Time blindness : डेडलाइन हमेशा छूट जाती है, तो आप हैं टाइम ब्लाइंडनेस के शिकार, जानिए इससे कैसे छुटकारा पाना है

वे लोग जो हाइपरएक्टिव होते है और किसी एक काम पर फोकस नहीं करते हैं, उन्हें टाइम ब्लाइंडनेस का सामना करना पड़ता है। जानते हैं, टाइग ब्लाइंडनेस क्या है और किन कारणों से व्यक्ति इस समस्या से ग्रस्त होता है
time blindness kya hai
टाइम ब्लाइंडनेस उस कॉग्नीटिव स्थिति को कहते हैं, जिसमें व्यक्ति समय के महत्व को समझने और उसे मैनेज करने में कठिनाइयों का सामना करता है। चित्र-शटरस्टॉक।
ज्योति सोही Updated: 18 Jun 2024, 06:01 pm IST
  • 141
इनपुट फ्राॅम
&

कभी ऑफिस पहुंचने में देरी, कभी मीटिंग मिस करना तो कभी फ्लाइट न ले पाना। किसी व्यक्ति के अनमैनेजड होने का संकेत देते हैं। इसमें कोई दोराय नहीं कि रोजमर्रा के जीवन में व्यक्ति को कई प्रकार के तनाव और दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। मगर इसका असर व्यक्ति की ओवरऑल परफॉर्मेंस पर उस वक्त दिखने लगता है। जब वो अपनी डेडलाइंस को मीट करने में सक्षम नहीं रहता है। आमतौर पर लोगों में देखी जाने वाली इस समस्या को टाइम ब्लाइंडनेस (time blindness) कहा जाता है। जानते हैं, टाइग ब्लाइंडनेस (time blindness) क्या है और किन कारणों से व्यक्ति इस समस्या से ग्रस्त हो जाता है।

इस बारे में बातचीत करते हुए मनोचिकित्सक डॉ आरती आनंद बताती हैं कि वे लोग जो हाइपरएक्टिव होते है और किसी एक काम पर एक वक्त में फोकस नहीं करते हैं, उन्हें टाइम ब्लाइंडनेस का सामना करना पड़ता है। इस समस्या से ग्रस्त लोग काम को कल पर टालने लगते हैं और कभी कभार एक वक्त में कई काम एक साथ करने का प्रयास करने लगते हैं। उनके व्यवहार के चलते उनकी कार्यक्षमता प्रभावित होने लगती है।

time management krna hai jaruri
अपने समय को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने का अर्थ है लक्ष्य निर्धारित करना और उस पर काम करना। चित्र- अडोबी स्टॉक

किसे कहते हैं टाइम ब्लाइंडनेस (What is time blindness)

टाइम ब्लाइंडनेस (time blindness) उस कॉग्नीटिव स्थिति को कहते हैं, जिसमें व्यक्ति समय के महत्व को समझने और उसे मैनेज करने में कठिनाइयों का सामना करता है। इसका प्रभाव प्लानिंग से लेकर पंक्चुएलिटी तक पर पड़ सकता है। नेचुरल टाइम कीपिंग सेंस की कमी के चलते लोग टाइम ब्लाइंडनेस की समस्या के शिकार हो जाते हैं। टाइम ब्लाइंडनेस कोई मेडिकल कंडीशन नहीं है, मगर कई बार यह समस्या ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर का कारण बनने लगती है।

इस बारे में मनोचिकित्सक डॉ युवराज पंत बताते हैं कि वे लोग जो समय के मूल्य को समझने में असमर्थ होते हैं और अपने मन मुताबिक कार्य करते है, वे टाइम ब्लाइंडनेस (time blindness) के शिकार होते हैं। अनियमित लाइफस्टाइल से लेकर ओवरबर्डन होने तक, इस समस्या के लिए कई कारण जिम्मेदार हो सकते हैं। अगर आप इस समस्या से उबरना चाहते हैं, तो सबसे पहले आपको अपनी प्राथमिकता तय करना और उसके क्रियान्वयन को समझना होगा।

ये कारण हो सकते हैं टाइम ब्लाइंडनेस के लिए जिम्मेदार (Causes of time blindness)

1 अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर

अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर यानि एएचएडी से ग्रस्त व्यक्ति बहुत देर तक एक काम पर फोकस नहीं कर पाते है। उनका रैवया प्रोकास्टीनेट होने लगता है। इसके चलते वे डेडलाइंस को मीट करने में असफल साबित होते हैं। इसका असर कार्यक्षमता पर भी नज़र आने लगता है, जिससे आउटपुअ में कमी आने लगती है।

time ko manage krna hai jaruri
वे लोग जो समय के मूल्य को समझने में असमर्थ होते हैं और अपने मन मुताबिक कार्य करते है, वे टाइम ब्लाइंडनेस के शिकार होते हैं। चित्र :शटरस्टॉक

2 एक्ज़ीक्यूटिव डिसफंक्शन

ऐसे लोग ज्यादा समय रेस्टलेस महसूस रहते है, जिसके चलते उनका ध्यान किसी एक कार्य पर नहीं टिक पाता है। वो कोई फैसला अकेले नहीं ले पाते और किसी कार्य की प्लानिंग में भी दिक्कत आने लगती है। इन लोगों की मेमोरी भी प्रभावित होने लगती है।

3 अव्यवस्थिति दिनचर्या

ऐसे लोग जो कार्यों की प्राथमिकता को सेट नहीं कर पाते हैं। अक्सर उनकी टू डू लिस्ट हमेशा अधूरी रह जाती है। ऐसे लोग समय की चिंता किए बगैर अपने अनुसार काम करते है और कार्यों को अगले दिन पर टाल देते हैं। व्यवहार में बढ़ने वाला आलस्य और एनर्जी की कमी इस समस्या को बढ़ा देती है।

4 काम को ठीक से मैनेज न कर पाना

इस बात को समझना होगा कि एक व्यक्ति सभी जिम्मेदारियों को निर्वहल अकेला नहीं कर सकता है। मगर कुछ जो सभी कार्य खुद करना चाहते हैं, उससे कार्योंं की क्वालिटी से लेकर डेडलाइंस तक किसी भी चीज़ को पूरा नहीं कर पाते हैं। एक ही वक्त में मल्टीटास्किंग टाइम ब्लाइंडनेस को बढ़ा देती है।

5 प्री प्लानिंग की कमी

सुबह उठकर अपने प्रमुख कार्यों को करने की लिस्ट तैयार करना आवश्यक होता है। मगर वे लोग जो प्लानिंग के बिना कोई भी कार्य करते हैं। उन्हें अपने कार्यों में सफलता नहीं मिल जाती है। इससे किसी भी कार्य को पूरा करने में कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। चाहे ऑफिस हो या फिर घर अपने टारगेट्स को अचीव करने के लिए प्री प्लानिंग ज़रूरी है।

6 दायित्वों को तनाव समझना

जीवन में होने वाली छोटी मोटी समस्याएं व्यक्ति के तनाव का कारण बन जाती हैं। इससे व्यक्ति हताश और निराश रहने लगता है और किसी भी काम पर फोकस नहीं कर पाता है। ऐसे में अपने टारगेट्स को अचीव करने में परेशानी का सामना करना पड़ता है। बढ़ रहे तनावसे व्यक्ति दुविधा में रहता है, जिसका असर उनकी कार्य क्षमता पर दिखने लगता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

7 ऑटिज्म की समस्या

इससे ग्रस्त लोग चीजों को समझने में वक्त लगाते हैं और किसी एक चीज़ पर पूरी तरह से फोकस नहीं कर पाते हैं। ये किसी भी चीज़ को प्लान नहीं कर पाते और इनका इंपल्सिव व्यवहार सोशल सर्कल को कम कर देता है। ऐसे लोग हाइपर एक्टिव होते हैं।

यहां हैं टाइम ब्लाइंडनेस से बचने के टिप्स (Tips to overcome time blindness)

1 अलार्म और टाइमर का प्रयोग करें

दिनभर काम में मसरूफ रहने के कारण बार बार भूलने की समस्या और समय का आंकलन करने के लिए ज़रूरी कार्यों और मीटिंग्स के लिए अलार्म या फिर टाइमर का प्रयोग करें। इससे समय पर कार्यों को करने में मदद मिलती है और लाइफस्टाइल भी व्यवस्थित होने लगता है।

Timer ka istemaal karein
दिनभर काम में मसरूफ रहने के कारण बार बार भूलने की समस्या और समय का आंकलन करने के लिए ज़रूरी कार्यों और मीटिंग्स के लिए अलार्म या फिर टाइमर का प्रयोग करें। चित्र : शटरस्टॉक

2 टू डू लिस्ट तैयार करें

अगर आप अपने डेली रुटीन वर्क को भी ठीक से मैनेज नहीं कर पा रहे हैं, तो दिन भर के कार्यों के लिए एक टू डू लिस्ट को तैयार कर लें। इस लिस्ट की मदद से कार्यों को समयानुसार करने में मदद मिलती है। इसके अलावा टारगेट्स का भी आसानी से अचीव किया जा सकता है।

3 टाइम टेबल बनाएं

अगर आप इस बात की जानकारी रखते हैं कि कौन सा कार्य कितना समय लेगा, तो उसके अनुसार टाइम मैनेजमेंट करें। इससे हर टास्क और एक्टीविटी के लिए समय को निर्धारित करने में मदद मिलती है।

4 मेडिटेशन से खुद को शांत करें

दिनभर में कुछ वक्त ध्यान और चिंतन करने से दिमाग में बढने वाले तनाव को दूर किया जा सकता है। इससे व्यक्ति की मेंटल हेल्थ बूस्ट होने लगती है, जिससे काम पर फोकस बढ़ने लगता है। साथ ही आलस्य और थकान से भी राहत मिलने लगती है। दिन में दो बार मेढिटेशन करना मानसिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद साबित होता है।

5 काउंसलिंग सेशन लें

एडीएचडी से ग्रस्त लोगों को काउंसलिगं की आवश्यकता होती है। इससे उनके व्यवहार में बदलाव लाया जा सकता है। बचपन से व्यवहार में पनपने वाली ये समस्या उम्र के साथ लाइफस्टाइल का हिस्सा बन जाती हैं। इसके लिए डॉक्टरी जांच के अलावा काउंसलिंग सेशल लेना आवश्यक है।

ये भी पढ़ें- Feeling ignored : आपकी आदतें और व्यवहार हो सकता है इग्नोर किए जाने के लिए जिम्मेदार, जानिए इस स्थिति से बाहर आने का तरीका

  • 141
लेखक के बारे में

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख