असफलताओं के लिए खुद को कोसने की बजाए, अपने आप को एक और मौका देना है जरूरी

Updated on: 30 December 2021, 17:00 pm IST

असफलताएं जीवन का एक अभिन्न अंग हैं, इसलिए उन्हें स्वीकार करें और अपने प्रति नर्म बनें। जानिए यहां आपका दृष्टिकोण क्या होना चाहिए!

Failure ka saamna kare
असफलता का सामना करना सीखें। चित्र:शटरस्टॉक

मान लीजिए कि आपके मित्र ने प्रतियोगी परीक्षा के लिए पहली बार ट्राई किया है। वह अपने रिजल्ट को लेकर बहुत उत्साहित है। लेकिन दुर्भाग्य से, परिणाम खराब रहा। उनके शिक्षक अंदर आते हैं और उन पर चिल्लाते हुए कहते हैं, “तुम जीवन में कुछ नहीं कर सकते। इतना पढ़ने के बाद भी अगर तुम असफल रहे। तो तुम बस लूजर हो, ड्रॉप आउट हो।”

वैकल्पिक रूप से, एक और शिक्षक है जो अंदर आते है और उन्हें बताते है, “अरे यह ठीक है! यदि आप अपने उत्तरों को देखते हैं तो आप देख सकते हैं कि आपकी कार्यप्रणाली सही है। आपको बस और अभ्यास करने की आवश्यकता है। हम इसे कक्षा में कर सकते हैं। आपने इस पर बहुत मेहनत की है, मुझे यकीन है कि आप अगली बार पास होंगे!”

आपको क्या लगता है कि कौन सा शिक्षक छात्र में सकारात्मक बदलाव ला सकता है? जब आप गलती करते हैं, तो आप स्वयं कौन से शिक्षक होते हैं?

Sakaratmak drishtikon rakhta hai aapka man shant
सकारात्मक दृष्टिकोण रखता हैं आपका मन शांत। चित्र: शटरस्‍टॉक

हममें से कितने लोग अपनी गलतियों और कार्यों के लिए खुद को दोषी मानते हैं? हम आसानी से शर्मिंदा हो जाते हैं और हम पूरी तरह से कोशिश करना बंद कर देते हैं। अगर हम असफल हो गए तो क्या होगा? दूसरे हमारे बारे में क्या सोचेंगे?

जानिए क्या होता है ब्लेम गेम

हमारी अपेक्षाओं को पूरा नहीं करने के लिए हमारी प्रतिक्रिया स्वयं को दोष देना और अपने कार्यों के बारे में आलोचनात्मक होना है।

हम अपने आप को क्षमा किए बिना, अपने मन की शांति और नींद को नष्ट करके, परिस्थितियों को पकड़ कर रखते हैं। क्या हम वास्तव में उस सजा के लायक हैं, जो हम खुद को देते हैं? हर दिन अपनी नकारात्मक भावनाओं का सामना करना सही है?

स्वयं के प्रति दयालु होने का अर्थ है शीशे में अपने प्रतिबिंब को देखने में सक्षम होना और “आई लव यू” कहना। इसके साथ ही वास्तव में इन शब्दों को मानना। हम में से बहुत से, हमारे प्रतिबिंब की आलोचना करते हैं, टूट जाते हैं और इन शब्दों को खुद से नहीं कह सकते हैं।

तो फिर हम क्या करें? कागज पर यह सरल है, आप दूसरों को जो सहानुभूति दिखाते हैं, वह आपको भी दिखाई जानी चाहिए। लेकिन वास्तव में, हम खामियां ढूंढते हैं, और अपनी तुलना दूसरों से करते हैं।

शारीरिक रूप से, अगर कोई गतिविधि सही नहीं है, तो हम जानते हैं कि यह हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होगा, और हम नहीं करेंगे। तो, ऐसा क्यों है कि जब मानसिक स्वास्थ्य की बात आती है। तो हम उस दर्द और पीड़ा से गुजरते हैं, यह जानते हुए कि यह हमारे लिए कितना हानिकारक है?

Kaam aur niji jeewan ke beech santulan banaye
काम और निजी जीवन के बीच संतुलन बनाए रखना बहुत जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

हम बदलाव कैसे ला सकते हैं?

हम अपने विचारों को ट्रैक करने और उन्हें कागज के एक टुकड़े पर लिखने की कोशिश करके शुरू कर सकते हैं। इसके अलावा जब वो ख्याल आते हैं, तो उन्हें टैग कर सकते हैं। उसके बाद आप उन्हें इस आधार पर अलग कर सकते हैं कि वे कहां से उपजे हैं। ‘तुलना, ईर्ष्या, नियंत्रण, बचपन का दर्द, आदि, उस दर्द का स्रोत जानिए। ‘ बस उन्हें टैग करें और उन्हें जाने दें, इसके बारे में न सोचें क्योंकि आप इस लूप में फंस सकते हैं।

एक और गतिविधि जो आप कर सकते हैं वह यह है कि आप हर दिन के लिए आभारी रहें! यह आपके द्वारा देखी गई छोटी-छोटी चीजों के बारे में हो सकता है। यहां तक ​​कि विशेष रूप से काम के बारे में, आपके जीवन में लोगों के बारे में, अपने बारे में या उन सभी के बारे में हो सकता है!

आत्म-प्रेम और आत्म-क्षमा के निर्देशित ध्यान का अभ्यास करके आप इसे हासिल कर सकते हैं। 

अपने प्रति दयालु होने का अर्थ है अपनी सभी गलतियों के लिए स्वयं को क्षमा करना। यह समझना कि आपके पास पूरे जीवन के लिए केवल एक ही शरीर और दिमाग है। इसके साथ सम्मान और अत्यधिक प्रेम के साथ व्यवहार करना है। इसलिए, पहले खुद को रखें, यह जानते हुए कि आपको कब ब्रेक की जरूरत है और बिना अपराधबोध के एक ब्रेक लीजिए।

Apne man ko shant karne ka tarika dhundhe
अपने मन को शांत करने का तरीका ढूंढें। चित्र: शटरस्टॉक।

यह समझना आसान है कि शब्दों का आपके लिए क्या अर्थ है। बस एक ऐसी दुनिया की कल्पना करें जहां हर कोई एक-दूसरे के प्रति दयालु हो। ‘वे क्या करेंगे, आप उनके साथ कैसा व्यवहार करेंगे?’ उन्हें सूचीबद्ध करें और एक-एक करके, उन्हें अपने लिए करें।

आप भी उस दया के हकदार हैं, जो आप दूसरों को दिखाते हैं। आपको वो दया मिलनी चाहिए जिसकी आप लालसा रखते हैं। 

यह भी पढ़ें: कई महीनों तक आपके शरीर में डेरा डाले रहता है कोरोनावायरस, शोध में हुआ खुलासा

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें