Meditation for overthinkers : हर समय चलता रहता है दिमाग में कोई ख्याल, तो यहां हैं आपके लिए कुछ मेडिटेशन टिप्स

मेडिटेशन एक सीखा हुआ कौशल है जो अभ्यास और धैर्य के साथ ही बेहतर होता जाता है। जब आप एक नियमित शेड्यूल बनाए रखते हैं, तो आपका दिमाग अपने आप समझ जाता है कि यह समय आराम करने का समय है।
meditation sound sleep me madad karte hain.
मैडिटेशन से मिलेगी भावनाओं को मैनेज करने में मदद. चित्र : अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Published: 7 Jul 2024, 08:00 pm IST
  • 124

क्या आपका दिमाग कभी बंद नहीं होता? क्या आप आराम करने की कोशिश करते समय लगातार चीजों के बारे में सोचते रहते हैं? तो आप अकेले नहीं हैं। बहुत ज़्यादा सोचना आम बात है और बहुत लोगों के साथ ये समस्या लगातार बनी रहती है। इसके कारण कई समस्याएं होते है। ऐसे में आप मेडिशन की कोशिश करने के समय भी अपने दिमाग को बंंद नहीं कर पाते है।

जब आप बहुत ज़्यादा सोचते हैं, तो आपका दिमाग लगातार चलता रहता है, बार-बार एक ही स्थिति के बारे में सोचता रहता है, अलग-अलग चीजें जो आप कर सकते थे या कह सकते थे, या यहां तक कि ऐसी चीजें जो भविष्य में हो सकती हैं। बहुत ज़्यादा सोचने वाला दिमाग आराम के लिए भी नहीं रूकता है। ऐसा करने वाले लोग वर्तमान में नहीं जी पाते है। जिसके कारण बहुत समस्या हो सकती है। दिमाग को शांत करने का एक तरीका है वो है मेडिटेशन अब ज्यादा सोचने वालों के लिए ये एक चुनौती है तो चलिए जानते है कि अगर आप भी ओवरथींक करते है तो कैसे मेडिटेशन में अपने दिमाग को स्विच ऑफ करें।

bhramari pranayama negative thoughts ko door karta hai.

अंधेरा आपके तंत्रिका तंत्र को शांत होने और यहां तक ​​कि सो जाने के लिए संकेत भेजता है।
चित्र : एडॉबी स्टॉक

ओवरथिंकर के लिए मेडिटेशन के कुछ टिप्स (overthinker and meditation)

1 एक नियमित शेड्यूल बनाए रखें

मेडिटेशन एक सीखा हुआ कौशल है जो अभ्यास और धैर्य के साथ ही बेहतर होता जाता है। जब आप एक नियमित शेड्यूल बनाए रखते हैं, तो आपका दिमाग अपने आप समझ जाता है कि यह समय आराम करने का समय है।

हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि आप अपने मेडिटेशन अभ्यास के साथ सख्त हो जाएं। मेडिटेशन का मतलब नियमों का पालन करना नहीं है, इसका मतलब है वह करना जो अभ्यास करने वाले को अच्छा और सही लगता है।

2 मेडिटेशन के लिए एक स्थान रखें

खासकर अधिक सोचने वाले व्यक्ति के लिए, कपड़े धोने, अव्यवस्था या बच्चों से घिरे हुए जगह पर मेडिटेशन का अभ्यास करना सही नहीं है। अधिक सोचने के लिए ध्यान का अभ्यास करने के लिए, आपको मेडिटेशन के लिए एक शांत स्थान की आवश्यकता होती है।

इसका मतलब है कि अपने घर में मेडिटेशन के लिए एक खास कमरा या जगह तय करें, एक खास कुर्सी या चटाई, या जो कुछ शांत करने वाली चीजें अपने पास रखें। जो भी आपको आराम और सहज महसूस करने में मदद करे।

3 वर्तमान समय पर ध्यान केंद्रित करें

बिना किसी निर्णय के अपने वर्तमान अनुभव पर मेडिटेशन देकर माइंडफुलनेस का अभ्यास करें। अपने आस-पास की आवाज़ों, अपने शरीर में होने वाली संवेदनाओं और अपने विचारों और भावनाओं पर मेडिटेशन दें, जैसे ही वे उठें, उन्हें स्वीकार करें, उनमें उलझे बिना।

4 मेडिटेशन करने से पहले योग करें

मेडिटेशन करने से पहले योग करने से भी आपको मेडिटेशन की अवस्था में आने में मदद मिल सकती है। गति और सांस पर केंद्रित योग तनाव को कम करने और मेडिटेशन को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। योग शारीरिक दर्द से राहत दिलाने में भी मदद कर सकता है, जिस पर आप मेडिटेशन के दौरान ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।

mediatation ke fayde
ध्‍यान लगाना इतना मुश्किल नहीं है, जितना आप समझ रहीं हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

5 संगीत आपकी मदद कर सकता है

संगीत भी आपकी मदद कर सकता है गाने आपके दिमाग को शांत करने और तनाव को कम करने में उतना ही मदद कर सकता है जितना कि कोई अन्य आराम देने वाली तकनीक। अगर आप बहुत ज़्यादा सोचते हैं और आपको अपने दिमाग को शांत रखने में परेशानी होती है, तो संगीत आपकी मदद कर सकता है।

ये भी पढ़े- Morning laziness : सुबह-सुबह करें ये 10 स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज, दूर होगी मॉर्निंग लेजीनेस और स्टिफनेस

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

  • 124
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख