आपकी सेहत और संबंध, दोनों के लिए जोखिम भरा हो सकता है लगातार सोचते रहना

Published on: 30 April 2022, 16:00 pm IST

ज़्यादा सोचना मानसिक और शारीरिक सहित आपके संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। दरअसल, ज्यादा सोचना इन 6 समस्याओं को बढ़ा सकता है।

overthinking ke karan
ओवरथिंकिंग एक मानसिक स्थिति है! चित्र : शटरस्टॉक

क्या आपको कभी ऐसा लगता है कि आपके विचार आपके जीवन पर हावी हो रहे हैं? या कि आप गहराई से और बार-बार बहुत ज्यादा सोचने लगी हैं? अगर ऐसा है, तो आप ओवरथिंकिंग से जूझ रही हैं। ओवरथिंकिंग आम है और तनाव से ग्रस्त लोग आमतौर पर इस स्थिति का अनुभव करते हैं। इसमें नकारात्मक विचारों के बारे में सोचना, अतीत पर ध्यान देना और भविष्य की चिंता करना शामिल है।

यदि आप इसे नियंत्रित करने के लिए कोई कदम नहीं उठाते हैं तो ओवरथिंकिंग आसानी से आपकी दैनिक आदत बन सकती है। और यह आदत न केवल आपके भावनात्मक स्वास्थ्य को प्रभावित करती है, बल्कि आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को भी खतरे में डाल सकती है।

ज़ेन मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल में कार्डियोलॉजिस्ट डॉ नारायण गडकर ने हेल्थशॉट्स से समग्र स्वास्थ्य पर अधिक सोचने के प्रभाव के बारे में बात की।

डॉ नारायण के अनुसार, अधिक सोचने से होती है ये 6 स्वास्थ्य समस्याएं:

1. अधिक सोचने से उच्च रक्तचाप होता है

यदि आप लगातार सोचती रहती हैं, तो ऐसा करने से आपके मन की शांति भंग हो जाएगी। यह तनाव को आमंत्रित कर सकता है जो आपके रक्तचाप को और बढ़ा सकता है और आपको दिल की समस्याओं जैसे स्ट्रोक या दिल का दौरा पड़ने के लिए अतिसंवेदनशील बना सकता है। उच्च तनाव का अर्थ है उच्च कोलेस्ट्रॉल का स्तर, और आप अनहेल्दी आदतों जैसे धूम्रपान और शराब का सेवन भी अपना सकती हैं जो आपके समग्र स्वास्थ्य पर कहर ढा सकते हैं।

2. ज्यादा सोचने से अनिद्रा की समस्या हो सकती है

क्या आप बहुत कोशिश करते हैं, लेकिन आपके कभी न खत्म होने वाले विचार आपको जगाए रखते हैं? सोने में परेशानी का सामना करना, अधिक सोचने के प्रभावों में से एक है। इसलिए, यदि आप ओवरथिंकर हैं, तो आप रात में अच्छी नींद नहीं ले पाएंगी। आपको अगली सुबह घबराहट, होगी और आप थका हुआ महसूस करेंगी। इससे आपके लिए अपने काम पर ध्यान केंद्रित करना मुश्किल हो जाएगा।

overthinking ke karan neend ki kami ho sakti hai
नींद न आने की वजह ओवरथिंकिंग हो सकती है। चित्र : शटरस्टॉक

3. आपकी भूख को दबा देगा ज्यादा सोचना

ज्यादा सोचने से भी भूख कम लग सकती है। क्योंकि यह आपके मस्तिष्क को व्यस्त रखता है और मस्तिष्क को संकेत नहीं जाने देता है कि आपको भूख लगी है या खाने का समय हो गया है। गडकर कहते हैं, ”अगर आप ज्यादा सोचने के कारण तनाव में हैं, तो हो सकता है कि आप ज्यादा न खाएं। दोनों ही आदतें आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं।”

4. ज्यादा सोचने से दिमाग पर पड़ेगा असर

अधिक सोचने से मस्तिष्क की संरचना और जुड़ाव में बदलाव आता है जिससे मूड संबंधी विकार होते हैं इसलिए यह चिंता, तनाव और अवसाद जैसी मानसिक बीमारियों को जन्म दे सकता है। इसके अलावा, यह आपकी ध्यान केंद्रित करने की ऊर्जा को कम कर सकता है और आपकी समस्या को सुलझाने और निर्णय लेने की शक्ति को प्रभावित कर सकता है।

5. यह पाचन तंत्र को प्रभावित करता है

अधिक सोचने के कारण तनाव आपके पाचन स्वास्थ्य पर भारी पड़ सकता है क्योंकि इससे पेट में रक्त के प्रवाह और ऑक्सीजन की मात्रा कम हो जाती है। अधिक सोचने के कारण होने वाला तनाव गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं जैसे कि आईबीडी या यहां तक ​​कि आईबीएस का कारण बंता है।

emotional health aur digestive system
तनाव का स्तर किसी भी व्यक्ति के पाचन तंत्र के हर हिस्से को प्रभावित करता है. चित्र : शटरस्टॉक

6. यह प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करेगा

यदि आप तनावग्रस्त हैं, तो शरीर में हार्मोन कोर्टिसोल का स्राव होता है, जो बदले में प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करता है, और आपको एलर्जी, संक्रमण और बीमारियों से पीड़ित होने का अधिक खतरा होगा।

अधिक सोचने के दुष्चक्र में फंसने से बचें और आगे बढ़ने के लिए इन 7 टिप्स का उपयोग करें:

आप सोच सकते हैं कि आप इसे नियंत्रित नहीं कर सकते हैं, लेकिन कुछ सुझाव हैं जिनका यदि आप नियमित रूप से पालन करते हैं, तो आपको ओवरथिंकिंग से रोकने में मदद मिल सकती है।

1. खुद को डिसट्रैक्ट करें: अगर आप खुद को ज्यादा ओवरथिंक करता हुए पाती हैं, तो परेशान करने वाले विचारों से दूर रहने के लिए कुछ और करने की कोशिश करें।

2. संगीत सुनें: अपने मन को नकारात्मक विचारों से विचलित करने के लिए अपना पसंदीदा संगीत सुनें।

3. इसे नोट कर लें: एक डायरी रखें और नोट करें कि आप क्या सोच रही हैं।

4. अपनी चिंताओं को साझा करें: यदि कोई हैं जिसके साथ आप अपने डर और चिंताओं को साझा कर सकती हैं, तो उन्हें बताएं। इससे आपका बोझ हल्का हो जाएगा।

5. अतीत को छोड़ दें: अगर आपके अति सोचने का कारण आपके अतीत के बारे में सोचना है तो उसे जाने दें। जो भी हो, इसे स्वीकार करें और आगे बढ़ें।

6. ब्रीदिंग एक्सरसाइज: तनाव के स्तर को कम करने के लिए ब्रीदिंग एक्सरसाइज का अभ्यास करना सबसे अच्छा उपाय है। आप ध्यान भी कर सकते हैं।

7. वर्तमान में जिएं: अपने अतीत को छोड़कर वर्तमान में जिएं। साथ ही, अपने अतीत, वर्तमान या भविष्य की चिंता न करें। अपने वर्तमान पलों का आनंद लें।

यह भी पढ़ें : बांझपन के कारण अवसाद से जूझ रही हैं? तो अपने मानसिक स्वास्थ्य का इस तरह रखें ख्याल

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें