6 साल की उम्र में कंगना को करना पड़ा था यौन शोषण का सामना, जरूरी है बच्चों से इस बारे में बात करना

Updated on: 26 April 2022, 20:32 pm IST

बाल यौन उत्पीड़न माह और कंगना के साथ हुए इस दुर्व्यवहार के खुलासे के बाद अगर आप भी एक मां होने के नाते चिंतित हैं, तो परेशान न हों। क्योंकि चिंता समाधान नहीं है।

kangana ko bhi karna pada tha child sex abuse ka samna
6 साल की उम्र में कंगना को करना पड़ा था यौन उत्पीड़न का सामना । चित्र : Insta/ Kanganaranaut

कंगना ने खुलासा किया है कि 6 साल की उम्र में उनका यौन उत्पीड़न किया गया। इस तरह की ख़बरें दरअसल, बतौर पेरेंट आपके लिए एक अलार्म है सचेत होने के लिए। ताकि आपके बच्चे को ऐसी किसी भी बुरे अनुभव से न गुजरना पड़े।

कुछ लोग कंगना को उसके जिद्दी स्वभाव के कारण पसंद करते हैं। तो कुछ उनसे नफरत कर सकते हैं, लेकिन उनकी खासियत यह है कि वे अपनी बात खुलकर सबके सामने रखना जानती हैं। हाल ही में, मणिकर्णिका अभिनेत्री ने जिस तरह बहादुरी से बचपन में हुए अपने यौन उत्पीड़न की पीड़ा सुनाई उसने सभी को सदमे में डाल दिया। एक रियलिटी शो में कंगना ने खुलासा किया कि उन्हें 6 साल की उम्र में उनके होमटाउन में एक जवान लड़के ने अनुचित तरीके से छुआ था।

शो के हालिया एपिसोड में एक्ट्रेस ने कहा, ‘हम सभी को कभी न कभी गलत तरीके से छुआ गया है। मैंने भी इस स्थिति का सामना किया है। मैं तब बच्ची थी और हमारे शहर का एक कम उम्र का लड़का मुझे गलत तरीके से छूता था। उस समय, मुझे नहीं पता था कि इसका क्या मतलब है। आपका परिवार कितना भी सुरक्षात्मक क्यों न हो, सभी बच्चे इससे गुजरते हैं।”

जरूरी है बाल यौन जागरुकता 

अप्रैल महीने को बाल यौन जागरूकता (Child sex awareness month) महीने के रूप में मनाया जाता है। इस महीने में कंगना के किए गए इस दर्दनाक खुलासे ने इसे और प्रासंगिक बना दिया है। कंगना आगे कहती है, “इन सब के बीच जो सबसे अजीब बात है वह यह कि आपको इसके लिए दोषी महसूस कराया जाता है। हमारे समाज में बच्चों के लिए एक बहुत बड़ी विडंबना है। बचपन में होने वाली ऐसी घटना में बच्चे मानसिक रूप से प्रताड़ित होते हैं और जीवन भर के लिए उनका मन जख्मी हो जाता है।

child sex abuse par bat karna zaruri hai
अपने बच्चों से गुड और बैड टच पर बात करना जरूरी है

उन्हें जीवन में ऐसी कई अंतहीन परेशानियों का सामना करना पड़ता है। वह आदमी मुझसे तीन-चार साल बड़ा था, शायद वह अपनी कामुकता तलाश रहा था। वह मुझे फोन करता, कपड़े उतारने और जांचने के लिए कहता था। पर कम उम्र के कारण उस समय यह नहीं समझ आया।”

बाल यौन उत्पीड़न माह और कंगना के साथ हुए इस दुर्व्यवहार के खुलासे के बाद अगर आप भी एक मां होने के नाते चिंतित हैं, तो परेशान न हों। क्योंकि चिंता समाधान नहीं है। इसलिए जरूरी है कि आप अपने बच्चे को अच्छे और बुरे स्पर्श के बारे में सिखाएं। यही आपके बच्चों को अपने बारे में जागरूक होने में मदद करेगा।

चाइल्ड केयर स्पेशलिस्ट, बाल विकास और पालन-पोषण विशेषज्ञ डॉ कृति इसरानी ने हेल्थ शॉट्स से इस बारे में बात की और बताया कि हम बच्चों को यौन उत्पीड़न से कैसे सुरक्षित रख सकते हैं।

एक्सपर्ट ने यहां कुछ बातें बताई हैं, जिन्हें आपको अपने बच्चे के साथ शेयर करना चाहिए 

1. सहमति

इसरानी कहती हैं, “अगर हम अपने बच्चों को सुरक्षित, असुरक्षित स्पर्श के बारे में सिखाएं, वे स्वयं के बारे में, चुनाव करने के बारे में जागरूकता की भावना विकसित करते हैं। वे सहमति के महत्व और उसमें निहित शक्ति को सीखते हैं। जब वे असहज महसूस करते हैं तो वे ‘नहीं’ कहना सीखते हैं ।”

2. सीमाएं

जब बच्चों को सीमाओं से अवगत कराया जाता है – वे क्या हैं और वे क्यों आवश्यक हैं, तो उनमें दूसरों की सीमाओं का सम्मान करने और उल्लंघन होने पर अपनी रक्षा करने के लिए समझ की भावना विकसित होती है।

3. उनकी प्रवृत्ति का सम्मान करें

गुड टच और बैड टच के बारे में जागरूकता बच्चों को अपने आंतरिक स्व से जुड़ने में मदद करती है और परिस्थितियों में उनकी आंतरिक प्रवृत्ति का पालन करती है। हम उन्हें सिखाते हैं कि उन्हें सुनना और खुद पर विश्वास करना सीखना चाहिए। बजाय इसके कि दूसरे उन्हें क्या करने के लिए कहें।

4. सुरक्षा का अर्थ

बच्चे ‘सुरक्षित’ शब्द का अर्थ विकसित करते हैं, सुरक्षा से जुड़ी भावनाएं क्या हैं, और वे असुरक्षित और सुरक्षित भावनाओं के बीच अंतर कैसे कर सकते हैं। असुरक्षित और सुरक्षित स्पर्श के बारे में सीखने से बच्चों में सुरक्षा की अधिक भावना विकसित होती है।

5. शरीर के अंगों के बारे में जागरूकता

जैसे-जैसे बच्चे सुरक्षित स्पर्श के बारे में सीखते हैं, वे अपने शरीर के अंगों, उन हिस्सों से जुड़ी भावनाओं और किन हिस्सों को “निजी” माना जाता है, के बारे में अधिक जागरूक हो जाते हैं। यह उन्हें उनके आंदोलनों, कार्यों और व्यवहारों के बारे में समग्र रूप से अधिक जागरूक बनाता है।

6. पेरेंट्स और बच्चों की बॉन्डिंग को मजबूत करें 

जब माता-पिता बच्चों को अभिव्यक्त करने के लिए एक सुरक्षित जगह बनाते हैं और उन्हें असहज भावनाओं को साझा करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं, तो दोनों एक अटूट अंतरंग बंधन विकसित करते हैं।

डॉ इसरानी कहती हैं, “बच्चे सीखते हैं कि चाहे कुछ भी हो, उनके पास उनके माता-पिता हैं, जो जीवन भर उनका समर्थन और रक्षा करते हैं। इससे उन्हें अधिक आत्मविश्वास और सुरक्षा की अधिक भावना विकसित करने में मदद मिलती है।”

7. बिना शर्त प्यार और सम्मान

बच्चे सीखते हैं कि जीवन में बदलाव के बावजूद, उन्हें अपने माता-पिता से बिना शर्त प्यार और समर्थन मिलेगा। वे अपने माता-पिता के साथ अपने संबंधों के लिए एक गहरा मूल्य और सम्मान विकसित करते हैं।

bachcho se khulkar bat karna zaruri hai
बच्चों के साथ बॉन्डिंग मजबूत करने से उनका आप पर विश्वास बढ़ता है। चित्र: शटरस्टॉक

दुनिया में बढ़ते बच्चों के रूप में, अभिभावकों के समर्थन से उन्हें अपनी योग्यता का एहसास करने में मदद मिलती है और जब वे निराश या शारीरिक या भावनात्मक रूप से परेशानी महसूस करते हैं तो वे लड़ते हैं।

हालांकि कंगना हमेशा कई सामाजिक मुद्दों की अगुआ रही हैं, इसके बावजूद उनके लिए यौन शोषण और इसके कारण होने वाले वर्षों के आघात के बारे में बोलना मुश्किल भरा रहा है। हम इस पर उनके साहसी रुख और बाल यौन उत्पीड़न के बारे में अधिक जागरूकता बढ़ाने के लिए उनकी सराहना करते हैं।

यह आपका भी कर्तव्य है कि आप अपने बच्चों को इसके बारे में शिक्षित करें और जब भी संभव हो उनके साथ खुली बातचीत करें।

यह भी पढ़ें – इन संकेतों से पहचानिए, कहीं आपके ऑफिस का माहौल ही तो नहीं आपकी मेंटल हेल्थ का दुश्मन

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें