अंकिता कोंवर मानती हैं कि डिप्रेशन से जंग आपको बेहतर और मजबूत बनाती हैं

फिटनेस के प्रति उत्साही, अंकिता कोंवर टैबू के बारे में बोलने से कभी नहीं कतराती हैं। इस बार उन्होंने, अवसाद के साथ अपनी जंग के बारे में बात की। अधिक जानने के लिए पढ़ते रहिये!
ankita konwar se seekhiye depression se mukaalba karna
अंकिता कोंवर से सीखिए अवसाद से मुकाबला करना। चित्र : शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Updated: 29 Oct 2023, 07:27 pm IST
  • 120

मशहूर हस्तियां एक चमक-दमक भरा जीवन जीती हैं और उनके पास सबकुछ होता है- पैसा, प्रसिद्धि, प्यार, घर, महंगे आउटफिट्स और सुपरकार! मगर वे भी कभी – कभी अवसाद से ग्रस्त हो सकते हैं! आखिरकार वे भी इंसान हैं। जहां कई सेलेब्स अपने डिप्रेशन के बारे में खुलकर सामने आए हैं, वहीं मानसिक स्वास्थ्य मुद्दों पर आज भी काफी हद तक बात नहीं की जाती है।

दीपिका पादुकोण, अनुष्का शर्मा और करण जौहर जैसे बी-टाउन सेलेब्स के डिप्रेशन के बारे में खुलकर बात करने के बाद, हम सब को भी काफी प्रेरणा मिली है। हाल ही में, मॉडल, रनर और फिटनेस फ्रीक अंकिता कोंवर, जिन्होंने अभिनेता-मॉडल मिलिंद सोमन से शादी की है, ने अपनी डिप्रेशन के साथ लड़ाई के बारे में अपने अनुभव हमारे साथ साझा किए।

अवसाद से अंकिता की लड़ाई

अंकिता, जो स्वस्थ भोजन और फिटनेस में विश्वास रखती हैं, अक्सर फिटनेस प्रेरणा के बारे में इंस्टाग्राम पोस्ट और मिलिंद के साथ तस्वीरें साझा करती हैं। 30 वर्षीय अंकिता को कई बार बाल उत्पीड़न और नस्लवाद जैसे टैबू पर अपनी राय देते हुए भी देखा जाता है। इस बार, उन्होंने अपने सोशल मीडिया फॉलोअर्स के साथ अवसाद और एंग्जायटी के साथ अपनी लड़ाई को साझा करने के लिए इंस्टाग्राम का सहारा लिया है।

depression se jang aapko behtar aur mazboot banati hai
डिप्रेशन से जंग आपको बेहतर और मजबूत बनाती हैं. चित्र : शटरस्टॉक

उन दिनों को याद करते हुए अंकिता ने एक सटीक और बोल्ड कैप्शन के साथ एक खूबसूरत सनकिस्ड तस्वीर साझा की। उन्होंने अपने कैप्शन में लिखा “चिंता और अवसाद के साथ एक लंबी लड़ाई लड़ने के बाद, मुझे अभी भी कुछ तकलीफों का सामना करना पड़ता है।”

अवसाद के साथ अपनी लड़ाई को साझा करते हुए, उन्होंने लिखा, “मैं इसे खुद को कंज्यूम नहीं करने देती। यदि ऐसा होता है तो मैं रोती हूं, मैं अपने विचारों को उस तरह नहीं रखती जैसा मैं करती थी। इसके लिए बहुत अभ्यास की आवश्यकता होती है, लेकिन मैं कोशिश कर रही हूं।”

मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों से निपटने वाले लोगों को अवसाद से लड़ने और विजेताओं के रूप में उभरने के लिए प्रेरित करते हुए, अंकिता ने कहा, “मैंने एक जगह पढ़ा था कि ‘हममें से कुछ को इस दुनिया में जीवित रहने के लिए बाकी की तुलना में थोड़ा अधिक प्रयास करने की आवश्यकता है’ और मैं इसे स्वीकार करती हूं।

बुरा नहीं है मदद लेना

बेशक हमारे जीवन की घटनाएं और अनुभव इसमें बहुत बड़ी भूमिका निभाते हैं। लेकिन हमें इसके माध्यम से अपना रास्ता तय करने के लिए हर संभव मदद मिलनी चाहिए। यह आसान नहीं है, आप बस बेहतर और मजबूत होते जाते हैं।”

चिकित्सा सहायता लेने के अलावा, अंकिता उन चीजों को साझा करती है जो आप उन दिनों में स्वयं कर सकते हैं जब आप अवसाद से निपट रहे हों।

 

View this post on Instagram

 

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

A post shared by Ankita Konwar (@ankita_earthy)

ये चीजें मदद कर सकती हैं:

शारीरिक और मानसिक व्यायाम
जर्नलिंग
कैफीन में कटौती
शराब का सेवन कम करना
मादक द्रव्यों के सेवन से बचना
दोस्तों और परिवार के साथ जुड़ना
जरूरत पड़ने पर मदद लेना
ट्रिगर्स पर नज़र रखना

सभी बाधाओं के बावजूद आपने जो हासिल किया है उसे देखते हुए, अवसाद से जूझ रहे किसी भी व्यक्ति के लिए अंकिता ने लिखा, “यदि आप उन दिनों का सामना कर रहे हैं, तो मैं यहां आपको यह याद दिलाने के लिए हूं कि आप मजबूत हैं।”

यदि आप अवसादग्रस्त लक्षणों के उतार-चढ़ाव को महसूस कर रहे हैं, तो याद रखें, आप अकेले नहीं हैं। यह यात्रा थकाऊ हो सकती है, लेकिन अपने आप को थामे रहें और खुद में यकीन रखें। वे कहती हैं, मदद के लिए खुला रहना खुद को ठीक करने की दिशा में पहला कदम है और आपको भी वह कदम उठाना होगा!

यह भी पढ़ें : नव वर्ष संकल्प 2022 : खुद की मदद करने के बाद ही हम दूसरों की मदद कर सकते हैं

  • 120
लेखक के बारे में

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख