फॉलो
वैलनेस
स्टोर

कोविड-19 और आर्थिक संकट तनाव लेकर आए हैं, पर इनसे निकलना असंभव नहीं

Updated on: 9 September 2020, 14:31pm IST
कोविड-19 महामारी और उसके बाद आए आर्थिक संकट ने हम सभी के जीवन में तनाव और अवसाद को बढ़ाया है, पर यह हार मानने का नहीं, चुनौतियों को स्‍वीकार करने का समय है।
Dr Samir Parikh
तनाव हम सभी के जीवन में आया है पर इससे मुकाबला करना इतना भी मुश्किल नहीं। चित्र: शटरस्‍टॉक

दुनिया आज जिस महामारी के दौर से गुजर रही है, उसने हमारी जिंदगी के लगभग हर पहलू को प्रभावित किया है। इनमें हमारे व्‍यक्तिगत, सामाजिक, शारीरिक, भावनात्‍मक, वित्‍तीय, पेशेवर, अंतर्वैयक्तिक सभी कुछ शामिल हैं। इससे हमारा मानसिक और मनोवैज्ञानिक स्‍वास्‍थ्‍य भी प्रभावित हो सकता है।

कोविड-19 से पहले भी, तनावरहित जीवन का मिलना किसी सपने की तरह था। जो आमतौर पर सच नहीं होता था। लेकिन आज जैसे अभूतपूर्व दौर में, जबकि हर तरफ अनिश्चितता फैली है- महामारी के चलते डर तथा चिंता के माहौल ने सभी को प्रभावित किया है।

सेहत होनी चाहिए प्राथमिकता 

ऐसे में हम सभी का पूरा ज़ोर खुद की सेहत, जिसमें शारीरिक तथा मानसिक सेहत भी शामिल है, पर ध्‍यान देने पर होना चाहिए। यह काफी हद तक इस बात पर निर्भर करता है कि हर व्‍यक्ति अपनी निजी जिंदगी में तनाव से किस प्रकार निपटता है। साथ ही, उसकी जिंदगी में किस तरह के हस्‍तक्षेप मौजूद हैं तथा यह तनाव उसकी रोज़मर्रा की जिंदगी को किस रह से प्रभावित करता है।

कोरोनावायरस ने एक नए तनाव को जन्‍म दिया है, पर इसके सामने हार नहीं माननी है। चित्र: शटरस्‍टॉक
कोरोनावायरस ने एक नए तनाव को जन्‍म दिया है, पर इसके सामने हार नहीं माननी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

इनमें से कुछ तनाव के कारक सचमुच गंभीर हो सकते हैं। जबकि कुछ पर हमारा कोई बस नहीं चलता। बेशक, इन सबसे बचना नामुमकिन है, लेकिन हम अपनी जिंदगी में पैदा होने वाले तनाव से बेहतर तरीके से निपटने के तौर-तरीके जरूर ईजाद कर सकते हैं।

हम क्‍या कर सकते हैं?

हमारी शारीरिक सेहत का मामला हो या बात मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य की, कुछ बातों का ख्‍याल हमें रखना ही होगा। खासतौर से महामारी के चलते जारी लॉकडाउन और ऐसी ही अन्‍य कई परिस्थितियों के मद्देनजर, ऐसा करना हमारे लिए फायदेमंद हो सकता है।

1. स्‍वस्‍थ जीवनशैली अपनाएं

इसके लिए आप नियमित रूप से अपनी नींद, स्‍वस्‍थ पोषणयुक्‍त खान-पान और साथ ही शारीरिक सक्रियता को हर दिन अपनी जिंदगी में शामिल कर सकते हैं। इसके अलावा, हर दिन का एक निश्चित टाइमटेबल/दिनचर्या होनी चाहिए। खासतौर से लॉकडाउन जैसे हालात में तो यह और भी जरूरी है ताकि हमें अपने आसपास ही सही, सामान्‍य हालातों का अहसास बना रहे।

हेल्‍दी लाइफस्‍टाइल आपके तनाव को भी कम कर सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
हेल्‍दी लाइफस्‍टाइल आपके तनाव को भी कम कर सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

2. आसपास सामाजिक सहयोग बनाए रखें

मनुष्‍य सामाजिक प्राणी है। यह साबित हो चुका है। इसलिए यह जरूरी है कि हम अपने आसपास रहने वाले दूसरे लोगों से जुड़े रहें, उनके संपर्क में बने रहें। खासतौर से अपने परिजनों, दोस्‍तों, सहयोगियों, साथियों के साथ संपर्क रखें। दूसरों से इस प्रकार जुड़े रहने से यह अहसास बना रहता है कि हम मुश्किल वक्‍़त में एक-दूसरे के काम आ सकते हैं। यह अहसास हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिहाज़ से महत्‍वपूर्ण है।

3. सच्‍चाई को स्‍वीकार करें

खासतौर से मौजूदा दौर में, जरूरत से ज्‍यादा सोच-विचार और चिंता करना आम है। लेकिन इसकी बजाय हमें अपनी ऊर्जा इस बात पर लगानी चाहिए कि हम असल में क्‍या कर सकते हैं। ताकि हमारी सेहत और सुरक्षा सुनिश्चित हो सके।

जो बीत गया उस पर तनाव लेने की बजाए सच्‍चाई को स्‍वीकारें। चित्र: शटरस्‍टाॅॅक
जो बीत गया उस पर तनाव लेने की बजाए सच्‍चाई को स्‍वीकारें। चित्र: शटरस्‍टाॅॅक

साथ ही हमारे परिवारों और हमारे आसपास के समुदायों का स्‍वास्‍थ्‍य भी अच्‍छा बना रहे। सच्‍चाई तो यह है कि सामुदायिक स्‍वास्‍थ्‍य हम सभी की और समाज की सामुहिक जिम्‍मेदारी है।

4. अपनी ऊर्जा को उत्‍पादक कार्यों पर लगाएं

सबसे जरूरी है कि हम कुछ ऐसा उपयोगी और उत्‍पादक करें, जिसे लेकर हमारे अंदर उत्‍साह पैदा हो। इसके लिए हम कुछ नए कौशल प्राप्‍त करने के लिए काम कर सकते हैं, नए शौक पर काम कर सकते हैं, पढ़ाई या काम पर ध्‍यान दे सकते हैं, चाहे वह घर के कामकाज ही हों … ऐसे ही और बहुत से काम किए जा सकते हैं।

अपने लिए भी समय निकालें, अपनी ऊर्जा को किसी उपयोगी दिशा में मोड़ें ताकि आप सक्रिय और व्‍यस्‍त रहें।

5. तनाव को दूर रखें

आप अपने शारीरिक और मनोवैज्ञानिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए जो भी कुछ करने के बारे में सोचती हैं, वह आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। हम सभी के पास तनाव से निपटने के अपने-अपने तरीके होते हैं। इनमें शारीरिक व्‍यायाम, आराम करना, ध्‍यान, योग, संगीत, नृत्‍य आदि शामिल हैं। ये काफी मददगार हो सकते हैं।

संगीत आपको तनावमुक्‍त करने में मददगार हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

6. दूसरों की मदद के लिए तत्‍पर रहें

यह जानना सुखद हो सकता है कि हमारे आसपास कोई न कोई है जो हमारी मदद के लिए उपलब्‍ध है। अपने मन की बात कहने और जरूरत पड़ने पर दूसरों से मदद लेने में हिचकिचाएं नहीं। आप अपनी समस्‍याओं के बारे में बात कर सकते हैं, चाहे वह अपने प्रियजनों से हों या फिर किसी पेशेवर के साथ।

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Dr Samir Parikh Dr Samir Parikh

Dr. Samir Parikh is a psychiatrist and director of Department of Mental Health and Behavioral Sciences and Fortis National Mental Health Program at Fortis Healthcare