फॉलो
वैलनेस
स्टोर

अक्सर रात में उदास महसूस करने लगती हैं, इन 5 टिप्‍स से पाएं नाइट टाइम डिप्रेशन से छुटकारा 

Updated on: 10 December 2020, 11:02am IST
अगर आप भी रात में अवसाद या नाइट डिप्रेशन की समस्या से जूझ रही हैं, तो हम आपको बता रहे हैं कि नाइट डिप्रेशन के क्या कारण हैं और आप इससे कैसे राहत पा सकती हैं।
विनीत
  • 84 Likes
यह आपके लिए सिर्फ एक समझौता भी हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

रात के समय अवसाद या नाइट डिप्रेशन (Night time depression) दुनिया में सबसे आम प्रकार के अवसादों में से एक है। यह एक ऐसी अनूठी स्थिति है जो सिर्फ न केवल आपके मूड और व्यवहार को प्रभावित करती है, बल्कि यह आपको अलग-थलग, अकेला, निराश और चिंतित भी महसूस करा सकती है। ऐसे में इस समस्या के बारे में जानना बहुत जरूरी हो जाता है। ताकि हम समय रहते इस समस्या से राहत पा सकें। जानें नाइट टाइम डिप्रेशन (Night time depression) से कैसे राहत पाई जा सकती है।

क्या है रात में डिप्रेशन होने का कारण

रात के समय के हम अवसाद का अनुभव इसलिए करते हैं, क्योंकि उस समय हम अपने विचारों के साथ अकेले होते हैं। उस समय किसी तरह का विक्षेप (distractions) नहीं होता। उस दौरान हमारा खुद से सामना होता है। हम हर उस चीज को याद करते हैं, जिसने मारे दिलो-दिमाग पर गहरे निशान छोड़़े हैं।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

दिन के समय हम ज्यादातर काम में व्यस्त रहते हैं और अपने आसपास लोगों से घिरे रहते हैं। लेकिन रात का समय ही वह अवधि होती है जब हम अपनी भावनाओं और विचारों का सामना करने के लिए मजबूर होते हैं।

रात में डिप्रेशन के पीछे हो सकते हैं कई कारण। चित्र:शटरस्टॉक

क्या कहती है स्टडी

ड्रग यूज एंड हेल्थ (NSDUH) के 2017 के राष्ट्रीय सर्वेक्षण के अनुसार, अमेरिका में 17.3 मिलियन से अधिक वयस्कों ने अकेले 2016 में अवसाद के कम से कम एक प्रमुख प्रकार का अनुभव किया। यह एक गंभीर मनोदशा विकार (mood disorder) है, जिसका अलग-अलग लोग अलग-अलग अनुभव करते हैं।

यह भी पढें: एंग्जायटी को नेचुरली कंट्रोल करना है, तो इन 7 फूड्स से आपको करना चाहिए परहेज

हम में से कुछ लोगों के लिए, रात में अवसाद के लक्षण काफी बढ़ जाते हैं। यह न केवल हमारे मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है, बल्कि रात का अवसाद (Night time depression) हमारी नींद को भी प्रभावित कर सकता है। जिससे अनिद्रा की समस्या हो सकती है। साथ ही इसके अलावा यह हमारे शारीरिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित कर सकता है।

कैसे पाएं नाइट डिप्रेशन से राहत

  1. सोने से दो घंटे पहले खुद को आराम दें

जब आप सोने से कुछ घंटे पहले अपने दिमाग और शरीर को आराम देती हैं, तो आपका शरीर आराम करने की तैयारी करने लगता है और खुद को धीमा करके सो जाता है। एक अच्छी और आरामदायक नींद हमारे शारीरिक, भावनात्मक और मानसिक कल्याण के लिए चमत्कार कर सकती है।

हर समय अपने आप को दूसरों से अलग-थलग महसूस करना संकेत है कि आपके दिमाग को आराम की जरूरत है। चित्र: शटरस्‍टॉक
  1. थकने पर ही बिस्तर पर जाएं

सुनिश्चित करें कि आप तब तक सोने नहीं जाएं जब तक कि आप वास्तव में थक नहीं जाते। यदि आपको नींद नहीं आ रही है, तो एक पुस्तक पढ़ें या 10-15 मिनट के लिए मेडिटेशन का अभ्यास करें। इससे यह सुनिश्चित होगा कि आप अपने बिस्तर पर बिल्कुल भी झूठ नहीं बोलेंगे और जीवन में होने वाली नकारात्मक घटनाओं और समस्याओं के बारे में अनावश्यक रूप से विचार नहीं करेंगी।

  1. शांत करने वाली गतिविधियों का अभ्यास करें

तनाव जीवन का एक अपरिहार्य हिस्सा है। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप तनाव से राहत देने वाली गतिविधियों के साथ जुड़ें और तनाव को समाप्त करने की कोशिश करें। बागवानी (gardening), व्यायाम, पेंटिंग, खाना बनाना, मेडिटेशन और योग जैसी गतिविधियां, आपको रात के समय अवसाद से बचाने में बहुत मदद कर सकती हैं।

  1. तनाव को बेडरूम के बाहर ही छोड़ दें

क्या आप अक्सर अपने बिस्तर पर रहते हुए अपने लैपटॉप पर काम करती हैं? तो फिर आपको इसे तुरंत बंद करने की आवश्यकता है। यह सुनिश्चित करें कि वे सभी चीजें जिनके कारण तनाव होता है, जिसमें आपका काम भी शामिल है। इन्हें अपने बेडरूम से दूर रखें।

तनाव को बेडरूम से बाहर ही छोड़ देना चाहिए। चित्र: शटरस्‍टॉक
तनाव को बेडरूम से बाहर ही छोड़ देना चाहिए। चित्र: शटरस्‍टॉक

हमारा बेडरूम एक सुरक्षित आश्रय होने के साथ ही सबसे अधिक आरामदायक और शांतिपूर्ण स्थान होना चाहिए।

यह भी पढें: थोड़ी सी उदासी का मतलब अवसाद नहीं, जानिए कैसे अवसाद से अलग है उदासी

  1. कैफीन और शराब का सेवन सीमित करें

आपके शराब और कैफीन के सेवन के स्तर को प्रबंधित करने से आपके मूड में बहुत बदलाव आ सकता है। कैफीन और अल्कोहल निश्चित रूप से अवसाद के बढ़ते लक्षणों के जोखिम को बढ़ा सकते हैं और आपकी नींद को प्रभावित कर सकते हैं।

हालांकि, यदि आप अपनी अवसाद की समस्या को हल करने में असमर्थ हैं, तो डॉक्टर से परामर्श लेना जरूरी है। जिससे कि आपको बेहतर ट्रीटमेंट दिया जा सके।

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

विनीत विनीत

अपने प्यार में हूं। खाने-पीने,घूमने-फिरने का शौकीन। अगर टाइम है तो बस वर्कआउट के लिए।