कोविड-19 महामारी में नई मांओं में बढ़ा है पोस्‍टपार्टम डिप्रेशन, जानिए आप इससे कैसे बच सकती हैं

हाल ही में हुए एक अध्ययन में सामने आया है कि कोविड-17 के समय मां बनी महिलाओं में पोस्टपार्टम डिप्रेशन देखने को मिल रहा है। जो नई मां और बच्चे दोनों की सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है।

कोविड-19 महामारी में नई मांओं में बढ़ा है पोस्‍टपार्टम डिप्रेशन
समय रहते जानिए पोस्टपार्टम डिप्रेशन के लक्षण। चित्र: शटरकॉक
अंबिका किमोठी Published on: 10 June 2021, 13:30 pm IST
  • 92

प्रसव के बाद के पहले कुछ हफ्तों में, अधिकांश नई माताओं को चिंतित, उदास, निराश, थका हुआ महसूस होता है। इसे कभी-कभी “बेबी ब्लूज़” के रूप में जाना जाता है। ये भावनाएं कुछ ही हफ्तों में बेहतर हो जाती हैं। लेकिन कुछ महिलाओं के लिए, वे बहुत समय बाद तक चलती रहती हैं। पोस्‍टपार्टम डिप्रेशन तब होता है जब ये भावनाए लगभग 2 सप्ताह के बाद भी कम नहीं होती।

ओंटारियो में सोमवार को प्रकाशित 137,000 से अधिक महिलाओं पर किये गए एक अध्ययन के अनुसार, इस महामारी के दौरान नई नई माँ बानी महिलाओं में मानसिक अवसाद 30% बढ़ गया है।

क्या कहता है अध्ययन

ओंटारियो में कनाडाई मेडिकल एसोसिएशन जर्नल में प्रकाशित 137,000 से अधिक प्रसवोत्तर महिलाओं के एक अध्ययन के अनुसार, नई माताओं द्वारा चिंता और अवसादग्रस्तता विकारों के दौरे मार्च से नवंबर 2020 तक महामारी से पहले के स्तर की तुलना में 39% अधिक थे, जबकि मादक द्रव्यों के सेवन के विकारों के दौरे भी बढ़े थे। ।

विगोड ने कहा कि महामारी ने कई सामाजिक समर्थनों को बंद कर दिया, जिन पर नए माता-पिता भरोसा करते हैं, जैसे परिवार, माता-पिता, समूहों और सार्वजनिक स्वास्थ्य नर्सों की मदद शामिल है। अमेरिका में भी महामारी के दौरान मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं व्यापक रूप से बढ़ी हैं। 2019 में, 10 में से एक वयस्क में सीडीसी पाई गयी। 2020 में, एजेंसी के सर्वेक्षणों में नियमित रूप से एक-चौथाई से अधिक वयस्कों में ये सीडीसी के लक्षण पाए गए।

इन उपायों को फॉलो कर आप बच सकती हैं पोस्‍टपार्टम डिप्रेशन से

1. अपने अकेलेपन को दूर करें

कैनेडियन जर्नल ऑफ साइकियाट्री द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन से पता चला है कि दूसरों के साथ अपनी भावनाओं के बारे में बात करने से आपका मूड बदलने में मदद मिलती है। शोधकर्ताओं ने पाया कि हाल ही में मां बानी महिलाओं ने जब अनुभवी माताओं के साथ रोजाना बात करनी शुरू की उनमें तनाव का स्तर काफी कम था। ये परिणाम चार सप्ताह तक और फिर प्रसव के आठ सप्ताह बाद तक बढ़े।

यद्यपि इस अध्ययन में सहकर्मी माताओं को फोन समर्थन देने के बारे में विशिष्ट प्रशिक्षण था, सामाजिक संपर्क की शक्ति निर्विवाद है। बाहर निकलने की पूरी कोशिश करें या कम से कम सहायता के लिए अन्य वयस्कों और माताओं के साथ चैट करें।

2.अपने खान पान का ध्यान रखें

सिर्फ स्वस्थ खाने से पीपीडी ठीक नहीं होगा। फिर भी, पौष्टिक खाद्य पदार्थ खाने की आदत डालने से आप बेहतर महसूस कर सकती हैं और अपने शरीर को आवश्यक पोषक तत्व दे सकती हैं। हर सप्ताह के अंत में पूरे सप्ताह के भोजन की योजना बनाने की कोशिश करें और यहां तक ​​कि समय से पहले स्वस्थ नाश्ता भी तैयार करें। कटा हुआ गाजर और पनीर या सेब के स्लाइस और मूंगफली का मक्खन जैसे संपूर्ण खाद्य पदार्थों के बारे में सोचें, जो चलते-फिरते आसानी से खा लिए जाते है।

3. अपनी ब्रीस्ट फीडिंग पर ध्यान रखें

2012 के एक अध्ययन से पता चला है कि स्तनपान से पीपीडी का विकास कम होता है। ये माना जाता है कि सुरक्षा प्रसव के बाद चौथे महीने तक पूरी तरह से विस्तारित हो सकती है। अगर आपको नर्सिंग से आराम मिलता है, तो इसे जारी रखें।

कहा जा रहा है, कुछ ऐसे मामले हैं जहां महिलाओं को स्तनपान कराने के दौरान अवसाद के लक्षण विकसित होते हैं। इस स्थिति को डिस्मॉर्फिक मिल्क इजेक्शन रिफ्लेक्स या डी-एमईआर कहा जाता है। डी-एमईआर के साथ, आप अचानक उदासी, उत्तेजना या क्रोध की भावनाओं का अनुभव कर सकते हैं जो आपके दूध के कम होने के कई मिनट बाद तक रहता है।
अंत में, आप फीडिंग की वो विधि चुनें जो आपको ठीक लगती है।

4. एक्ससरसाइस करें

ऑस्ट्रेलिया के विले ऑनलाइन लाइब्रेरी के शोध बताते हैं कि पीपीडी वाली महिलाओं के लिए व्यायाम तनाव या अवसाद को कम करने में मदद करता है। विशेष रूप से, पार्क में बच्चे के साथ चलना और ताजी हवा में सांस लेने से काफी मदद मिलेगी। मानसिक स्वास्थ्य और शारीरिक गतिविधि में प्रकाशित एक अध्ययन में, चलना अवसाद को कम करने के लिए सांख्यिकीय रूप से महत्वपूर्ण तरीका पाया गया।

अगर आप लंबे व्यायाम सत्र में फिट नहीं हो सकती तो, दिन में कई बार 10 मिनट के लिए वर्कआउट करने की कोशिश करें। फिटनेस ब्लेंडर छोटे, सरल वर्कआउट के लिए एक अच्छा संसाधन है जिसे आप बिना किसी उपकरण के कर सकती हैं।

5. अपने आप को आराम दें

आपको शायद “जब बच्चा सो जाए तब सो जाना” के लिए कहा गया है। ये सलाह थोड़ी देर बाद परेशान कर सकती है। 2009 की एक रिपोर्ट में पाया गया कि कैसे कम नींद लेने वाली महिलाओं में सबसे अधिक अवसादग्रस्तता लक्षण पाए गए। विशेष रूप से, ये उन महिलाओं पर लागू होता है, जिन्होंने आधी रात से सुबह 6 बजे के बीच चार घंटे से कम की नींद या पूरे दिन में 60 मिनट से कम की नींद ली।

शुरूआती दिनों में, हो सकता है कि आपका शिशु पूरी रात सो नहीं रहा हो। आपको झपकी लेने या जल्दी सोने में दिक्कत हो सकती है। यदि आप स्तनपान करा रही हैं, तो एक बोतल पंप करके अपने साथी को दें ताकि वो आपकी नींद के समय शिशु को दूध पिला सके।

इसे भी पढ़ें-जानिए क्‍या है सिकनेस सिंड्रोम, जो आपके मूड और उत्पादकता को भी करता है प्रभावित

  • 92
लेखक के बारे में
अंबिका किमोठी अंबिका किमोठी

योगा, डांस और लेखनी, यही सफर के साथी हैं। अपनी रचनात्‍मकता में देखूं कि ये दुनिया और कितनी प्‍यारी हो सकती है।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी,
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें
nextstory