेलेपन, खुद को नुकसान पहुंचाने वाले और यहां तक ​​कि आत्मघाती विचारों के बीच एक मजबूत संबंध पाया गया है।

हम वास्तव में विश्वास करते हैं कि हम प्रिवलेज्ड लोगों को जितना हो सके उतनी सहायता करनी चाहिए। मगर, यदि आपका मानसिक स्वास्थ्य प्रभावित होता है, तो सपोर्ट सोशल मीडिया के माध्यम से हो यह आवश्यक नहीं है। आप गैर-सरकारी संगठनों को दान करने का विकल्प चुन सकती हैं।

अपने दोस्तों और परिवार के साथ सहयोग कर सकते हैं या कोरोनावायरस रोगियों को मुफ्त भोजन प्रदान कर सकते हैं। यदि आप अभी भी सोशल मीडिया का उपयोग लोगों की मदद करने के लिए एक उपकरण के रूप में करना चाहते हैं, तो आगे बढ़ें लेकिन ब्रेक लें। अपनी ज़रूरतों को हर तरह से प्राथमिकता दें, क्योंकि आप भी संघर्ष कर रहे हैं इस बात को न भूलें!

संवेदनशील होना बेहद ज़रूरी है

यह कहते हुए कि, यह जरूरी है कि सोशल मीडिया पर लोग सहानुभूति और करुणा का प्रयोग करें जो वे कर सकते हैं। आज हर एक व्यक्ति एक आम लड़ाई लड़ रहा है – और फिर भी सबकी चुनौतियां अलग हैं।

संवेदनशील होना और दूसरों की मदद करना जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक
संवेदनशील होना और दूसरों की मदद करना जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

कृपया मूकदर्शक न बनें – जब आपके पीछे आने वाले लोग अस्पताल में बिस्तर पाने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हों तब, गोवा या मालदीव के चित्रों के साथ अपनी टाइमलाइन को न सजाएं। आप सोच सकते हैं कि अपने माता-पिता के टीकाकरण की सेल्फी पोस्ट करना हानिरहित है। लेकिन यह किसी ऐसे व्यक्ति को चोट पहुंचा सकता है, जिसने अपने माता-पिता को खोया है।

आपके द्वारा प्रोजेक्ट की गई छवियां और भावनाएं दूसरों को परेशान कर सकती हैं। जो किसी प्रियजन को बचाने के लिए उम्मीद की आखिरी किरण हैं।

ये हरगिज न करें 

अपने दोस्‍तों के साथ आक्रामक और उत्‍तेजक फोटो को साझा न करने की कोशिश करें। इस समय पर, यह वास्तव में किसी के लिए ट्रिगर हो सकता है और उन्हें कमजोर कर सकता है। यदि आप वायरस या वैक्सीन के बारे में किसी विशेष दावे के बारे में अनिश्चित हैं, तो कृपया इसे किसी भी कीमत पर साझा न करें। सोशल मीडिया पर गलत सूचना का प्रसार होता है।

ऐसी पोस्‍ट न लगाएं जो दूसरों को परेशान करे। चित्र: शटरस्‍टॉक
ऐसी पोस्‍ट न लगाएं जो दूसरों को परेशान करे। चित्र: शटरस्‍टॉक

यदि आप ऐसे व्यक्ति हैं जो स्वेच्छा से लोगों की मदद कर रहें हैं, तो हमेशा यथासंभव अधिक से अधिक वेरीफाई करने का प्रयास करें। यह वास्तव में लोगों को समय बचाने में मदद करेगा, यह सुनिश्चित करेगा कि वे अपनी आवश्यकताओं को जल्द से जल्द प्राप्त करें।

महामारी के दौरान सोशल मीडिया पोस्टों की प्रकृति में आम तौर पर बदलाव आया है। यहां तक ​​कि पिछले एक साल में – डालगोना कॉफी, खाना पकाने के वीडियो और डूडल को चित्रित करने वाली प्रारंभिक लॉकडाउन डायरियों से, यह अब दुःख, दर्द और पीड़ा से भरी पोस्‍टों में बदल गया है।

इसके बावजूद, सोशल मीडिया आपके मानसिक स्वास्थ्य को काफी प्रभावित कर सकता है। खासकर एक ऐसी दुनिया में जो शारीरिक रूप से अदृश्‍य है। इसलिए, आपको इसके साथ ब्रेकअप करने की आवश्यकता नहीं है, मगर जरूरत है इसे अधिक जिम्मेदारी से उपयोग करने की।

यह भी पढ़ें – आपका तनाव कम करने में भी मददगार है एलोवेरा जूस, जानिए ये कैसे काम करता है

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।