पैशन और काइंडनेस भी दे सकते हैं आपको खुशी, योग गुरू और लाइफ कोच बता रहीं हैं खुश रहने के 7 मंत्र

हैप्पी, हेल्दी, मोटिवेटेड और सक्सेसफुल होने के लिए आपको स्वयं मेहनत करने की आवश्यकता होती है। ये चीजें आपके लिए कोई और नहीं कर सकता। आपके मेंटल हेल्थ को बूस्ट कर हैप्पीनेस अट्रैक्ट करने में मदद करेंगी एक्सपर्ट की सुझाई ये 7 टिप्स।
stress kam karta hai kindness
मेडिटेशन, योग, सकारात्मक गतिविधियों में भाग लेने के साथ-साथ काइंडनेस एक ऐसी प्रक्रिया है। चित्र- अडोबी स्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 6 Sep 2023, 11:00 am IST
  • 145

हैप्पीनेस यानी की खुशी जिसकी तलाश सभी को होती है। लोग अक्सर इसके पीछे भागने की कोशिश करते हैं। हालांकि, खुशी किसी की मंजिल नहीं है, यह एक यात्रा है जहां उतार-चढ़ाव आते हैं और उनसे ऊपर उठ लोग सकारात्मक चीजों को चुन आगे बढ़ते हैं। हैप्पीनेस का मतलब सभी के लिए अलग-अलग हो सकता है, परंतु यह हर किसी के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। हैप्पी, हेल्दी, मोटिवेटेड और सक्सेसफुल होने के लिए आपको स्वयं मेहनत करने की आवश्यकता होती है। ये चीजें आपके लिए कोई और नहीं कर सकता। हालांकि, खुश रहना और सकारात्मक सोचना इतना भी मुश्किल नहीं जितना कि हम सभी इसे बना रखा है।

भारतीय योगा गुरु, योगा इंस्टीट्यूट की डायरेक्टर और टीवी की जानी-मानी हस्ती डॉक्टर हंसाजी योगेंद्र ने जीवन में खुश रहने के लिए कुछ प्रभावित टिप्स और ट्रिक बताएं हैं। तो चलिए जानते हैं हैप्पी और हेल्दी लाइफ के कुछ मंत्र (tips to be happy in life)।

यहां जानें खुश रहने के कुछ खास टिप्स

1. ग्रिटीट्यूड प्रैक्टिस

सुबह उठकर 5 से 7 मिनट के लिए अकेले बैठे और अपने जीवन की सकारात्मक चीजों पर ध्यान केंद्रित करें। इनमें से नियमित रूप से तीन सकारात्मक चीजों को अपनी डायरी में लिखें। ऐसा करने से आपका पूरा दिन पॉजिटिव हो सकता है और आप अपने दिन की शुरुआत एक सकारात्मक सोच के साथ करती हैं, जो आपको खुश रहने में मदद करता है।

happy-woman
अपनी सभी चीजों के लिए आभार व्यक्त करना आपको अंदर से खुशी देगा।चित्र: शटरस्टॉक

2. बॉडी को एक्टिव रखें

आप खुद को एक्टिव रखने के लिए चाहे तो सुबह योग, एक्सरसाइज, वर्कआउट आदि में भाग ले सकती हैं। इसके अलावा जॉगिंग, वॉकिंग, साइकलिंग, स्विमिंग जैसी गतिविधियों में भाग लेना भी एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है। जब आप अपने शरीर को एक्टिव रखती हैं, तो बॉडी एंडोर्फिन रिलीज करती है।

यह हमारे ब्रेन से रिलीज होने वाला फील गुड हार्मोन है, जो आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा का संचार करता है। जिससे आपको पूरे दिन खुश रहने में मदद मिलती है। इसके लिए आपको किसी भारी एक्सरसाइज करने की आवश्यकता नहीं है, उन गतिविधियों में भाग लें जिसे आप इंजॉय कर सके।

3. अपनों से जुड़ी रहें

चाहे आप कितनी भी व्यस्त हों, कुछ समय निकालकर अपने दोस्तों और परिवार के सदस्यों के साथ कुछ वक्त बताएं ऐसे लोगों के आसपास रहना बेहद महत्वपूर्ण है, जो आपको सकारात्मक महसूस करवाते हैं। ह्यूमन कनेक्शन आपको सेटिस्फाइड और खुश रखने के लिए बेहद महत्वपूर्ण है, यदि आप हर रोज अपने लोगों से मिलने में समर्थ नहीं हैं तो कम से कम दिन में एक फोन कॉल कर उनसे 5 से 10 मिनट बात करें। ऐसा करने से आपको बेहतर महसूस होगा और आपको खुश रहने में मदद मिलेगी।

Office work ko divide kar lein
इससे आप तनाव मुक्त रहेंगे और काम भी समय पर होने लगेगा। चित्र : शटरस्टॉक

4. एक्ट ऑफ काइंडनेस

एक्सपर्ट के अनुसार दयालुता का भाव प्रकट करना आपकी खुद की हैप्पीनेस को बूस्ट करने में मदद करता है। किसी दूसरे व्यक्ति के लिए कुछ बेहतर करने से आपके शरीर में ऑक्सीटोसिन रिलीज होती है। ऑक्सीटोसिन लव और अफेक्शन से जुड़ा होता है। यदि आपको इसे खुद महसूस करना है तो आज 2 से 3 लोगों की मदद करें।

आप किसी असहाय को खाना या पैसे दे सकती हैं, वहीं अपने खास व्यक्ति को उनकी पसंदीदा गिफ्ट के साथ सरप्राइज करें, यहां तक की किसी जानवर के प्रति दयालुता दिखाना भी आपको खुशी प्रदान कर सकता है।

यह भी पढ़ें : Teacher’s Day 2023 : विद्यार्थियों के मानसिक स्वास्थ्य के लिए टीचर्स कर सकते हैं महत्वपूर्ण काम, जानिए कैसे

5. पैशन को साथ लेकर चलें

अक्सर लोग अपने पैशन को पीछे छोड़ देते हैं और अपने जॉब और नियमित दिनचर्या में पूरी तरह से व्यस्त हो जाते हैं। आपको बताएं कि जीवन में सकारात्मक और खुश रहने के लिए पैशन फॉलो करना बेहद जरूरी है। पेंटिंग, डांसिंग, सिंगिंग, पोएट्री, खेलने जैसी आदि जैसी पसंदीदा गतिविधियों के लिए वक्त निकाले। यह आपको पूरी तरह से संतुष्ट रखता है, साथ ही साथ हैप्पीनेस लेवल को भी बूस्ट करता है। इसलिए अपने दिन का एक छोटा हिस्सा अपनी पसंदीदा गतिविधियों को जरूर दें।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
khushi wale karya
अपनी पसंद का काम करने पर रिश्ते में भी ख़ुशी लौटती है। चित्र: शटरस्टॉक

6. टेक्नोलॉजी से खुद को डिस्कनेक्ट करें

इस डिजिटल एरा में खुद को फोन, लैपटॉप, इयरफोन आदि जैसे टेक्नोलॉजी से डिस्कनेक्ट करना बेहद महत्वपूर्ण है। लंबे समय तक स्क्रीन पर बैठे रहना तनाव की भावना को बढ़ावा देता है, ऐसे में एक उचित समय के बाद अपने सभी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस को बंद कर दें और खुद को टेक्नोलॉजी डिटॉक्स दें। यह आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण है। कुछ देर खुली वातावरण में गहरी सांस लें और धीमे-धीमे वॉक करें। इसके अलावा पेड़, पौधे, फूल, बगीचे के साथ ही जानवरों के साथ वक्त बिता सकती हैं।

7. अपनी तुलना दूसरों से न करें

सोशल मीडिया ट्रेंडिंग रील्स के जमाने में सभी एक दूसरे से अपनी कंपैरिजन करने लगे हैं। यह कहीं से भी उचित नहीं है, हर किसी में अपनी एक खास खूबी होती है, जो आपको दूसरों से अलग बनाती है। ऐसे में दूसरों की तरह बनने की कोशिश न करें, अपनी खूबियों को खुलकर जिएं। इस तरह आपको बेहतर महसूस करने और खुश रहने में मदद मिलेगी।

यह भी पढ़ें : स्ट्रेस और एंग्जाइटी से परेशान हैं तो दवाइयों के सेवन से पहले आजमाएं ये 6 प्रभावी टिप्स

  • 145
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख