एंग्जाइटी को मैनेज करना है, तो पहले इन 5 ट्रिगर पॉइंट्स के बारे में जानें

यदि आप अक्सर दिल की धड़कन और बेचैनी का अनुभव करती हैं, तो इन टिप्स का पालन करें जो एंग्जाइटी को ट्रिगर करने वाली चीजों को मैनेज करने में आपकी मदद करेंगे।
मेडिटेशन आपकी मदद कर सकता है. चित्र : शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published on: 16 May 2022, 13:54 pm IST
ऐप खोलें

हमारा मानसिक स्वास्थ्य उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि हमारा शारीरिक स्वास्थ्य। एंग्जाइटी एक दुर्बल करने वाला लक्षण है जो न केवल मानसिक स्वास्थ्य विकारों वाले लोगों को प्रभावित करता है। बल्कि शारीरिक स्वास्थ्य समस्याओं वाले लोगों में हो सकता है जैसे कि दर्द का अनुभव करने वाले लोग। एंग्जाइटी के कारण अलग-अलग होते हैं और इसे अनुभव करने वाले व्यक्ति के नियंत्रण से बाहर हो सकते हैं। एंग्जाइटी ट्रौमा, तनाव, शराब, आदि के कारण हो सकता है।

जानिए क्या एंग्जाइटी को ट्रिगर कर सकता है

1. तनावपूर्ण स्थितियां

 

जब हम ऐसी स्थितियों में होते हैं जो हमें तनाव देती हैं, तो हमारा शरीर एड्रेनालाईन छोड़ता है जिससे हमें रिलैक्स होने में मदद मिलती है। हालांकि, जब शरीर पर अधिक जोर दिया जाता है तो यह विश्राम प्रक्रिया खराब हो सकती है। उदाहरण के लिए, यदि शरीर लंबे समय से तनावपूर्ण स्थिति में है, तो हम तनावग्रस्त हो जाते हैं जिससे हम एंग्जाइटी बढ़ती है।

2. कैफीन

कैफीन का सेवन एंग्जाइटी के मुद्दों को और खराब कर सकता है। यदि आप लंबे समय से कॉफी का सेवन कर रही हैं, तो यह आपके शरीर को एड्रेनालाईन छोड़ने के लिए प्रेरित कर सकता है। इससे आपकी ऊर्जा बढ़ सकती है जिसके परिणामस्वरूप एंग्जाइटी हो सकती है।

कैफीन का हर कप आपकी एंग्जाइटी को बढ़ा सकता है। चित्र-शटरस्टॉक.

3. सेल्फ निगलैक्ट

अपने स्वास्थ्य की उपेक्षा करने से एंग्जाइटी हो सकती है। यह इस भावना के कारण हो सकता है कि आप खुद का ख्याल नहीं रख सकते या दूसरों पर बोझ हैं। आप यह मान सकती हैं कि आपका स्वास्थ्य ‘इतना महत्वपूर्ण नहीं है। इन विचारों के परिणामस्वरूप आपकी आवश्यकताओं की उपेक्षा हो सकती है, और एंग्जाइटी ट्रिगर हो सकती है।

एंग्जाइटी को मैनेज करने के कुछ तरीके:

1. मेडिटेशन करें

ध्यान करना आपके स्ट्रेस लेवेल को मैनेज करने का अच्छा तरीका है। उदाहरण के लिए, एक सामान्य प्रकार का मेडिटेशन “माइंडफुलनेस” का रूप है, जिसके लिए आपको अन्य सभी विचारों को देखते हुए सांस लेने पर ध्यान केंद्रित करना होता है। दूसरा रूप योग-आधारित ध्यान अवस्था है, जो मन की शांति लाता है, तनाव को कम करता है, और समय के साथ आपकी भावनात्मक स्थिति को सामान्य करता है।

2. भोजन

वसा और कार्ब्स का सही संतुलन खाने से आपको फूड एंग्जाइटी को प्रबंधित करने में मदद मिल सकती है। कई अध्ययनों से पता चला है कि सेरोटोनिन के स्तर में असंतुलन का सीधा संबंध एंग्जाइटी से है। इस असंतुलन के लिए जिम्मेदार खाद्य पदार्थों को हटाकर इसे आसानी से प्रबंधित किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, प्रोसेस्ड फूड, चीनी, शराब, आदि के बजाय सैल्मन, नट्स, टर्की और पूरी-गेहूं की रोटी जैसे सेरोटोनिन से भरपूर फूड्स का सेवन करें।

जितना संभव हो सके अपने भोजन को स्किप न करें। पौष्टिक भोजन खाने से चिंता को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने में मदद मिलती है। जब हम किसी प्रोजेक्ट को लेकर चिंतित होने लगते हैं, तो कुछ देर के लिए ब्रेक लें और ठंडा पानी पिएं। इससे आपको स्ट्रेस रिलीज करने और फिर से ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलती है।

3. व्यायाम

एक शारीरिक कसरत आपके स्वास्थ्य और एंग्जाइटी के स्तर को सकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती है। हालांकि, व्यायाम का न केवल शरीर पर शारीरिक प्रभाव पड़ता है, बल्कि इसके मनोवैज्ञानिक लाभ भी होते हैं। कई अध्ययनों से पता चला है कि एक अच्छे एक्सरसाइज़ रूटीन से तनाव कम हो सकता है और प्रॉडक्टिविटी में सुधार होता है।

सही और नियमित व्यायाम करें। चित्र : शटरस्टॉक

4. पर्याप्त नींद लेना

अच्छी नींद लेना हमारे स्वास्थ्य और प्रॉडक्टिविटी के लिए फायदेमंद है। जिसमें अवसाद और अनिद्रा के लक्षणों को कम करना शामिल है। इसके अलावा, कई अध्ययनों से पता चला है कि हर रात छह घंटे से कम सोने से आपका ध्यान नकारात्मक रूप से प्रभावित हो सकती है। पर्याप्त नींद न लेने का परिणाम बहुत अधिक कैफीन का सेवन, ऑनलाइन समय बिताना हो सकता है।

5. तनाव का प्रबंधन

एंग्जाइटी को प्रबंधित करने का सबसे कठिन हिस्सा है स्ट्रेस को मैनेज करना। तनावपूर्ण स्थितियां आसानी से मासिक स्वास्थ्य पर असर डाल सकती हैं। यदि स्ट्रेस को सही समय पर मैनेज न किया जाए तो चिंता के स्तर को बहुत बढ़ा सकता है। यदि आपकी स्थिति बहुत खराब है तो मदद लेना महत्वपूर्ण है।

अंत में …

यदि आपको एंग्जाइटी है तो इसमें शर्म की कोई बात नहीं है। हम सभी अलग-अलग परिस्थितियों में इसका सामना करते हैं। एंग्जाइटी अटैक के संकेतों को पहचानना और सहायता मांगना अत्यंत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह इन समस्याओं को और खराब होने से रोक सकता है। तनाव से निपटने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक यह पता लगाना है कि आपको बेहतर महसूस किस्से होता है।

यह भी पढ़ें : सेरोटोनिन है आपका हैप्पी हॉर्मोन, इन 5 तरीकों से इसे बढ़ाएं और खुश रहें

लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी,
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें
Next Story