और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

Microaggression 101: रोजाना होने वाली छोटी-छोटी इंसल्ट भी आपके मानसिक स्वास्थ्य को खराब कर सकती हैं

Published on:8 July 2021, 16:30pm IST
कोई छाटा सा ताना, किसी प्रस्तुति पर किया गया कोई भद्दा मजाक आपके मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं। इसलिए, इसकी पहचान करना और इससे प्रभावी ढंग से निपटना महत्वपूर्ण है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 82 Likes
रोजाना होने वाली छोटी-छोटी इंसल्ट आपके मानसिक स्वास्थ्य के लिए सही नहीं है. चित्र : शटरस्टॉक
रोजाना होने वाली छोटी-छोटी इंसल्ट आपके मानसिक स्वास्थ्य के लिए सही नहीं है. चित्र : शटरस्टॉक

आपने कितनी बार अपनी महिला मित्रों को प्रशंसा का पात्र बनते देखा है, जब उन्होंने किसी स्थिति को अच्छे से संभाला है? या आपने कितनी बार पुरुष सहकर्मियों को मीटिंग में महिलाओं की बात काटते हुए देखा है?

खैर, हम में से कई महिलाओं ने ऐसी स्थिति का सामना किया है, जब हमारे साथ भेदभाव होता है और हम हीन भावना से ग्रस्त हो जाती हैं।

जब रूढ़ियों में जकड़े हुए लोगों के विचार, रोज़मर्रा के कार्यस्थल पर प्रकट होकर किसी व्यक्ति विशेष को नीचा दिखाने की कोशिश करते हैं, तो यह अब्यूसिव बिहेवियर की शक्ल ले लेता है। इस तरह का व्यवहार पीड़ितों के मानसिक स्वास्थ्य पर स्थायी प्रभाव डाल सकता है, जिससे वे तनावग्रस्त हो जाते हैं और आत्म-संदेह में डूब जाते हैं।

क्या है माइक्रो एगरेशन (Micro aggression) ?

माइक्रो एगरेशन उन लोगों को होता है, जो लिंग, जाति और यौन वरीयताओं के आधार पर समाज के कुछ हाशिए वर्गों के खिलाफ गुप्त पूर्वाग्रह रखते हैं। यहां तक ​​​​कि अगर लोग स्पष्ट रूप से किसी अन्य व्यक्ति का अपमान नहीं कर रहे हैं, तो आकस्मिक और छिपी हुई टिप्पणियां जो कुछ व्यक्तियों को दुर्व्यवहार या बहिष्कृत महसूस कराती हैं, उन्हें माइक्रो एगरेशन के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है।

साहित्य और फिल्म में लोगों के कुछ समूहों का रूढ़िवादी चित्रण, और करीबी रिश्तेदारों के विचारों को थोपना लोगों को माइक्रो अग्रेसिव होने में योगदान देता है।

माइक्रो एगरेशन मानसिक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है. चित्र : शटरस्टॉक
माइक्रो एगरेशन मानसिक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है. चित्र : शटरस्टॉक

सांस्कृतिक, धार्मिक या यौन पूर्वाग्रहों को मजबूत करने वाली जाने अनजाने में की गई टिप्पणियों के रूप में लोगों को विभिन्न प्रकार के माइक्रो एगरेशन का सामना करना पड़ता है। उदाहरण के लिए, कई महिलाएं माइक्रो एगरेसिव टिप्पणियों का अनुभव करती हैं, जो उनकी बुद्धि को कमजोर करती हैं।

LGBTQA समुदाय के लोग भी परोक्ष अपमानजनक धारणाओं का सामना करते हैं और उन्हें काम पर और सामाजिक तौर पर अवसरों से वंचित कर दिया जाता है।

इस प्रकार माइक्रो एगरेशन आपके मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है

जानिए किस तरह माइक्रो एगरेशन व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं:

1. तनाव और चिंता को ट्रिगर करना

माइक्रो एगरेशन आंतरिक संघर्षों और आत्म-संदेह को जन्म दे सकता है। ये कारक तनाव और चिंता को ट्रिगर करने में योगदान कर सकते हैं। लगातार अपमान और अपमानजनक टिप्पणियों के कारण पीड़ित को नकारात्मक भावनाओं का सामना करना पड़ता है, जो केवल पर्यावरण में बदलाव की कमी या माइक्रो एग्रेसिव बिहेवियर में शामिल साथियों के व्यवहार से और बढ़ जाता है।

2. अविश्वास और भय का कारण बनता है

माइक्रो एगरेशन लोगों में अविश्वास पैदा कर सकता है क्योंकि इसके शिकार लोग भ्रम, क्रोध और निराशा की भावना का अनुभव करते हैं। यह स्वीकार करना कठिन है कि आपके सहकर्मी, मित्र और परिवार के सदस्य इस तरह का अपमानजनक व्यवहार कर सकते हैं, जिससे निराशा और भय पैदा होता है। इससे उबरने के लिए शराब के सेवन पर निर्भरता और अलगाव की भावना, स्थिति को और बिगाड़ सकती हैं।

माइक्रो एगरेशन लोगों में अविश्वास पैदा कर सकता है. चित्र : शटरस्टॉक
माइक्रो एगरेशन लोगों में अविश्वास पैदा कर सकता है. चित्र : शटरस्टॉक

3. फोकस और उत्पादकता को कम करता है

कार्य, पारिवारिक या शैक्षिक जिम्मेदारियां काफी भार डाल सकती हैं, क्योंकि माइक्रो एगरेशन शत्रुता की भावना को जन्म दे सकता है। रूढ़िवादिता को बनाए रखना पीड़ित की भावनाओं को अमान्य कर देता है, जिससे उनका आत्मविश्वास कम हो जाता है और उनके विचार, ध्यान और उत्पादकता में कमी आती है।

तो लेडीज, इस तरह के छोटे और माइक्रो एग्रेसिव व्यवहार पर ध्यान दें और अपनी मानसिक भलाई का प्रभार लें।

यह भी पढ़ें : प्यार की कोई उम्र नहीं होती, ये 5 आदतें आपको बना सकती हैं सबसे सफल जोड़ा

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।