आपकी शारीरिक समस्याएं भी कर सकती हैं मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित, यहां जाने इससे जुड़े कुछ महत्वपूर्ण फैक्ट्स

जब हम शारीरिक रूप से बीमार होते हैं तो मानसिक रूप से भी परेशान होने लगते हैं। क्या आप जानती हैं ऐसा क्यों होता है। यदि नहीं तो चलिए जानते हैं किस तरह मानसिक स्वास्थ्य और शारीरिक स्वास्थ्य एक दूसरे से जुड़े होते हैं।

effect of physical health on mental health
आपकी शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य होती है एक दूसरे से जुडी। चित्र शटरस्टॉक।
अंजलि कुमारी Published on: 12 January 2023, 20:49 pm IST
  • 129
इस खबर को सुनें

मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य एक दूसरे से जुड़े होते हैं, इसके बारे में तो आप सभी ने सुना होगा। साथ ही बहुत से ऐसे लोग भी होंगे जिन्होंने ईसे महसूस भी किया होगा। तो क्या आपने कभी जानने की कोशिश की है कि आखिर मानसिक समस्या शारीरिक स्वास्थ्य को और शारीरिक समस्या मानसिक स्वास्थ्य को किस तरह प्रभावित करती है। तो आपको कहीं दूर जाने की जरूरत नहीं है। आपकी नियमित दिनचर्या में होने वाली कुछ छोटी मोटी दिक्कतें आपके इस सवाल का स्वयं जवाब हैं। यदि आप यह नहीं समझ पा रहीं, तो चिंता न करें।

आज हम लेकर आए हैं आपके लिए इससे जुड़े कुछ जरूरी फैक्ट जिसकी जानकारी होना बहुत जरूरी है। ताकि आगे से आप अपनी सेहत के प्रति सावधानी बरतना शुरू कर दें।

एक दूसरे को कैसे प्रभावित करते हैं मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य

1. जेनेटिक्स

कई लोगों में यझ समस्या जेनेटिकली मौजूद होती है। जैसे ही आपका मानसिक स्वास्थ्य खराब होता है, तो उसका प्रभाव सीधा आपके शारीरिक स्वास्थ्य पर पड़ता है। वहीं शारीरिक स्वास्थ्य के साथ में बिल्कुल ऐसा ही होता है।

2. अंदरूनी मोटिवेशन की कमी

कभी कबार मानसिक स्वास्थ्य के प्रभावित होते ही हम ऊर्जा शक्ति खो देते हैं। जिस वजह से हम अपने शारीरिक स्वास्थ्य का ध्यान नहीं रख पाते। ऐसे में मानसिक स्वास्थ्य के साथ-साथ शारीरिक स्वास्थ्य भी प्रभावित हो जाता है।

stress can cause physical problems
हम सभी के लिए तनाव शारीरिक समस्यायों का कारण बनता है। चित्र: शटरस्टॉक

3. सपोर्ट की कमी भी स्थिति को कर देती है खराब

मानसिक स्वास्थ्य हो या शारीरिक स्वास्थ्य हो, दोनों ही केस में कई बार आसपास के लोग और परिवार के लोग ऐसे व्यक्ति को नजरअंदाज करना शुरू कर देते हैं। जो उनकी स्थिति को और ज्यादा गंभीर कर देता है। ऐसे में देखभाल की कमी के कारण कई बार मानसिक रूप से बीमार व्यक्ति शारीरिक बीमारियों का शिकार होने लगता है। वहीं शारीरिक रूप से बीमार व्यक्ति मानसिक बीमारियों से ग्रसित हो जाता है।

4. अनहेल्दी गतिविधियों में भाग लेना

जब आप मानसिक स्वास्थ्य से पीड़ित होती है, तो कई बार आप अनहेल्दी गतिविधियों में भाग लेना शुरू कर देती हैं जैसे कि ड्रिंकिंग और स्मोकिंग। यह आपके शारीरिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है।

मानसिक स्वास्थ्य खराब होने से शारीरिक स्वास्थ्य पर पड़ते है यह प्रभाव

मानसिक स्वास्थ आपके समग्र सेहत को प्रभावित कर सकता है। यदि आप एक अच्छे मेंटल स्टेट में हैं तो आप कई गंभीर शारीरिक समस्याओं को हरा सकती हैं। वहीं नेशनल लाइब्रेरी ऑफ़ मेडिसिन द्वारा किए गए अध्ययन के अनुसार पॉजिटिव साइकोलॉजिकल हेल्थ हार्ट अटैक और स्ट्रोक की संभावना को कम कर देता है।

mental depression can cause headache
डिप्रेशन बन सकता है सर दर्द का कारण। चित्र शटरस्टॉक।

1. नियमित दिनचर्या से ले सकती हैं उदहारण

शारीरिक स्वास्थ्य पर मानसिक स्वास्थ्य के प्रभाव को लेकर चौकने। वाली बात बिल्कुल भी नहीं है, क्योंकि आप अपनी रोजमर्रा की जिंदगी से उदाहरण ले सकती है। जैसे कि तनाव, डिप्रेशन, इत्यादि सिर दर्द को अपने साथ लेकर आते हैं।

इसी के साथ थकान आपको पाचन क्रिया से जुड़ी समस्याएं दे सकता है। साथ ही साथ एंग्जाइटी में कई लोग लूज मोशन जैसी समस्या का सामना करते हैं। वहीं डिप्रेशन एंजायटी में नींद की कमी, बॉडी पेन और अन्य शारीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

2. सिजोफ्रेनिया है खतरनाक

सिजोफ्रेनिया एक प्रकार की मानसिक बीमारी है जिसमें हार्ट और रेस्पिरेट्री समस्याएं होने की संभावना बनी रहती है।

3. नींद को करता है प्रभावित

पब मेड सेंट्रल की माने तो मानसिक तौर पर बीमार लोगों को नींद से जुड़ी समस्या जैसे कि इनसोम्निया और स्लीप एपनिया का सामना करना पड़ता है। इनसोम्निया की समस्या में आमतौर पर व्यक्ति को कम नींद आती है। साथ ही वह कभी कभी पूरी रात नहीं सोते।

साथ ही एपनिया में सांस से जुड़ी समस्या होती है, जिसकी वजह से व्यक्ति बार बार सांस रुकने की वजह से सोते-सोते बीच में उठ जाता है। नींद की कमी त्वचा, बाल, से जुडी समस्यायों का एक बड़ा कारण होती है। वहीं यह समग्र सेहत को नुकसान पहुंचा सकती है।

विश्व में नींद की समस्या से पीड़ित व्यक्ति में से 50 से 80% व्यक्ति मानसिक रूप से बीमार हैं। वहीं 10 से 18% लोग ऐसे है जो बिना किसी मानसिक बीमारी के नींद से जुड़ी समस्या का अनुभव कर रहे हैं।

4. स्मोकिंग और ड्रिंकिंग की समस्या

किए गए एक अध्ययन के अनुसार मानसिक रूप से बीमार व्यक्ति एक सामान्य व्यक्ति की तुलना में ज्यादा स्मोकिंग करता है। वहीं स्मोकिंग आपके शारीरिक स्वास्थ्य को बुरी तरह प्रभावित कर सकता है।

heart problem can cause stress
दिल से जुडी समस्या बन सकती है तनाव का कारण। चित्र शटरस्टॉक।

जानें शारीरिक स्वास्थ्य से मानसिक स्वास्थ्य पर होने वाले प्रभाव

आपका शारीरिक स्वास्थ्य मानसिक स्वास्थ्य को बुरी तरह प्रभावित कर सकता है। जो लोग शारीरिक स्वास्थ्य से पीड़ित है उन्हें मानसिक रूप से भी कई प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

सोरायसिस त्वचा से जुड़ी एक प्रकार की समस्या है जिसमें त्वचा पर लाल रंग के घाव हो जाते हैं जो काफी ज्यादा दर्दनाक होते हैं। जिस वजह से तनाव और डिप्रेशन जैसी समस्याएं होने की संभावना बनी रहती है। यह बीमारी इमोशनल और साइकोलॉजिकल हेल्थ को भी प्रभावित करती है।

इसी के साथ कैंसर और दिल से जुड़ी बीमारियां भी मानसिक स्वास्थ्य पर बुरा असर डालती है। क्योंकि इस दौरान डिप्रेशन और एंग्जाइटी होने की संभावना काफी ज्यादा होती है। वहीं एक रिसर्च में कैंसर से जुझ रहे कइ व्यक्ति में डिप्रेशन की गंभीर स्थिति देखने को मिली। साथ ही लो मूड, नींद से जुड़ी समस्याएं और सभी गतिविधियों से मन हटने जैसी परेशानी भी सामने आई।

यह भी पढ़ें :  काले और सफेद दोनों ही तिल हैं सेहत के लिए खास, इस तरह करें इन्हें अपनी डाइट में शामिल

  • 129
लेखक के बारे में
अंजलि कुमारी अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें