ऐप में पढ़ें

Misophonia: जानिए क्‍यों आता है शोर या किसी खास आवाज पर इतना ज्‍यादा गुस्‍सा

Published on:13 January 2021, 11:57am IST
क्या आप जानते हैं कि ध्वनियां हमारी भावनाओं को ट्रिगर करती हैं? वास्तव में, कुछ निश्चित ध्वनियां हैं जो आपको बहुत असहज बना सकती हैं। इस मानसिक विकार को मिसोफोनिया के रूप में जाना जाता है।
मिसोफोनिया एक नए तरह का मानसिक विकार है। चित्र: शटरस्‍टॉक
मिसोफोनिया एक नए तरह का मानसिक विकार है। चित्र: शटरस्‍टॉक

अपने स्कूल के दिनों के बारे में सोचें और याद करने की कोशिश करें कि क्या उस समय ब्लैकबोर्ड पर चॉक की आवाज़ ने आपको भी कभी पागल किया है? जब आप किसी को आवाज़ लगाते हुए सुनते हैं या गम चबाने की आवाज आपको परेशान करती है? अगर आपका जवाब हां है, तो आपको मिसोफोनिया की समस्या हो सकती है।

हो सकता है कि यह आपके दिमाग में न आए, लेकिन यह उन लोगों के लिए एक वास्तविकता है जो इसके साथ रहते हैं। वास्तव में, कई बार हम अपने भावनात्मक स्वास्थ्य को ध्यान में नहीं रखते और सोचते हैं कि यह सब सामान्य है। इसलिए हम चाहते हैं कि आप इस नए युग के भावनात्मक विकार के बारे में सब कुछ जान सकें।

मिसोफोनिया क्या है?

जब कुछ ध्वनियों के कारण आपकी भावनाएं भड़क उठती हैं, तो उस स्थिति को मिसोफोनिया कहा जाता है। मुंबई के वॉकहार्ट अस्पताल के डॉ. राहुल खेमानी के अनुसार मिसोफोनिया वाले लोग सामान्य ध्वनियों से भावनात्मक रूप से प्रभावित होते हैं। आमतौर जो ध्वनियां दूसरों द्वारा उत्पन्न की जाती हैं, या वे ध्वनियां जिन पर अन्य लोग ध्यान नहीं देते हैं।

क्‍या आपको भी किसी खास तरह के शोर से गुस्‍सा आने लगता है? चित्र: शटरस्‍टाॅॅॅक
क्‍या आपको भी किसी खास तरह के शोर से गुस्‍सा आने लगता है? चित्र: शटरस्‍टाॅॅॅक

जिन लोगों को मिसोफोनिया है, वे इसे एक ऐसी ध्वनि के रूप में वर्णित कर सकते हैं जो “आपको पागल करती है।” इस पर उनकी प्रतिक्रिया क्रोध और झुंझलाहट से लेकर घबराहट और पलायन की आवश्यकता तक हो सकती हैं। इस विकार को कभी-कभी सेलेक्टिव साउंड सेंसिटिविटी सिंड्रोम (selective sound sensitivity syndrome) भी कहा जाता है।

इसके उदाहरणों में सांस लेना, उबासी लेना या चबाना शामिल है। अन्य प्रतिकूल ध्वनियों में कीबोर्ड या फिंगर टैपिंग या विंडशील्ड वाइपर की आवाज शामिल है। यह एक जटिल प्रतिक्रिया बनाता है, जो क्रोध और भागने की इच्छा को ट्रिगर करता है।

मेंटल हेल्‍थ को पहुंचाता है नुकसान 

डा. खेमानी कहते हैं, कि यह दूसरों की तुलना में कुछ लोगों को बहुत बुरी तरह से प्रभावित कर सकता है और अलगाव को जन्म दे सकता है। इस स्थिति से पीड़ित लोग इन ट्रिगर ध्वनियों से बचने की कोशिश करते हैं। जिन लोगों को मिसोफोनिया की समस्या होती है वे अक्सर शर्मिंदा महसूस करते हैं। दुखद कि इस पर किसी का ध्यान नहीं जाता।

यह भी पढ़ें – शोध बता रहा है कि क्‍यों आपके मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छा नहीं है अकेलापन

वह कहते हैं, “यह कामकाज, समाजीकरण और अंततः मानसिक स्वास्थ्य से समझौता करता है। मिसोफ़ोनिया की समस्या आमतौर पर 12 की उम्र के आसपास दिखाई देती है।”

इस विकार के लक्षण हल्के से लेकर गंभीर तक दिखाई देते हैं। व्यक्ति शारीरिक और भावनात्मक प्रतिक्रियाओं की एक श्रृंखला के साथ-साथ अनुभूति की रिपोर्ट करते हैं। हल्के प्रतिक्रिया एंग्‍जायटी के रूप में प्रकट हो सकती हैं। आप असहज महसूस कर सकती हैं, साथ ही पलायन करने और घृणा करने का आग्रह कर सकती हैं। अधिक गंभीर प्रतिक्रिया को नोट किया जाता है यदि प्रश्न में ध्वनि क्रोध की ओर ले जाती है, साथ ही क्रोध, घृणा, घबराहट या भय और भावनात्मक संकट की ओर ले जाती है।

क्या हैं मिसोफोनिया के कारण

हाल ही में एक अध्ययन में पाया गया है कि मिसोफोनिया एक मस्तिष्क आधारित डिसऑर्डर है। शोधकर्ता मस्तिष्क के कुछ हिस्सों में कनेक्टिविटी में व्यवधान की ओर इशारा करते हैं। जो ध्वनि उत्तेजना और लड़ाई / उड़ान प्रतिक्रिया दोनों की प्रक्रिया करते हैं। इसमें मस्तिष्क के कुछ हिस्सों को भी शामिल किया गया है जो ध्वनियों के महत्व को बताते हैं।

डॉ. खेमानी कहते हैं, एंटेरियर इंसुलर कॉर्टेक्स (anterior insular cortex) क्रोध और हृदय और फेफड़ों से ध्वनियों को एकीकृत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। एफएमआरआई स्कैन (fMRI scans) दर्शाता है कि एआईसी नियंत्रण समूह की तुलना में मिसोफोनिया वाले लोगों में अधिक सक्रिय है।

इससे आपकी सामाजिक प्रभावित होने लगती है। चित्र: शटरस्‍टॉक
इससे आपकी सामाजिक प्रभावित होने लगती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

दीर्घकालिक यादों, भय और अन्य भावनाओं के लिए जिम्मेदार मस्तिष्क के कुछ हिस्सों में विशिष्ट सक्रियता थी। यह इस तथ्य के साथ जुड़ा हुआ है कि आम लोगों की आवाज के लिए गलत भावनात्मक प्रतिक्रिया होती हैं। यह दर्शाता है कि मस्तिष्क के ये भाग इस स्थिति में भूमिका निभाते हैं।

क्या मिसोफोनिया इलाज योग्य है?

उपचार में अक्सर ऑडियोलॉजिस्ट और सहायक परामर्श द्वारा ध्वनि चिकित्सा के संयोजन के लिए एक बहु-विषयक दृष्टिकोण शामिल होता है, जो रणनीतियों का सामना करने पर जोर देता है।

आप एक ऐसे उपकर्ण का इस्तेमाल कर सकती हैं, जो आपके कान में एक झरने के समान ध्वनि बनाता है। शोर आपको ट्रिगर से विचलित करता है और प्रतिक्रियाओं को कम करता है। साउंड ट्यून करने के लिए आप ईयर प्लग और हैडसेट भी पहन सकते हैं।

मिसोफोनिया से राहत पाने के लिए इन अपनी जीवनशैली में 3 परिवर्तन कर सकती हैं

1. नियमित व्यायाम करें: यह व्यायाम का कोई भी रूप हो सकता है। उद्देश्‍य यह है कि आपको सक्रिय रहना होगा।

पसंदीदा संगीत आपको मिसोफोनिया से राहत दे सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
पसंदीदा संगीत आपको मिसोफोनिया से राहत दे सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

2. पर्याप्त नींद: सात से आठ घंटे की नींद बहुत जरूरी है, और यह अच्छी नींद होनी चाहिए। कैमोमाइल चाय पीने, सुखदायक संगीत सुनने या कुछ और जो नींद को प्रेरित करने में मदद कर सकते हैं जैसी तकनीकों का उपयोग करें।

3. तनाव का प्रबंधन है जरूरी : यदि आप तनावग्रस्त हैं, तो न तो आपको बाहर काम करने का मन करेगा और न ही आप सो पाएंगे। इसलिए खुद को शांत रखना बहुत जरूरी है।

यह भी पढ़ें – क्‍या आपको भी बात-बात पर गुस्‍सा आता है? तो जानिए इसके 5 बेसिक कारण और उबरने के उपाय

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।