Stockholm syndrome : आपकी मेंटल हेल्थ के लिए घातक हो सकता है अपने अब्यूजर पर इमोशनली डिपेंड होना, इससे उबरना है जरूरी

जो आपको परेशान कर रहा है, उससे छूटना भी मुश्किल हो रहा है, तो ये हो सकते हैं स्टॉकहोम सिंड्रोम के लक्षण। इसके लक्षण कभी -कभी इतने जटिल होते हैं कि पीड़ित व्यक्ति यह समझ ही नहीं पाता कि वह जो सोच रहा है वह सही है या गलत।
toxic relationship se kaise niklen
स्टॉकहोम सिंड्रोम में आफ दुरव्यवहार करने वाले व्यक्ति के साथ भी खुश रहते है। चित्र- अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Updated: 23 Jun 2024, 08:52 am IST
  • 147

याद कीजिए आलिया भट्ट और रणदीप हुड्डा की फिल्म हाईवे। इस फिल्म में आलिया उसी व्यक्ति से प्यार करने लगती जिसने उसे किडनैप कर उसे कैद में रखा। वास्तव में जब किसी व्यक्ति को उसके अपने परिवार और समाज से काटकर अलग-थलग कर दिया जाता है, तो वह अपने आसपास नजर आने वाले उस व्यक्ति से भी प्यार करने लगता है, जो वास्तव में उसके दुखों के लिए जिम्मेदार है। एक ऐसे व्यक्ति के साथ भावनात्मक रूप से जुड़ जाना जो वास्तव में आपकी आजादी, पहचान और अस्तित्व के लिए घातक है, एक खास मनोदशा को अभिव्यक्त करता है। मनोविज्ञान की भाषा में इसे स्टॉकहोम सिंड्रोम (stockholm syndrome) कहा जाता है।

इसका एक और उदाहरण हो सकता है जिसमें आप एक टॉक्सिक रिशते या एबयुज़िव रिलेशनशिप में रहने के बाद भी पार्टनर से दूर नहीं होते है। बच्चों के साथ जब कोई यौन शोषण होता है, उसके बाद भी वो कुछ नहीं बोलते। इसे भी स्टॉकहोम सिंड्रोम का एक रूप माना जा सकता है।

इस बारे में ज्यादा जानने के लिए हमने बात की क्लीनिकल साइकोलोजिस्ट डॉ आशुतोष श्रीवास्तव से।

toxic relationship me rahne se bahtar usase bahar hi nikal jana
स्टॉकहोम सिंड्रोम वाले लोगों की मुख्य विशेषता यह है कि वे अपने अपहरणकर्ता या दुर्व्यवहार करने वाले के प्रति बंधन और वफ़ादारी दिखाते हैं। चित्र : शटरस्टॉक

क्या होता है स्टॉकहोम सिंड्रोम

स्टॉकहोम सिंड्रोम एक ऐसी घटना को संदर्भित करता है, जिसमें एक व्यक्ति जो बंदी या दुर्व्यवहार की स्थिति में होता है, अपने अपहरणकर्ता या दुर्व्यवहारकर्ता के प्रति वफ़ादारी, विश्वास और यहां तक कि प्यार की भावनाएं दिखानी शुरू कर देता है।

यह शब्द 1973 में स्टॉकहोम, स्वीडन में हुई एक स्थिति से आया है, जहां एक महिला जिसे बैंक डकैती में बंधक बनाया गया था, अपने अपहरणकर्ता के साथ बंधी हुई थी और यहां तक कि अपने मंगेतर से अपनी सगाई भी तोड़कर अपने अपहरणकर्ता के साथ एक लंबे रिलेशनशिप में चली गई थी। स्वीडन के एक मनोचिकित्सक निल्स बेजेरोट को इस शब्द को सामने लाने का श्रेय दिया जाता है।

स्टॉकहोम सिंड्रोम एक मानसिक स्थिति नहीं है, लेकिन इसका उपयोग कुछ बंधक स्थितियों और अपमानजनक रिश्तों में देखे जाने वाले एक दुर्लभ, लेकिन उल्लेखनीय व्यवहार पैटर्न का वर्णन करने के लिए किया जाता है।

विशेषज्ञ निश्चित नहीं हैं कि इसका क्या कारण है, लेकिन यह संभवतः जीवित रहने की प्रवृत्ति से प्रेरित होता है। जब कोई अपहरणकर्ता किसी बंदी की जान को खतरे में डालता है, लेकिन उसे मारना नहीं चाहता, तो बंदी के जीवित रहने पर राहत की भावना उसके अपहरणकर्ता के प्रति घृणा से अधिक आभार की भावना में बदल जाती है।

क्या हैं स्टॉकहोम सिंड्रोम के लक्षण

स्टॉकहोम सिंड्रोम सबसे ज़्यादा बंधक स्थितियों से जुड़ा हुआ है, जैसे कि डकैती या फ्लाइट हाइजैक, लेकिन यह अपमानजनक रिश्तों, अपहरण और बचपन में यौन शोषण से भी जुड़ा हुआ है। स्टॉकहोम सिंड्रोम वाले लोगों की मुख्य विशेषता यह है कि वे अपने अपहरणकर्ता या दुर्व्यवहार करने वाले के प्रति बंधन और वफ़ादारी दिखाते हैं।

1 पूलिस या किसी भी कानूनी व्यक्ति या अन्य अधिकारियों के सामने अपने अपहरणकर्ता का बचाव करना।

2 अपने अपहरणकर्ता के खिलाफ़ बोलने का अवसर मिलने पर भी उसके प्रति वफादार बने रहना।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

3 अवसर मिलने पर भी बंदी की स्थिति से भागने या उसे छोड़ने के लिए अनिच्छुक होना।

4 अपने अनुमति से अनुमोदन और स्नेह की अपेक्षा करना।

स्टॉकहोम सिंड्रोम के क्या कारण हैं

स्टॉकहोम सिंड्रोम एक मानसिक बीमारी नहीं है, बल्कि यह एक भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक स्थिति का वर्णन है जो बंदी स्थिति में लोगों द्वारा प्रदर्शित की जा सकती है। हालांकि इस घटना का व्यापक रूप से अध्ययन किया गया है, लेकिन शोधकर्ताओं ने इसका सटीक कारण नहीं बताया है, न ही वे निश्चित हैं कि कुछ लोगों को स्टॉकहोम सिंड्रोम क्यों होता है, जबकि अन्य को नहीं।

1 यह विचार कि यदि बंधक बनाया गया व्यक्ति अपने अपहरणकर्ता को खुश नहीं करता है, तो उसके प्रति खतरा बढ़ जाएगा।

2 तथ्य यह है कि बंधक बनाया गया व्यक्ति बाकी दुनिया से कटा हुआ है और वह अपनी स्थिति के हर पहलू को नहीं समझ सकता।

3 पीड़ित की धारणा है कि बच निकलना संभव नहीं है, इसलिए जीवित रहना (भागने के बजाय) प्राथमिकता बन जाती है।

toxic relationship ko kaise krna hai deal
स्टॉकहोम सिंड्रोम के बारे में जानना और इसके पीछे के मनोवैज्ञानिक तंत्र को समझना पीड़ितों को उनकी भावनाओं और अनुभवों को समझने में मदद कर सकता है। चित्र शटरस्टॉक।

क्यों जरूरी है इससे उबरना और कैसे

स्टॉकहोम सिंड्रोम अक्सर स्वायत्तता के नुकसान की ओर ले जाता है, जहां पीड़ित भावनात्मक और कभी-कभी शारीरिक सहायता के लिए अपने दुर्व्यवहारकर्ता पर निर्भर महसूस करने लगता है। रिकवरी से आत्म और स्वतंत्रता की भावना को लाने में मदद मिलती है।

फैमली और दोस्तो की मदद

ऐसे लोगों के साथ सहायता ग्रुप में शामिल होना जिन्होंने समान परिस्थितियों का अनुभव किया है। अनुभव और मुकाबला करने की रणनीतियों को साझा करना अविश्वसनीय रूप से फायदेमंद हो सकता है।

शिक्षा और जागरूकता

स्टॉकहोम सिंड्रोम के बारे में जानना और इसके पीछे के मनोवैज्ञानिक तंत्र को समझना पीड़ितों को उनकी भावनाओं और अनुभवों को समझने में मदद कर सकता है।

स्वस्थ संबंध बनाना

पीड़ितों को स्वस्थ संबंध विकसित करने और उनको आगे बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करना समर्थन और सकारात्मक सुदृढ़ीकरण प्रदान कर सकता है। मित्र, परिवार और सहायता समूह इस पहलू में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

ये भी पढ़े- Body contouring : बॉडी कंटूरिंग प्लान कर रही हैं, तो इसे करवाने से पहले जान लें 5 जरूरी बातें

  • 147
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख