और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

एंग्जायटी की समस्या से परेशान हैं, तो याद रखिए एंग्जायटी अटैक से बचने के ये 5 कारगर तरीके

Published on:11 December 2020, 19:09pm IST
एंग्जायटी या चिंता एक बहुत ही गंभीर मानसिक स्थिति है। यह मौजूदा समय की मुख्य मानसिक स्वास्थ्य समस्या बन चुकी है। यह विश्व भर में लाखों लोगों को प्रभावित कर रही है। इसलिए जरूरी है कि इसे समय रहते कंट्रोल कर लिया जाए। 
विनीत
  • 85 Likes
लंबे वक़्त तक भांग का सेवन करने से एंग्‍जायटी हो सकती है । चित्र-शटरस्टॉक
लंबे वक़्त तक भांग का सेवन करने से एंग्‍जायटी हो सकती है । चित्र-शटरस्टॉक

एंग्‍जायटी किसी को भी हो सकती है। यह जितनी गंभीर स्थिति है, उतना ही ज्‍यादा जरूरी है इसे समय रहते पहचानना। अच्छी खबर यह है कि कई ऐसी तकनीक हैं जिनका इस्तेमाल कर के आप एंग्जायटी की समस्या को प्रभावी तरीके से प्रतिबंधित कर सकती हैं। हम आपको चिंता या तनाव से निपटने में आपकी मदद करने के लिए 5 टिप्स बता रहे हैं। यह आपको एंग्जायटी से राहत पाने में मदद करेंगी।

हम तब चिंतित होते हैं जब हमारा दिमाग लगातार भविष्य पर केंद्रित होता है। लोग अक्सर रात में सोने से पहले चिंता के अटैक से पीड़ित होते हैं, क्योंकि यही वह समय है जब हम पर कई अवांछित विचार हावी होते हैं। जिन विचारों को हम दिन भर में दबा देते हैं, वे रात में उभर आते हैं। रात के समय में हमारे मन में कई तरह के विचार आते हैं, जैसै- कल क्या होगा, इस स्थिति को हल करने के लिए मैं क्या कर सकता हूं? यह सवाल रात के समय हमारा सोना मुश्किल कर देते हैं। ऐसे में ये 5 टिप्स आपको इससे राहत पाने में मदद करेंगे।

  1. नकारात्मक विचारों को बढ़ने न दें

अगर आप अपने मन में नकारात्मक विचारों को बढ़ने देते हैं, तो आप पागल हो जाएंगे। चिंता एक पहाड़ी से नीचे लुढ़कने वाले बर्फ के गोले की तरह है, जो आगे बढ़ता रहता है। इसे रोकने की शक्ति रखने वाले आप एक मात्र हैं। आपको पहले नकारात्मक विचारों को रोकना सीखना चाहिए। इसका मतलब है जब वे होते हैं तो उनकी पहचान करना।

जब आप यह महसूस करते हैं कि आपके मन में नकारात्मक विचार बढ़ रहे हैं, खुद से पूछें, कि क्या वास्तव में ऐसा होने की संभावना है? अतीत और भविष्य के बारे में सोचना बंद कर दें और यह कल्पना करने की कोशिश करें कि आपका जीवन कैसा होगा यदि आपको कोई चिंता नहीं होगी।

यदि यह काम नहीं करता है तो एक लिस्ट तैयार करें। यह लिखें कि आपके मन में क्या है और आप इसके बारे में क्या कर रहे हैं। यह लेखन अभ्यास आपको समस्याओं को व्यवस्थित करने और उनके सही आयाम खोजने में मदद करेगा। दूसरे शब्दों में, यह उन्हें अपने सिर के अंदर बढ़ते और घूमते रहने की अनुमति नहीं देता है। आप अपने लक्ष्यों को भी लिख सकती हैं साथ ही आप उन्हें कैसे प्राप्त करेंगी यह भी लिख सकती हैं।

यह भी पढ़ें: अक्सर रात में उदास महसूस करने लगती हैं, इन 5 टिप्‍स से पाएं नाइट टाइम डिप्रेशन से छुटकारा

सुपर पावर मेडिटेशन शराब या कैफीन की एडिक्‍शन को भी कंट्रोल कर सकती है। चित्र: शटरस्‍टॉक
मेडिटेशन के जरिए एंग्जायटी अटैक से राहत पाई जा सकती है। चित्र: शटरस्‍टॉक
  1. मेडिटेशन और सांस लेना

यह चिंता से निपटने के लिए सबसे आम सलाह है और सबसे प्रभावी तरीकों में से एक है। यदि आप अकसर एंग्जायटी फील करती हैं तो मेडिटेशन जरूर करें। इस आदत में शामिल होने से आपको तनाव कम करने और जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद मिलेगी। अगर आप इससे गंभीर रूप से ग्रस्‍त नहीं हैं तो भी आपको श्‍वास और प्राणायाम को अपने रूटीन में शामिल करना चाहिए।

  1. फील-गुड ब्रेन केमिकल्स रिलीज करना

जब आप व्यायाम करते हैं, तो आपका शरीर एंडोर्फिन और सेरोटोनिन जारी करता है। ये दो एंजाइम जो आपके मस्तिष्क को खुशी और  सुख की भावनाओं के साथ जोड़ते हैं। वे पूरे शरीर को गर्म करते हैं और मांसपेशियों में तनाव को कम करने में मदद करते हैं। शारीरिक प्रयास भी यहां ध्यान केंद्रित करने का एक अच्छा तरीका है।

  1. इन प्राकृतिक उत्पादों का इस्तेमाल करें

हर्बल उपचार, विशेष रूप से हर्बल चाय जैसे वेलेरियन रूट, लैवेंडर और कैमोमाइल टी, चिंता और चिड़चिड़ापन को कम करने और तत्काल सोने में आपकी मदद करते हैं।

यह भी पढ़ें: थोड़ी सी उदासी का मतलब अवसाद नहीं, जानिए कैसे अवसाद से अलग है उदासी

  1. कैफीन से बचें

कैफीन को चिंता के स्तर को बढ़ाने और पैनिक डिसऑर्डर वाले लोगों में पैनिक अटैक का कारण दिखाया गया है। कैफीन एक उत्तेजक है जो घबराहट, अनियमित दिल की धड़कन और बेचैनी का कारण बन सकता है।

विनीत विनीत

अपने प्यार में हूं। खाने-पीने,घूमने-फिरने का शौकीन। अगर टाइम है तो बस वर्कआउट के लिए।